झोंपड़ी में रहने वाले मज़दूर की पत्नी बनीं BJP MLA, TMC नेता को हराया तो लोग बोले - 'आम महिला की जीत'

पश्चिम बंगाल (West Bengal) के सालतोरा निर्वाचन क्षेत्र (Saltora Constituency) से जीतकर आईं दिहाड़ी मजदूर (Daily Wage Labourer) की पत्नी चंदना बाउरी (Chandana Bauri) के लिए बधाई भरे ट्वीट डाले जा रहे हैं.

झोंपड़ी में रहने वाले मज़दूर की पत्नी बनीं BJP MLA, TMC नेता को हराया तो लोग बोले - 'आम महिला की जीत'

झोंपड़ी में रहने वाले मज़दूर की पत्नी बनीं BJP MLA, TMC के गढ़ में हासिल की जीत

पश्चिम बंगाल (West Bengal) के सालतोरा निर्वाचन क्षेत्र (Saltora Constituency) से जीतकर आईं दिहाड़ी मजदूर (Daily Wage Labourer) की पत्नी चंदना बाउरी (Chandana Bauri) के लिए बधाई भरे ट्वीट डाले जा रहे हैं. 30 साल की चंदना बाउरी (Chandana Bauri) ने तृणमूल कांग्रेस (TMC) के संतोष कुमार मोंडल (Sontosh Kumar Mondal) को 4,000 से अधिक मतों के अंतर से हराया. उनकी जीत को लोग आम महिला की जीत बता रहे हैं. ट्विटर पर लोगों ने उनको जमकर बधाई दी है. 

उनके चुनावी हलफनामे के अनुसार, तीन बच्चों की मां चंदना बाउरी के पास सिर्फ 31,985 रुपये की संपत्ति है. जबकि उनके पति की संपत्ति 30,311 है. उनके पति राजमिस्त्री का काम करते हैं. दंपति के पास तीन बकरियां और तीन गाय हैं. 

उन्होंने मार्च में न्यूज एजेंसी एएनआई को बताया था, 'टिकटों की घोषणा से पहले मुझे नहीं पता था कि मुझे विधान सभा चुनावों में एक उम्मीदवार के रूप में चुना जाएगा. कई लोगों ने मुझे नामांकन के लिए ऑनलाइन आवेदन करने के लिए प्रोत्साहित किया, लेकिन मुझे नहीं लगा कि मैं यह उपलब्धि हासिल कर पाऊंगा.'

ट्विटर पर, चंदना बाउरी के जीतने की खबर से समर्थकों में खुशी हुई. एक ट्विटर उपयोगकर्ता ने बिना किसी राजनीतिक कनेक्शन के "आम महिला" की जीत बताया. 


सालतोरा निर्वाचन क्षेत्र से पिछले दो बार तृणमूल के स्वपन बारुई ने जीता था. इस बार टीएमसी ने संतोष कुमार मोंडल को सीट से उतारा था. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


294 सदस्यीय विधानसभा में 292 सीटों के लिए हुए चुनावों में अब तक घोषित परिणामों एवं रुझानों के अनुसार सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस 213 सीटों पर और मुख्य विपक्षी बीजेपी कुल 77 सीटों पर आगे हैं जबकि लेफ्ट को एक सीट मिली है. 2016 के विधानसभा चुनावों में तृणमूल को 211 सीटें मिली थीं जबकि बीजेपी के खाते में महज तीन सीटें थीं.