अगर आज हों चुनाव तो क्या होगी नरेंद्र मोदी की वापसी?

अगर आज चुनाव हों तो बीजेपी का अबकी बार फिर एक बार मोदी सरकार का नारा नाकाम होगा या सफल, जानिए क्या कहते हैं ओपिनियन पोल.

अगर आज हों चुनाव तो क्या होगी नरेंद्र मोदी की वापसी?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की फाइल फोटो.

नई दिल्ली:

अगर आज चुनाव हों तो बीजेपी का अबकी बार फिर एक बार मोदी सरकार का नारा नाकाम हो सकता है. यानी नरेंद्र मोदी के लिए बतौर प्रधानमंत्री वापसी करना मुश्किल होगा. यह मानना है दो ओपीनियन पोल का जो हाल ही में सामने आए हैं. दोनों ही ओपीनियन पोल त्रिशंकु लोकसभा की भविष्यवाणी कर रहे हैं. यानी किसी भी पार्टी को तो छोड़िए, किसी गठबंधन को भी बहुमत मिलने की संभावना नहीं है. वैसे तो प्रधानमंत्री के तौर पर पसंद के रूप में नरेंद्र मोदी सबसे आगे हैं. लेकिन उनके और राहुल गांधी के बीच फासला लगातार कम होता जा रहा है. एबीपी न्यूज सी वोटर के सर्वे में कहा गया है कि लोक सभा की 543 सीटों में से एनडीए को 233, यूपीए को 167 सीटें मिल सकती हैं. अन्य दलों को 143 सीटें मिलने की संभावना जताई गई है.

जबकि 'आज तक' और कार्वी इनसाइट्स के ओपीनियन पोल में कहा गया है कि एनडीए को भारी नुकसान हो सकता है. पिछले लोक सभा चुनाव की तुलना में उसकी 99 सीटें कम हो सकती हैं और वह 237 सीटों पर सिमट सकता है जो कि बहुमत के आंकड़े 272 से काफी दूर है. वहीं कांग्रेस की अगुवाई वाले यूपीए को जबर्दस्त फायदा मिलने की संभावना है. उसे 166 सीटें मिल सकती हैं. जबकि त्रिशंकु लोकसभा की स्थिति में सरकार बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले दलों को 140 सीटें मिलने की संभावना है.

ये संभावनाएं इशारा कर रही हैं कि बीजेपी को जबर्दस्त नुकसान हो सकता है जबकि कांग्रेस की हालत सुधरेगी. एबीपी सी वोटर का आकलन है कि बीजेपी पिछले लोक सभा चुनाव में मिली 282 से घट कर 203 सीटों पर आ जाएगी. जबकि कांग्रेस 44 से बढ़ कर 109 तक पहुंच सकती है. यूपी में दोनों ही ओपीनियन पोल सपा बसपा गठबंधन की बड़ी जीत की भविष्यवाणी कर रहे हैं. एनडीए के लिए यह राहत की बात बताई गई है कि उसके वोट यूपीए से कुछ ज्यादा रहेंगे. लेकिन अगर यह भविष्यवाणी सही हुई तो ऐसे में कांग्रेस के समर्थन से किसी छोटी पार्टी की सरकार बनने की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता. यह ओपीनियन पोल यह भी बता रहे हैं कि मोदी सरकार के पिछले पांच साल के कामकाज से लोग खुश नहीं हैं. लेकिन यहां पर इस बात का जिक्र करना भी जरूरी है कि पिछले लोक सभा चुनाव में किसी भी ओपीनियन पोल ने बीजेपी को अपने बूते बहुमत मिलने और एनडीए को 336 सीटें मिलने की भविष्यवाणी नहीं की थी. न ही कोई यह पाया था कि कांग्रेस सबसे खराब प्रदर्शन करते हुए सिर्फ 44 सीटें पा सकेगी. आइए देखते हैं तब ओपीनियन पोल क्या कह रहे थे.

सी वोटर ने फरवरी 2014 में भविष्यवाणी की थी कि बीजेपी को 202 और एनडीए को 227 सीटें मिलेंगी. कांग्रेस को 89 और यूपीए को 101 सीटें मिलने की संभावना जताई गई थी. जबकि एबीपी नेल्सन ने एनडीए को 236, यूपीए को 92 और अन्य को 215 सीटें मिलने की बात कही थी. और जब नतीजे आए तब तस्वीर कुछ इस तरह थी एनडीए 336, यूपीए 60 और अन्य 147.


इसके बावजूद यह कहा जा सकता है कि देश का माहौल 2014 जैसा नहीं है. तब भ्रष्टाचार के आरोपों से जूझ रही मनमोहन सिंह सरकार के खिलाफ जबर्दस्त गुस्सा था और लोग बदलाव चाहते थे. नरेंद्र मोदी उम्मीदों की लहर पर सवार होकर आए. गुजरात में बतौर मुख्यमंत्री उनके काम को देखते हुए लोगों ने उन्हें अपना समर्थन दिया. अब मोदी के सामने अपनी सरकार के कामकाज का हिसाब देकर उसके सत्ता में वापसी की चुनौती है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति NDTV उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार NDTV के नहीं हैं, तथा NDTV उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.