Ind vs Eng 5th T20I: इंग्लैंड को 36 रन से हराकर भारत बना सीरीज का सिकंदर, 3-2 से किया कब्जा

IND vs ENG 5th T20i: इससे पहले मेजबान टीम विराट ने इंग्लैंड के सामने जीत के लिए 225 रनों का विशाल लक्ष्य रखा.और टीम इंडिया को इस विशाल लक्ष्य तक पहुंचाने में अहम योगदान दिया कप्तान विराट कोहली (नाबाद 80 रन, 52 गेंद, 7 चौके, 2 छक्के) के बेहतरीन नाबाद अर्द्धशतक ने. कप्तान को अच्छा सहारा दिया ओपनर रोहित शर्मा (64), सूर्यकुमार यादव (32) और हार्द्क पंड्या (नाबाद 39) ने. पांचवें मैच की इस बैटिंग पिच पर पहले ही ओवर से सभी भारतीय बल्लेबाजों ने "एक ही सुर" में बैटिंग की.

Ind vs Eng 5th T20I: इंग्लैंड को 36 रन से हराकर भारत बना सीरीज का सिकंदर, 3-2 से किया कब्जा

Ind vs Eng T20I: विराट ने निर्णायक मुकाबले में एक बेहतरीन पारी खेली और वह मैन ऑफ द सीरीज चुने गए

खास बातें

  • भुवनेश्वर कुमार बने मैन ऑफ द मैच
  • कप्तान विराट कोहली मैन ऑफ द सीरीज
  • विराट कोहली ने खेली नाबाद 80 रन की पारी
अहमदाबाद:

India vs England 5th T20: भारत और इंग्लैंड के बीच अहमदाबाद के नरेंद्र मोदी स्टेडियम में इंग्लैंड के खिलाफ खेले गए पांच टी20 मैचों की सीरीज के आखिरी और निर्णायक मुकाबले में टीम विराट ने अंग्रेजों को 36 रन के विशाल अंतर से शिकस्त देते हुए सीरीज पर 2-1 से कब्जा कर लिया. वास्तव में इंग्लैंड से पहले बैटिंग का न्योता पाने के बाद भारत ने कप्तान विराट कोहली (नाबाद 80) और रोहित शर्मा (64) की पारियों से इंग्लैंड के सामने 225 का ऐसा विसाल लक्ष्य रखा, जो मेहमान टीम के लिए कहीं बड़ा साबित हुआ. इस  बड़े स्कोर के दबाव तले इंग्लैंड की शुरुआत खराब रही और पहले ही ओवर में जेसन रॉय बोल्ड होकर और बिना खाता खोले वापस लौट गए हैं, लेकिन इसके बाद से डेविड मलान और जोस बटलर ने बेहतरीन बल्लेबाजी करते हुए दूसरे विकेट के लिए 130 रन की साझेदारी करते हुए इंग्लैंड को उम्मीदों के ट्रैक पर बरकरार रखा. मलान ने फॉर्म हासिल करते हुए 33 गेंदों पर अर्द्धशतक बनाया, तो दूसरे छोर पर जोस बटलर ने भी 30 गेंदों पर अर्द्धशतक बनाया. बटलर 41 गेंदों पर 65 रन बनाकर आउट हुए और उनका विकेट भी भुवनेश्वर कुमार ने चटकाया.और  जब 15वां ओवर लेकर शार्दूल ठाकुर आए, तो उन्होंने एक ही ओवर में इंग्लैंड को दो बड़े झटके दिए. पहले जॉनी बैर्यस्टो ठाकुर को रूम बनाकर शॉट खेलने की कोशिश में स्वीवर कवर में लपके गए, तो  इसी ओवर में जमकर खेल रहे डेविड मलान को ठाकुर ने बोल्ड कर दिया.

