ऑस्ट्रेलिया में जानबूझ कर आग लगाने के लिए सैकड़ों लोग हुए गिरफ्तार

स्विनबर्न यूनिवर्सिटी में फॉरेंसिक बिहेवियरल साइंस के निदेशक जेम्स ओग्लॉफ के अनुसार, ऑस्ट्रेलिया में लगभग 50 प्रतिशत आग जानबूझ कर लगाई गई.

ऑस्ट्रेलिया में जानबूझ कर आग लगाने के लिए सैकड़ों लोग हुए गिरफ्तार

ऑस्ट्रेलिया में लगी आग में अब तक 25 लोगों की मौत हो चुकी है.

खास बातें

  • NSW में नवंबर के बाद से 183 लोगों पर मामला दर्ज
  • सितंबर से लगी है ऑस्ट्रेलिया के कंगारू आइलैंड में आग
  • आग में हुई लाखों जानवरों की मौत
केनबरा:

ऑस्ट्रेलिया में जानबूझ कर जंगल में आग लगाने के मामले में सैकड़ों लोगों को गिरफ्तार किया गया है. सितंबर से जल रही आग से अब तक 25 लोगों की मौत हो चुकी है. समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, ऑस्ट्रेलिया के एक समाचार पत्र ने कहा कि इन लोगों को सबसे ज्यादा प्रभावित प्रांतों न्यू साउथ वेल्स (एनएसडब्ल्यू), क्वींसलैंड, विक्टोरिया, साउथ ऑस्ट्रेलिया और तस्मानिया से गिरफ्तार किया गया है.

सिर्फ एनएसडब्ल्यू में नवंबर के बाद 183 लोगों पर मामला दर्ज किया गया या चेतावनी दी गई और जानबूझ कर जंगलों में आग लगाने के मामले में 24 लोगों को गिरफ्तार किया गया. वहीं विक्टोरिया में 43 पर मामला दर्ज किया गया, क्वींसलैंड में 101 लोगों को गिरफ्तार किया गया, इनमें से लगभग 70 प्रतिशत लोग नाबालिग थे. यहां नवंबर में सबसे भयानक आग थी.

Australia Bushfire: कोआला को बचाने के लिए कार लेकर कंगारू आइलैंड पहुंचे बच्चे, देखें ये Viral Video

स्विनबर्न यूनिवर्सिटी में फॉरेंसिक बिहेवियरल साइंस के निदेशक जेम्स ओग्लॉफ के अनुसार, ऑस्ट्रेलिया में लगभग 50 प्रतिशत आग जानबूझ कर लगाई गई. उन्होंने न्यूज कॉर्प को बताया, "उन्हें आग देखना अच्छा लगता है, आग लगाना अच्छा लगता है और वे अक्सर यह जानकारी देते हैं कि जंगल कैसे जलता है और आग को भड़काया कैसे जाता है."

यूनिवर्सिटी ऑफ मेलबर्न की प्रोफेसर के एसोसिएट प्रोफेसर जेनेट स्टेनली ने कहा कि आगजनी करने वाले या आग लगाने वाले आम तौर पर युवा लड़के हैं जो 12 से 24 साल के बीच के हैं या 60 साल या इससे भी बुजुर्ग.


ऑस्ट्रेलिया में 10,000 जंगली ऊंटों को मारने का दिया गया आदेश, वजह जान आप भी रह जाएंगे हैरान

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


एक पूर्व स्वयंसेवी दमकल कर्मी ब्रेंडन सोकालुक को 2009 में विक्टोरिया में आग लगाने के मामले में 17 साल नौ महीने की जेल की सजा सुनाई थी. ऑस्ट्रेलिया के सबसे घातक अग्निकांडों में से एक इस घटना में 10 लोग मारे गए थे.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)