पुरी के जगन्नाथ मंदिर में अब भक्त नहीं पहन सकेंगे फटी जींस और स्कर्ट, लागू होगा नया ड्रेस कोड

श्री जगन्नाथ मंदिर में अब नहीं मिलेगी लोगों को पारदर्शी कपड़े, फटी हुई जींस जैसे कपड़े पहन कर जाने की इजाजत.

पुरी के जगन्नाथ मंदिर में अब भक्त नहीं पहन सकेंगे फटी जींस और स्कर्ट, लागू होगा नया ड्रेस कोड

Puri Temple Dress Code: जगन्नाथ मंदिर में लागू हुआ ड्रेस कोड.

खास बातें

  • जगन्नाथ मंदिर में लागू हुआ ड्रेस कोड.
  • जान लें मंदिर में क्या पहन कर नहीं जान सकते.
  • यहां जानिए किन कपड़ों पर लगी है रोक.

Bhubaneswar:  पुरी में श्री जगन्नाथ मंदिर प्रशासन (एसजेटीए) ने एक जनवरी, 2024 से निक्कर, पारदर्शी वस्त्र, फटी हुई जींस जैसे अनुचित कपड़ों में आने वाले श्रद्धालुओं को होत्साहित करने का फैसला किया है.
हालांकि मंदिर प्रशासन ने कोई विशिष्ट ‘ड्रेस कोड' लागू नहीं किया है, लेकिन उसने पुरुष श्रद्धालुओं के लिए पैंट, शर्ट और धोती और महिलाओं के लिए साड़ी, सलवार-कमीज जैसी सभ्य पोशाक पहनने का सुझाव दिया.

Mumbai : नवरात्र और छठ पूजा के लिए BMC ने शुरू कीं तैयारियां, ये मिलेंगी सुविधाएं
Latest and Breaking News on NDTV
  • एसजेटीए के मुख्य प्रशासक रामजन कुमार दास ने एक परामर्श में कहा, “हालांकि मंदिर प्रशासन ने वस्त्रों को लेकर कोई सूची निर्धारित नहीं की है, हम इसे श्रद्धालुओं के विवेक पर छोड़ते हैं कि पुरुष पैंट, शर्ट, चूड़ीदार-पंजाबी और धोती और महिलाएं साड़ी, सलवार-कमीज आदि पहनें.”
  • परामर्श में कहा गया है कि समूचे भारत और विदेशों में विभिन्न धर्मों के धार्मिक स्थलों पर श्रद्धालुओं के लिए स्वयं के ‘ड्रेस कोड' हैं और इसी तरह के ड्रेस कोड को पुरी में भी विद्वान, पुजारी और भगवान जगन्नाथ के श्रद्धालु लागू करने की मांग कर रहे है.
  • दास ने कहा कि एसजेटीए की हाल ही में हुई नीति उप समिति की बैठक में सभी श्रद्धालुओं से पवित्रता बनाए रखते हुए शालीन वेशभूषा में आने का आग्रह करने का प्रस्ताव रखा गया.
  • एसजेटीए के मुख्य प्रशासक ने कहा, 'निक्कर, पारदर्शी और भड़कीले वस्त्र, फटी हुई जींस और अन्य अनुचित वेशभूषा में आने वाले लोगों को हतोत्साहित किया जाना चाहिए.'
  • उन्होंने कहा कि अनेक श्रद्धालु होटलों और 'गेस्ट हाउस' में ठहरते हैं और इस तरह से ये मंदिर में आने से पूर्व के प्राथमिक बिंदु हैं. उन्होंने कहा कि इसलिए हम आप से (होटल संगठनों से) आग्रह करते हैं कि आप अपने कर्मचारियों, टूरिस्ट गाइड को जानकारी दें कि वे इस संबंध में श्रद्धालुओं को जागरुक करें.



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com