Aus vs Ind 4Th Test: भारत की शुरुआत अच्छी हुई, तो इस बल्लेबाज को मैनेजमेंट भेज सकता है ऊपर, रिकी पोंटिंग बोले

Aus vs Ind 4Th Test: पोंटिंग ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया को जीत के लिये हर संभव कोशिश करनी चाहिए क्योंकि भारत का जुझारूपन निरंतर नहीं बना रहेगा. उन्होंने कहा, ‘किसी मौके पर भारत का जुझारूपन कमजोर पड़ेगा. वे जैसा कर रहे हैं वैसा करना जारी नहीं रख सकते हैं और मुझे लगता है कि कल ऐसा हो सकता है.

Aus vs Ind 4Th Test: भारत की शुरुआत अच्छी हुई, तो इस बल्लेबाज को मैनेजमेंट भेज सकता है ऊपर, रिकी पोंटिंग बोले

Aus vs Ind 4Th Test: रिकी पोंटिंग ने अहम बात कही है

ब्रिस्बेन:

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान रिकी पोंटिंग (Ricky Ponting) का मानना है कि कई खिलाड़ियों के चोटिल होने से कमजोर पड़ी भारतीय टीम के खिलाफ श्रृंखला बराबरी पर छूटना दो साल पहले बॉर्डर-गावस्कर ट्राफी में मेजबान टीम को मिली हार से भी बुरा परिणाम होगा.  कई खिलाड़ियों के चोटिल होने के बावजूद भारतीय टीम ने ऑस्ट्रेलिया के वर्तमान दौर में अपना जुझारूपन और जज्बा दिखाया है. चौथे (Aus vs Ind 4Th Test) और अंतिम टेस्ट मैच में भारत अपने प्रमुख तेज गेंदबाजों, कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) और कुछ विशेषज्ञ बल्लेबाजों के बिना खेल रहा है. पोंटिंग (Ricky Ponting) ने कहा, ‘मुझे लगता है कि श्रृंखला का ड्रॉ होना दो साल पहले मिली हार से भी बुरा होगा. मैं इसको इसी नजरिये से देखता हूं यह जानते हुए कि भारत को श्रृंखला में 20 खिलाड़ियों में से भी अंतिम एकादश चुनने में कितनी परेशानी हुई. दूसरी तरफ ऑस्ट्रेलियाई टीम में डेविड वॉर्नर (David Warner) की अंतिम दो मैच में और स्टीव स्मिथ की वापसी हुई जबकि पिछली बार वे टीम में नहीं थे.' पोंटिंग ने कहा, ‘श्रृंखला में बराबरी न केवल हार जैसी होगी बल्कि यह पिछली श्रृंखला से भी बुरा परिणाम होगा.'श्रृंखला अभी 1-1 से बराबरी पर है। भारत को गाबा में पांचवें और अंतिम दिन जीत के लिये 324 रन बनाने हैं और उसके दस विकेट बचे हुए है. अगर श्रृंखला बराबर रहती है तो बॉर्डर-गावस्कर ट्राफी भारत के पास ही रहेगी.

पोंटिंग ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया को जीत के लिये हर संभव कोशिश करनी चाहिए क्योंकि भारत का जुझारूपन निरंतर नहीं बना रहेगा. उन्होंने कहा, ‘किसी मौके पर भारत का जुझारूपन कमजोर पड़ेगा. वे जैसा कर रहे हैं वैसा करना जारी नहीं रख सकते हैं और मुझे लगता है कि कल ऐसा हो सकता है. श्रृंखला के आखिरी दिन ड्रॉ के लिये खेलते हुए वे कुछ गलतियां करेंगे. दूसरी तरफ ऑस्ट्रेलिया जानता है कि उसे श्रृंखला जीतने के लिये अपना सब कुछ झोंक देना होगा.'


भारत आखिरी दिन स्कोर का पीछा कर सकता है, पर पोंटिंग पोले कि आखिरी दिन पहले घंटे का खेल महत्वपूर्ण रहेगा. अगर वे विकेट नहीं गंवाते हैं, तो भारतीय बल्लेबाजों को तेजी से रन बनाने होंगे. भारत के पास 90 ओवर हैं, और उसे 324 रन बनाने हैं.  ऐसे में उन्हें उस गति से रन बनाने होंगे, जो दर उन्होंने इस सीरीज में हासिल नहीं की है. रोहित और गिल के अच्छी शुरुआत देने की उम्मीद है और अगर ऐसा होता है, तो मुझे लगता है कि भारतीय मैनेजमेंट सिडनी की तरह पंत को ऊपरी क्रम में भेज सकता है क्योंकि अगर रन गति धीमी पड़ जाती है और भारत जरूरी रन औसत से पिछड़ जाता है, तो मुझे नहीं लगता कि पुजारा भारत को मैच में वापस ला देंगे. 
 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: कुछ दिन पहले विराट ने अपने करियर को लेकर बड़ी बात कही थी.