विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Aug 23, 2022

इसराइल मंसूरी के मंदिर में प्रवेश पर शोर मचाने वाले भगवान विष्णु को अपमानित कर रहे : शिवानंद तिवारी

आरजेडी नेता शिवानंद तिवारी ने कहा- भगवान विष्णु तो तारण करने वाले देव हैं, उनके मंदिर में जो कोई जाए वह पवित्र हो जाता है

इसराइल मंसूरी के मंदिर में प्रवेश पर शोर मचाने वाले भगवान विष्णु को अपमानित कर रहे : शिवानंद तिवारी
आरजेडी के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी (फाइल फोटो).
पटना:

बिहार के गया के विष्णुपद मंदिर में सोमवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ बिहार के सूचना व प्रौद्योगिकी मंत्री इसराइल मंसूरी भी गर्भगृह में पहुंचे. इसराइल मंसूरी के मंदिर में प्रवेश को लेकर विवाद शुरू हो गया है. मंदिर से जुड़े पंडा समाज में इसे लेकर गुस्सा है. इस मामले पर आरजेडी के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी ने कहा है कि, ''विष्णुपद मंदिर में इज़राइल मंसुरी के प्रवेश पर जो लोग शोर मचा रहे हैं ये वही लोग हैं जो एक समय दलितों और शूद्रों के मंदिर प्रवेश को उनका दुःसाहस मानते थे और उनकी पीठ पर लाठी बरसाया करते थे.'' 

शिवानंद तिवारी ने कहा है कि, ''शोर मचाने वाले उसी शिक्षक बिरादरी के हैं जो एक दलित छात्र द्वारा उनके घड़े का पानी पी लेने पर इतना पिटाई करता है कि उस छात्र की मौत हो जाती है.''

उन्होंने कहा है कि, ''भगवान विष्णु तो तारण करने वाले देव हैं. उनके मंदिर में जो कोई जाए वह पवित्र हो जाता है. जो यह शोर मचा रहे हैं कि मंसूरी के मंदिर में जाने से वह मंदिर अपवित्र हो गया वे भगवान विष्णु को अपमानित कर रहे हैं. सत्ताच्युत से विक्षिप्त लोग शोर मचा रहे हैं. शोर मचाकर भगवान विष्णु को अपमानित करने वालों से विष्णु ही हिसाब लेंगे.''

बिहार के गया में विष्णुपद मंदिर में सोमवार दोपहर को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पहुंचे थे. वहां मंदिर के गर्भगृह में मुख्यमंत्री ने पूजा-अर्चना की. वहीं उनके साथ बिहार के सूचना व प्रौद्योगिकी मंत्री इसराइल मंसूरी भी मंदिर के गर्भ गृह तक पहुंच गए. बहरहाल, इसराइल मंसूरी के मंदिर में प्रवेश का मामला गरमा गया है. मंदिर से जुड़े पंडा समाज में इसे लेकर गुस्सा है.

मंदिर को फल्गु के जल से धोया और शुद्धिकरण किया गया जिसके बाद भगवान को भोग लगाया गया. इस मामले में विष्णुपद मंदिर प्रबंध कारिणी के अध्यक्ष शंभू लाल विट्ठल ने कहा कि गैर-हिन्दु के प्रवेश न करने की परंपरा को तोड़ा गया है. उहोंने कहा कि यहां बड़े-बड़े बोर्ड में लिखा हुआ है कि अहिंदू प्रवेश निषेध है, फिर भी मंदिर के गर्भ गृह में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री मोहम्मद मंसूरी का प्रवेश करना पूरी तरह से गलत है.

धीरे धारे ये मुद्दा अब मंदिर प्रांगण से निकलकर सियासी गलियारों में पहुंच गया है. एक तरफ विश्व हिंदू परिषद् ने कहा है कि सरकार को इस मुद्दे पर से माफी मांगनी चाहिए तो वहीं भाजपा भी सरकार पर हमलावर है. बिहार के भाजपा के कद्दावर नेता गिरिराज सिंह ने अपने ट्वीट में कहा है कि “जब शासक नास्तिक और हिंदू विरोधी हो जाएगा तो बिहार में धर्म की रक्षा कैसे होगी? एक मुसलमान के साथ विष्णुपद मंदिर के गर्भगृह  में प्रवेश करने वाले नीतीश कुमार ने जानबूझकर मंदिर की पवित्रता को भंग किया है और सनातन का अपमान किया है.” 

बहरहाल इस मुद्दे पर जब उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव से पूछा गया कि कैसे मंदिर में एक गैर-हिन्दू ने प्रवेश कर लिया तो उन्होंने कहा कि ये बेकार का मुद्दा है...और बड़का झूठा पार्टी इस तरह के मुद्दे उठाती रहती है.”

वहीं दूसरी तरफ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के करीबी माने जाने वाले डा.अशोक चौधरी ने कहा कि इसराइल मंसूरी प्रभारी मंत्री हैं और इसी वजह से वो मंदिर के अंदर चले गए...उन्हें इस बात की जानकारी नहीं होगी कि प्रवेश वर्जित है.” 

बिहार के नालंदा में शव को नहीं मिला स्ट्रेचर, हाथों पर उठा कर ले जाना पड़ा पोस्टमार्टम हाउस

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
बिहार विधानसभा में पारित नकल बिल क्या है, इस सख्त कानून में क्या हैं प्रावधान? जानिए - खास बातें
इसराइल मंसूरी के मंदिर में प्रवेश पर शोर मचाने वाले भगवान विष्णु को अपमानित कर रहे : शिवानंद तिवारी
अलविदा सुशील मोदी : छात्र नेता से डिप्टी CM और संसद तक का सफर
Next Article
अलविदा सुशील मोदी : छात्र नेता से डिप्टी CM और संसद तक का सफर
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;