SCORE BOARD

इंग्लिश टीम इस सदमे से उबरी भी नहीं थी कि हार्दिक पंड्या के अगले ही ओवर में इंग्लिश कप्तान सिर्फ एक रन बनाकर पुल खेलने की कोशिश में आउट हो गए. जब तक आतिशी बेन स्टोक्स क्रीज पर आए, रन औसत का बोझ बहुत ही ज्यादा बढ़ चुका था और मैच तकरीबन इंग्लैंड के हाथ से निकल चुका था. वास्तव में बेन स्टोक्स हारे हुए परिदृश्य में लड़ाई लड़ने उतरे थे. वह ज्यादा कुछ करने की स्थिति में नहीं थे और टी. नटराज ने भी उन्हें 19वें ओवर में पंत के हाथों लपकवाकर इंग्लैंड को छठा झटका दिया, तो 19वें ओवर में जोफ्रा आर्चर रन आउट होकर वापस लौट गए, तो शार्दूल ठाकुर ने आखिरी ओवर में क्रिस जॉर्डन को आउट करके अपना तीसरा विकेट चटकाया. कुल मिलाकर इंग्लिश टीम कोटे के 20 ओवरों में 8 विकेट पर 188 रन बना सकी और भारत ने सबसे जरूरत के मौके पर अपने खेल का स्तर ऊंचा करते हुए उसे 36 रन से मात तेकर सीरीज पर 3-2 से कब्जा कर लिया. एक समय टीम विराट सीरीज में 1-2 ेपिछड़ रही थी, लेकिन टीम के बेहतरीन खेल ने अंग्रेजों को आखिरी दो में से एक भी मुकाबला नहीं जीतने दिया, जो इस टीम के रवैये और जीतने की भूख के बारे में बताता है. भुवनेश्वर कुमार को मैन ऑफ द मैच और विराट कोहली को मैन ऑफ द सीरीज चुना गया.

इंग्लैड ने भी भुनाया पावर-प्ले!

भुवनेश्वर कुमार ने इंग्लैंड को पारी की दूसरी ही गेंद जेसन रॉय को बोल्ड कर बड़ा झटका दिया. दूसरी ही गेंद पर कदमों का इस्तेमाल कर भुवी को उड़ाने की कोशिश की रॉय ने लेकिन उन्हें लेने के देने पड़ गए. लेकिन इस विकेट का जोस बटलर पर कोई असर नहीं पड़ा और न ही डेविड मलान पर. पंड्या दूसरा ओवर लेकर आए, तो मलान ने इस ओवर में एक छक्का और दो चौके जड़कर उनका हार्दिक स्वागत किया. अगले ओवरों में बटलर ने निशाना बनाया वॉशिंगटन सुंदर और शार्दूल ठाकुर को. सुंदर के फेंके चौथे ओवर में दो बेहतरीन चौके जड़े, तो अगले ओवर में ठाकुर को एक छक्का और चौका लगाकर बटलर ने इरादे साफ कर दिए. कुल मिलाकर इंग्लैंड पावर-प्ले के शुरुआती छह ओवरों में भारत से आगे निकलने में कामयाब रहा. बस अंतर एक विकेट का रहा. भारत का स्कोर 6 ओवरों में बिना नुकसान के 60 रन था, तो इंग्लैंड 1 विकेट पर 62 रन बनाने में सफल रहा.

इससे पहले मेजबान टीम विराट ने इंग्लैंड के सामने जीत के लिए 225 रनों का विशाल लक्ष्य रखा.और टीम इंडिया को इस विशाल लक्ष्य तक पहुंचाने में अहम योगदान दिया कप्तान विराट कोहली (नाबाद 80 रन, 52 गेंद, 7 चौके, 2 छक्के) के बेहतरीन नाबाद अर्द्धशतक ने. कप्तान को अच्छा सहारा दिया ओपनर रोहित शर्मा (64), सूर्यकुमार यादव (32) और हार्द्क पंड्या (नाबाद 39) ने. पांचवें मैच की इस बैटिंग पिच पर पहले ही ओवर से सभी भारतीय बल्लेबाजों ने "एक ही सुर" में बैटिंग की. इसका नतीजा यह रहा कि टीम विराट कोटे के 20 ओवरों में सिर्फ 2 विकेट के नुकसान पर 224 के स्कोर तक पहुंचने में सफल रही. भारत की मुख्य बल्लेबाजी ओपनरों विराट और रोहित के इर्द-गिर्द रही. विराट कोहली और रोहित शर्मा ने भारत को बेहतरीन शुरुआत दी. रोहित शर्मा के रूप में पहला विकेट गिरने से पहले उन्होंने विराट के साथ पहले विकेट के लिए 94 रन की साझेदारी की. 

