विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Sep 28, 2022

Maa Durga Weapons: क्या आपको पता है मां दुर्गा के हाथों में अस्त्र-शस्त्र कहां से आए, यहां जानें

Maa Durga Weapons: मान्यतानुसार, मां दुर्गा ने महिषासुर राक्षस का वध किया था. जिस वजह से में मां दुर्गा का नाम महिषासुर मर्दिनी पड़ा. मां दुर्गा के हाथों में अस्त्र-शस्त्र इन देवताओं ने प्रदान किए.

Read Time: 4 mins
Maa Durga Weapons: क्या आपको पता है मां दुर्गा के हाथों में अस्त्र-शस्त्र कहां से आए, यहां जानें
Maa Durga Weapons: मां दुर्गा के अस्त्र-शस्त्र का खास महत्व है.

Maa Durga Weapons: इस साल शारदीय नवरात्रि की शुरुआत 26 सितंबर, सोमवार से हो चुकी है. इस दौरान मां दुर्गा (Maa Durga) के 9 स्वरूप की पूजा होगी. मां दुर्गा का जो स्वरूप है उसमें उनके हाथों में अलग-अलग अस्त्र-शस्त्र (Maa Durga Weapons) हैं. मार्कंडेय पुराण के अनुसार, मां दुर्गा के 8 हाथों में स्थित विभिन्न प्रकार के अस्त्र और शस्त्र का खास महत्व है. लेकिन क्या आपको पता है कि मां दुर्गा का हाथों में ये अस्त्र-शस्त्र कहां से आए. पौराणिक कथा के अनुसार, जब मधुकैटभ और रक्तबीज जैसे दानवों का संहार करने के लिए मां दुर्गा का प्रदुर्भाव हुआ तो विभिन्न देवी-देवताओं ने उन्हें अपने-अपने अस्त्र-शस्त्र प्रदान किए. आइए जानते हैं मां दुर्गा का अस्त्र-शस्त्र का क्या महत्व है. 

इन देवताओं ने मां दुर्गा को प्रदान किए अस्त्र-शस्त्र

शंख- मार्कंडेय पुराण के अनुसार, वरुण देव ने मां दुर्गा के हाथों में शंख प्रदान किए. कहा जाता है कि मां दुर्गा के शंख की ध्वनि से कई असुरों का नाश हुआ था. मान्यतानुसार, शंख की ध्वनि वारावरण में मौजूद नकारात्मक ऊर्जा को नष्ट करती है. 

त्रिशूल- पौराणिक ग्रंथों के अनुसार, भगवान शिव नें मां दुर्गा को त्रिशूल भेंट किए. कहा जाता है कि माता के हाथों में स्थित त्रिशूल के तीन शूल सत्व, रजस और तमस गुणों के प्रतीक हैं. मां दुर्गा ने इन तीनों का संतुलन कर पूरी सृष्टि का संचालन किया था. साथ ही मां ने इसी त्रिशूल से महिषासुर नामक राक्षस का वध का किया था. 

धनुष और बाण- मार्कण्डेय पुराण के अनुसार, सूर्य देव और पवन देव ने मां दुर्गा को धनुष और बाण प्रदान किए थे. ये दोनों ही अस्त्र-शस्त्र उर्जा के प्रतीक माने जाते हैं. 

Shardiya Navratri 2022: शारदीय नवरात्रि में कभी भी जपें मां दुर्गा के प्रभावशाली मंत्र, मिलेगा सौभाग्य और धन!

वज्र- मां दुर्गा हाथ में वज्र इंद्र देव की कृपा से प्राप्त हुआ. यानी इंद्रदेव ने ही मां दुर्गा को वज्र प्रदान किया. वज्र को मजबूत इच्छाशक्ति का प्रतीक माना  जाता है. कहा जाता है कि मां दुर्गा भक्तों को आत्मविश्वास और इच्छाशक्ति प्रदान करती हैं. 

तलवार- पौराणिक कथा के अनुसार, भगवान गणेश ने मां दुर्गा को तलवार प्रदान किए. मान्यता है कि मां दुर्गा के तलवार की धार बुद्धि की तीक्ष्णता का प्रतीक है, जबकि तलवार की चमक ज्ञान का प्रतिनिधित्व करती है. 

फरसा- मां दुर्गा के हाथ में स्थित फरसा, भगवान विश्वकर्मा ने प्रदान किए. फरसा को बुराई से लड़ने का प्रतीक माना जाता है.  

भाला- अग्नि देव ने मां दुर्गा के हाथ में भाला प्रदान किए. जिसे उग्र शक्ति और शुभता का प्रतीक माना जाता है. 

Navratri 2022: नवरात्रि में मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए ये 4 उपाय हैं खास, परेशानियां हो सकती हैं दूर

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. एनडीटीवी इसकी पुष्टि नहीं करता है.)

राजस्थान: दुर्गा पूजा की तैयारियां शुरू, बनाई जा रही हैं मां की मूर्तियां

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
भगवान विष्णु की विधि विधान से करें पूजा और जरूर चढ़ाएं उनके प्रिय ये 3 फूल, पूरी होगी मनोकामना
Maa Durga Weapons: क्या आपको पता है मां दुर्गा के हाथों में अस्त्र-शस्त्र कहां से आए, यहां जानें
आज मासिक शिवरात्रि पर बन रहे हैं 4 खास योग, मान्यतानुसार भगवान शिव की अराधना से दूर हो जाएंगे सभी कष्ट
Next Article
आज मासिक शिवरात्रि पर बन रहे हैं 4 खास योग, मान्यतानुसार भगवान शिव की अराधना से दूर हो जाएंगे सभी कष्ट
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;