Air India और Vistara के मर्जर को लेकर आया नया अपडेट, सिंगापुर एयरलाइंस ने दी ये जानकारी

Air India-Vistara Merger : नवंबर, 2022 में एयर इंडिया के साथ विस्तारा के मर्जर की घोषणा की गई थी. इस सौदे के तहत सिंगापुर एयरलाइंस को एयर इंडिया में 25.1 प्रतिशत हिस्सेदारी मिलेगी.

Air India और Vistara के मर्जर को लेकर आया नया अपडेट,  सिंगापुर एयरलाइंस ने दी ये जानकारी

Air India-Vistara Merger : विस्तारा के सीईओ विनोद कन्नन ने पिछले महीने कहा था कि यह मर्जर डील 2025 के मध्य तक पूरा होने की उम्मीद है.

नई दिल्ली:

Air India-Vistara Merger: सिंगापुर एयरलाइंस ने मंगलवार को कहा कि एयर इंडिया (Air India) और विस्तारा (Vistara) का प्रस्तावित मर्जर प्रगति पर है और वह प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) एवं अन्य नियामकीय मंजूरियों का इंतजार कर रही है. विस्तारा सिंगापुर एयरलाइंस (Singapore Airlines Limited ) और टाटा समूह का ज्वॉइंट वेंचर है.फिलहाल विस्तारा के बेड़े में 67 विमान हैं. नवंबर, 2022 में एयर इंडिया के साथ विस्तारा के मर्जर की घोषणा की गई थी. इस सौदे के तहत सिंगापुर एयरलाइंस को एयर इंडिया में 25.1 प्रतिशत हिस्सेदारी मिलेगी.

सिंगापुर एयरलाइंस ने दिसंबर तिमाही के अपने नतीजों की घोषणा करते हुए कहा कि इस मर्जर से भारत में उसकी उपस्थिति बढ़ेगी, उसकी मल्टी-हब रणनीति मजबूत होगी और उसे भारत के बड़े एवं तेजी से बढ़ते एविएशन मार्केट में सीधे भाग लेने की अनुमति मिल जाएगी.

कंपनी ने एक बयान में कहा, ‘‘एयर इंडिया और विस्तारा का प्रस्तावित विलय प्रगति पर है. इसके लिए एफडीआई और अन्य नियामकीय अनुमोदन लंबित हैं. इसके पूरा होने पर सिंगापुर एयरलाइंस को विस्तारित एयर इंडिया ग्रुप में 25.1 प्रतिशत हिस्सेदारी मिल जाएगी.“

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

विस्तारा के सीईओ विनोद कन्नन ने पिछले महीने कहा था कि यह मर्जर डील  2025 के मध्य तक पूरा होने और लेनदेन के लिए सभी कानूनी मंजूरी इस साल के मध्य तक मिलने की उम्मीद है. उन्होंने कहा था कि विस्तारा के एयर इंडिया के साथ प्रस्तावित विलय के लिए सभी कानूनी मंजूरियां 2024 की पहली छमाही तक मिल सकती हैं और परिचालन विलय अगले साल की शुरुआत या मध्य तक पूरा होने की उम्मीद है. उन्होंने यह भी कहा कि मार्च में समाप्त होने वाली मौजूदा तिमाही में सभी प्रतिस्पर्धा मंजूरी मिलने की उम्मीद है. एक सितंबर, 2023 को भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (सीसीआई) ने प्रस्तावित विलय को मंजूरी दी थी.