झारखंड के 10वीं पास शिक्षा मंत्री ने लिया 11वीं में एडमीशन, बोले- 'पढ़ेंगे भी और पढ़ाएंगे भी...' - देखें Video

झारखंड (Jharkhand) के शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो (HRD Minister Jagarnath Mahto) जिन्होंने हाल ही में डुमरी के अपने विधानसभा क्षेत्र में एक सरकारी इंटर कॉलेज में कक्षा 11 में दाखिला (Jagarnath Mahto enrolled in Class 11) लिया.

झारखंड के 10वीं पास शिक्षा मंत्री ने लिया 11वीं में एडमीशन, बोले- 'पढ़ेंगे भी और पढ़ाएंगे भी...' - देखें Video

झारखंड के 10वीं पास शिक्षा मंत्री ने लिया 11वीं में एडमीशन, कही यह बात... देखें Viral Video

झारखंड (Jharkhand) के शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो (HRD Minister Jagarnath Mahto) जिन्होंने हाल ही में डुमरी के अपने विधानसभा क्षेत्र में एक सरकारी इंटर कॉलेज में कक्षा 11 में दाखिला (Jagarnath Mahto enrolled in Class 11) लिया. 53 वर्षीय जगरनाथ महतो ने 25 साल पहले 1995 में 10वीं की परीक्षा पास की थी. उन्होंने कहा, 'लगातार आलोचना ने मुझे अपनी लंबित शिक्षा को फिर से शुरू करने के लिए प्रेरित किया.' उनका कहना है कि जब से महतो को मानव संसाधन विकास (एचआरडी) मंत्री के रूप में चुना गया, तब से उन्हें न केवल आम लोगों से, बल्कि निर्वाचित सदस्यों के एक वर्ग से भी आलोचना का सामना करना पड़ा. 

उन्होंने कहा, 'लगातार आलोचना ने मुझे अपनी लंबित शिक्षा को फिर से शुरू करने के लिए प्रेरित किया. जब से मुझे झारखंड का शिक्षा मंत्री बनाया गया है, तब से लोगों का एक वर्ग मेरी शैक्षणिक योग्यता पर आक्रामक है, फिर, मैंने अपनी पढ़ाई फिर से शुरू करने का फैसला किया.'

जगरनाथ महतो ने वीडियो पोस्ट करते हुए कैप्शन में लिखा, 'स्वयं में सुधार करके शुरुआत कर रहा हूं. मैट्रिक पास करने के बाद, परिस्थितियों ने मुझे शिक्षा से दूर किया था...आज उसी दूरी को पाटने की अभिलाषा ने प्रेरित किया है. इंटरमीडिएट के शिक्षा हेतु , मैंने अपना नामांकन देवीमहतो इंटर कॉलेज नावाडीह में किया है.'

देखें Video:


Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


जगरनाथ महतो आर्ट्स स्ट्रीम से आगे की पढ़ाई करेंगे, उनके विषयों में निश्चित रूप से राजनीतिक विज्ञान शामिल होगा. उन्होंने कहा, 'हमने साबित कर दिया है, कि पढ़ने का कोई उम्र सीमा नहीं होता है. हमने पहले भी कहां और अब भी कह रहे हैं. कि जिस दिन मैंने शिक्षा मंत्री के रूप में शपथ लिया था. उसी दिन से कुछ लोगों को लगा कि 10वीं पास शिक्षा मंत्री क्या करेंगे. हम पढ़ेंगे भी और बेहतर पढ़ाएंगे भी राज्य के बच्चों को. हम क्लास में भी पढ़ेंगे, मंत्रालय में भी काम करेंगे, जनका का भी काम करेंगे, किसान का भी काम करेंगे.'