अब जबकि केएल राहुल इस मुकाबले में नहीं खेल रहे हैं, तो कप्तान विराट कोहली ने इस सीरीज टाइटल के मुकाबले में पारी शुरू करने का फैसला किया. और उन्होंने और रोहित शर्मा ने मिलकर टीम को बहुत ही जबर्दस्त शुरुआत दी. इन दोनों ने पावर-प्ले के शुरुआती छह ओवरों में पावरफुल खेल दिखाते हुए पहले विकेट के लिए 60 रन जोड़ डाले. रोहित शर्मा ने सिर्फ 30 गेंदों पर आतिशी अर्द्धशतक जड़ा और इसके बाद वह 64 रन बनाकर आउट हो गए. अगले बल्लेबाज सूर्यकुमार यादव ने मानो वहीं से शुरुआत कही, जहां उन्होंने पिछले मुकाबले में छोड़ा था. सूर्यकुमार ने 17 गेंदों पर बेहतरीन 32 रन बनाए. वह दुर्भाग्यशाली रहे कि जॉर्डन ने एक बेहतरीन कैच लपककर उनकी पारी का अंत कर दिया. आखिरी ओवरों में हार्दिक पंड्या और कप्तान विराट कोहली ने अच्छे हाथ दिखाए. 

दिल और भरोसा दोनों लूट ले गए सूर्यकुमार !

मुंबई के इस बल्लेबाज ने मानो वहीं से शुरुआत की, जहां उन्होंने पिछले मुकाबले में छोड़ा था. 10वे ओवर में सूर्यकुमार को पहली गेंद का  सामना करने का मौका मिला, तो आदिल राशिद को कदमों का इस्तेमाल करते हुए सामने छक्का जड़ दिया. और ठीक अगली ही गेंद को मिडऑफ के ऊपर से फिर से छह रन के लिए बाहर भेज दिया. मतलब शुरुआती दो गेंदों पर सूर्य का स्कोर 12 रन था. और जब तक सूर्यकुमार 17 गेंदों पर 3 चौकों और 2 छक्कों से 32 रन बनाकर दुर्भाग्यपूर्ण तरीके से आउट हुए, तब तक वह अपने अनूठे अंदाज से न केवल अपने प्रशंसकों की संख्या में इजाफा कर चुके थे, बल्कि टीम मैनेजमेंट के अपने भीतर भरोसे में भी वृद्धि कर चुके थे. 

रोहित ने दिखाया चिरपरिचित रंग!

मानो रोहित शर्मा ने अपनी फॉर्म हासिल करने के लिए निर्णायक मुकाबला और सबसे सही समय चुना था. पहली ही गेंद से गजब का आत्मविश्वास और पिच पूरी तरह से रोहित के मुफीद. गेंद बल्ले पर टनाटन आ रही थी और इसे रोहित ने दोनों हाथों से भुनाया. हर लिहाज से! बेहतरीन स्ट्रेड ड्राइव, गजब के हुक और पुल और शानदार कदमों का इस्तेमाल हुआ, तो मिल गयी ताल से ताल और रोहित ने फॉर्म में  लौटते हुए सिर्फ 30 गेंदों पर 3 चौकों और इतने ही छक्कों से अर्द्धशतक जड़ डाला. कॉन्फिडेंस और मिला, तो रोहित के तेवर और जवां हो गए, लेकिन इस पर जल्द ही बेन स्टोक्स ने ब्रेक लगा दिया. उनकी स्लोअर गेंद को उड़ाने की कोशिश में रोहित बोल्ड हो गए, लेकिन 34 गेंदों पर 4  चौकों और 5 छक्कों से ऐसे 64 रन बनाकर लौटे, जो इस मुकाबले में बड़ा अंतर पैदा कर सकते हैं. वेल प्लेड शर्मा जी!

नयी जोड़ी, नयी पावर: रोहित-विराट की पावर-प्ले जुगलबंदी!

