भारत की मिसाइल गिरने का पाकिस्तान जवाब दे सकता था, लेकिन हमने संयम दिखाया : इमरान खान

इमरान खान ने इस मामले पर पहली बार अपनी प्रतिक्रिया में कहा कि हम भारतीय मिसाइल के मियां चन्नू में गिरने के बाद जवाब दे सकते थे, लेकिन हमने संयम का परिचय दिया.

भारत की मिसाइल गिरने का पाकिस्तान जवाब दे सकता था, लेकिन हमने संयम दिखाया : इमरान खान

supersonic missile पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में जाकर गिरी थी

इस्लामाबाद:

भारत की मिसाइल पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में गिरने (Pakistan Missile Landing) के मुद्दे पर पाक प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) ने रविवार को प्रतिक्रिया दी. इमरान खान ने कहा कि पाकिस्तान पंजाब में भारतीय मिसाइल के गिरने के बाद उनका देश भारत को जवाब दे सकता था, लेकिन इसने संयम दिखाया. उल्लेखनीय है कि 9 मार्च को एक हथियार रहित भारतीय सुपरसोनिक मिसाइल पाकिस्तानी क्षेत्र में जाकर लैंड हुई थी. इस मिसाइल के लाहौर से 275 किलोमीटर दूर मियां चन्नू के पास एक कोल्ड स्टोर पर गिरने से पहले कई एयरलाइनों के लिए बड़ा खतरा पैदा हो गया था. बहरहाल मिसाइल के गिरने से पाकिस्तान में किसी तरह का जानमाल का नुकसान नहीं हुआ था. इमरान खान ने इस मामले पर पहली बार अपनी प्रतिक्रिया में कहा कि हम भारतीय मिसाइल के मियां चन्नू में गिरने के बाद जवाब दे सकते थे, लेकिन हमने संयम का परिचय दिया.

विपक्ष की ओर से अविश्वास प्रस्ताव पेश किए जाने के बीच प्रधानमंत्री इमरान खान ने पंजाब के हफीजाबाद में रविवार को एक रैली में ये बात कही. इमरान ने देश की सैन्य तैयारियों के बारे में कहा कि हमें अपनी सेना और देश को मजबूत बनाना है.
पाकिस्तान के विदेश कार्यालय ने शनिवार को कहा था कि वह पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में दुर्घटनावश एक मिसाइल दागने के भारत के सामान्य स्पष्टीकरण से संतुष्ट नहीं है और उसने संयुक्त जांच की मांग की थी.

पाकिस्तान के विदेश विभाग ने कहा था कि पाकिस्तान ने नई दिल्ली को तथ्यों को पुष्टि के लिए घटना की संयुक्त जांच का प्रस्ताव दिया है, क्योंकि मिसाइल पाकिस्तानी क्षेत्र में गिरी थी. उसका कहना है कि भारत मिसाइल के गलती से लांच होने की तुरंत जानकारी देने में नाकाम रहा.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


पाक ने मिसाइल और ऐसे मामलों में भारत के सुरक्षा उपायों को लेकर भी सवाल उठाए. भारत ने दावा किया कि नियमित रखरखाव अभियान के दौरान तकनीकी खराबी के कारण मिसाइल लांच गलती से हो गई. भारत ने इस घटना की उच्चस्तरीय जांच के आदेश दिए हैं.