Maa Laxmi Chalisa: आज शुक्रवार को करें श्री लक्ष्मी चालीसा का पाठ, सुख-सौभाग्य का हो सकता है आगमन

आज के दिन माता लक्ष्मी को कमल या फिर लाल गुलाब का फूल अर्पित करना शुभ माना जाता है. इसके साथ ही पूजा के समय देवी मां को सफेद मिठाई या फिर खीर का भोग लगाया जाता है. पूजा के समय में श्री लक्ष्मी चालीसा का पाठ करना भी उत्तम माना जाता है. 

Maa Laxmi Chalisa: आज शुक्रवार को करें श्री लक्ष्मी चालीसा का पाठ, सुख-सौभाग्य का हो सकता है आगमन

Maa Laxmi Chalisa: श्री लक्ष्मी चालीसा का पाठ करने से मिल सकती है अधिष्ठात्री देवी की कृपा

नई दिल्ली:

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, प्रत्येक दिन अलग-अलग देवी-देवताओं को समर्पित किया जाता है. इसी तरह से शुक्रवार का दिन धन और यश की देवी मां लक्ष्मी (Laxmi Pujan) को समर्पित है. इस देवी की उपासना की जाती है. मान्यता है कि इस दिन माता को प्रसन्न करने के लिए पूजा के समय खीर का भोग लगाया जाता है. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, सप्ताह में शुक्रवार का दिन लक्ष्मी पूजा (Laxmi Puja) के लिए विशेष शुभ माना जाता है. कहते हैं मां लक्ष्मी उसी घर में वास करती हैं, जहां साफ-सफाई का ध्यान रखा जाता है. मान्यता है कि इस दिन माता लक्ष्मी और मां संतोषी की पूजा-उपासना करने से व्यक्ति के जीवन में सुख-समृद्धि और वैभव का आगमन होता है. आज के दिन माता लक्ष्मी को कमल का फूल या फिर लाल गुलाब का फूल अर्पित करना शुभ माना जाता है. इसके साथ ही पूजा के समय देवी मां को सफेद मिठाई या फिर खीर का भोग लगाया जाता है. पूजा के समय में श्री लक्ष्मी चालीसा का पाठ करना भी उत्तम माना जाता है. 

k26da158

श्री लक्ष्मी चालीसा | Shree Lakshmi Chalisa

॥ दोहा ॥

मातु लक्ष्मी करि कृपा करो हृदय में वास।
मनोकामना सिद्ध कर पुरवहु मेरी आस॥
सिंधु सुता विष्णुप्रिये नत शिर बारंबार।
ऋद्धि सिद्धि मंगलप्रदे नत शिर बारंबार॥ टेक॥

vf5v2tp

॥ सोरठा॥

यही मोर अरदास, हाथ जोड़ विनती करुं।
सब विधि करौ सुवास, जय जननि जगदंबिका॥

॥ चौपाई ॥

सिन्धु सुता मैं सुमिरौ तोही।
ज्ञान बुद्घि विघा दो मोही॥

ofsd3n1g

श्री लक्ष्मी चालीसा

तुम समान नहिं कोई उपकारी। सब विधि पुरवहु आस हमारी॥
जय जय जगत जननि जगदंबा सबकी तुम ही हो अवलंबा॥1॥  

तुम ही हो सब घट घट वासी। विनती यही हमारी खासी॥
जगजननी जय सिन्धु कुमारी। दीनन की तुम हो हितकारी॥2॥

विनवौं नित्य तुमहिं महारानी। कृपा करौ जग जननि भवानी॥
केहि विधि स्तुति करौं तिहारी। सुधि लीजै अपराध बिसारी॥3॥

कृपा दृष्टि चितववो मम ओरी। जगजननी विनती सुन मोरी॥
ज्ञान बुद्घि जय सुख की दाता। संकट हरो हमारी माता॥4॥

क्षीरसिन्धु जब विष्णु मथायो। चौदह रत्न सिन्धु में पायो॥
चौदह रत्न में तुम सुखरासी। सेवा कियो प्रभु बनि दासी॥5॥

ddfppfd8

जब जब जन्म जहां प्रभु लीन्हा। रुप बदल तहं सेवा कीन्हा॥
स्वयं विष्णु जब नर तनु धारा। लीन्हेउ अवधपुरी अवतारा॥6॥

तब तुम प्रगट जनकपुर माहीं। सेवा कियो हृदय पुलकाहीं॥
अपनाया तोहि अन्तर्यामी। विश्व विदित त्रिभुवन की स्वामी॥7॥

तुम सम प्रबल शक्ति नहीं आनी। कहं लौ महिमा कहौं बखानी॥
मन क्रम वचन करै सेवकाई। मन इच्छित वांछित फल पाई॥8॥

तजि छल कपट और चतुराई। पूजहिं विविध भांति मनलाई॥
और हाल मैं कहौं बुझाई। जो यह पाठ करै मन लाई॥9॥

ताको कोई कष्ट नोई। मन इच्छित पावै फल सोई॥
त्राहि त्राहि जय दुःख निवारिणि। त्रिविध ताप भव बंधन हारिणी॥10॥

segqho4o

जो चालीसा पढ़ै पढ़ावै। ध्यान लगाकर सुनै सुनावै॥
ताकौ कोई न रोग सतावै। पुत्र आदि धन सम्पत्ति पावै॥11॥

पुत्रहीन अरु संपति हीना। अन्ध बधिर कोढ़ी अति दीना॥
विप्र बोलाय कै पाठ करावै। शंका दिल में कभी न लावै॥12॥

पाठ करावै दिन चालीसा। ता पर कृपा करैं गौरीसा॥
सुख सम्पत्ति बहुत सी पावै। कमी नहीं काहू की आवै॥13॥

बारह मास करै जो पूजा। तेहि सम धन्य और नहिं दूजा॥
प्रतिदिन पाठ करै मन माही। उन सम कोइ जग में कहुं नाहीं॥14॥

बहुविधि क्या मैं करौं बड़ाई। लेय परीक्षा ध्यान लगाई॥
करि विश्वास करै व्रत नेमा। होय सिद्घ उपजै उर प्रेमा॥15॥

l5erefn8

जय जय जय लक्ष्मी भवानी। सब में व्यापित हो गुण खानी॥
तुम्हरो तेज प्रबल जग माहीं। तुम सम कोउ दयालु कहुं नाहिं॥16॥

मोहि अनाथ की सुधि अब लीजै। संकट काटि भक्ति मोहि दीजै॥
भूल चूक करि क्षमा हमारी। दर्शन दजै दशा निहारी॥17॥

बिन दर्शन व्याकुल अधिकारी। तुमहि अछत दुःख सहते भारी॥
नहिं मोहिं ज्ञान बुद्घि है तन में। सब जानत हो अपने मन में॥18॥

रुप चतुर्भुज करके धारण। कष्ट मोर अब करहु निवारण॥
केहि प्रकार मैं करौं बड़ाई। ज्ञान बुद्घि मोहि नहिं अधिकाई॥19॥

6fkupido

॥ दोहा॥

त्राहि त्राहि दुख हारिणी, हरो वेगि सब त्रास। जयति जयति जय लक्ष्मी, करो शत्रु को नाश॥
रामदास धरि ध्यान नित, विनय करत कर जोर। मातु लक्ष्मी दास पर, करहु दया की कोर॥

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. एनडीटीवी इसकी पुष्टि नहीं करता है.)