अभी तक के सभी पांच टी20 मुकाबलों में यह पावर-प्ले (शुरुआती 6 ओवर) में भारत की सर्वश्रेष्ठ शुरुआत रही. ओपनिंग जोड़ी नयी रही, तो तेवर भी एकदम जुदा दिखायी पड़े. बैटिंग के लिए आसान पिच पर रोहित और विराट की एप्रोच  पहले ही ओवर से पूरी तरह से साफ थी कि शुरुआती छह ओवरों को दोनों हाथों से बुनाना है. आदिल राशिद के पहले ओवर में भले ही तीन रन आए, लेकिन दूसरे ओवर में रोहित और विराट ने एक-एक चौका जड़कर इरादे पूरी तरह  से साफ कर दिए. और एक बार आक्रामक अंदाज शुरू हुआ, तो दोनों ही छोरों से दोनों सितारों ने इसे बनाए रखा. खासतौर पर इसे नयी ऊंचा दी रोहित शर्मा ने. आदिल के तीसरे ओवर की आखिरी गेंद पर मिडऑन के ऊपर से बेहतरीन छक्का जड़ा, जो मार्क वुडे के चौथे ओवर में रोहित के जड़े दो चौकों के क्या कहने. पावर-प्ले के आखिरी ओवर में दोनों की पावर चरम पर थी मानो. वुडे की दूसरी गेंद पर विराट ने हुक करके छक्का जड़ा, तो रोहित ने भी ठीक इसी अंदाज में गेंद को छह रन के लिए बाहर भेज दिया. मानो दोनों एक-दूसरे के साथ जुगलबंदी कर रहे थे विराट और रोहित! नतीजा यह रहा कि भारत ने शुरुआती छह ओवरों में बेहतरीन शुरुआत करते हुए बिना नुकसान के 60 रन बना डाले. दस रन प्रति ओवर..क्या बात..क्या बात ! 

इससे पहले इंग्लैंड ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया. भारत ने अपनी इलेवन में एक बदलाव किया है और केएल राहुल की जगह एक अतिरिक्त गेंदबाज टी. नटराजन को शामिल किया., तो इंग्लैंड ने अपनी पिछले मैच की इलेवन को बरकरार रखा. भारत  का नए संयोजन ने पूरी तरह से काम किया और पांच गेंदबाजों को खिलाने की रणनीति पूरी तरह से कामयाब साबित हुई. 

कुल मिलाकर भारत इस सीरीज टाइटल के मुकाबले में एक बल्लेबाज की कीमत पर एक अतिरिक्त गेंदबाज के साथ मैदान पर उतरा . कप्तान विराट कोहली ने टॉस के दौरान कहा कि हम संतुलन चाहते थे और एक गेंदबाज के और आने से इलेवन में संतुलन आएगा. इसीलिए हमने एक अतिरिक्त गेंदबाज को चुना. मतलब यह है कि आज भारत पांच गेंदबाजों के साथ खेल रहा है. केएल राहुल की फॉर्म को देखते हुए इसे ठीक-ठाक ही फैसला कहा जाएगा. फैंस उम्मीद कर रहे थे कि राहुल की जगह ईशान टीम में आएंगे, लेकिन मैनेजमेंट ने बल्लेबाज की कीमत पर एक्ट्रा बॉलर के साथ उतरने का फैसला किया.

 चलिए आखिरी मैच में खेलीं दोनों टीमों की इलेवन पर गौर फरमा लें:-

भारत:  1. विराट कोहली (कप्तान) 2. रोहित शर्मा  3. ऋषभ पंत 4. श्रेयस अय्यर 5. सूर्यकुमा यादव 6. हार्दिक पंड्या  7. वॉशिंगटन सुंदर 8. टी. नटराजन 9. शार्दूल ठाकुर 10. भुवनेश्वर कुमार 11. राहुल चाहर



इंग्लैंड: 1. इयॉन मोर्गन (कप्तान) 2. जेसन रॉय 3. जोस बटलर 4. डेविड मलान 5. जॉनी बैर्यस्टो 6. बेन स्टोक्स 7. सैम सुरेन 8. क्रिस जॉर्न 9. जोफ्रा आर्चर 10. आदिल राशिद 11. मार्क वुड
 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: कुछ दिन पहले विराट ने अपने करियर को लेकर बड़ी बात कही थी. ​