25 साल से गुनाहों की दुनिया के साथ राजनीति में भी सक्रिय था विकास दुबे, मां ने बताया किन-किन पार्टियों में था शामिल

8 पुलिसकर्मियों की हत्या करने वाले विकास दुबे पुलिस की पहुंच से दूर जरूर है लेकिन कुख्यात हीस्ट्री शीटर की गिरफ्तारी के लिए महकमे ने घेराबंदी तेज कर दी है.

25 साल से गुनाहों की दुनिया के साथ राजनीति में भी सक्रिय था विकास दुबे, मां ने बताया किन-किन पार्टियों में था शामिल

यूपी पुलिस विकास दुबे की 'अजेय' छवि को भी तोड़ने का प्रयास कर रही है

लखनऊ:

8 पुलिसकर्मियों की हत्या करने वाले विकास दुबे पुलिस की पहुंच से दूर जरूर है लेकिन कुख्यात हीस्ट्री शीटर की गिरफ्तारी के लिए महकमे ने घेराबंदी तेज कर दी है. पुलिस अब विकास की अजेय छाप को नेस्तेनाबूद करने की कवायद में जुटी हुई है और इसीलिए विकास दुबे के मकान पर उसी JCB को चलवाया गया जिसे उसने पुलिस के रास्ते को रोकने के लिए इस्तेमाल किया था. बताते हैं कि इलाके में विकास दुबे को अच्छा-खासा समर्थन मिलता है. NDTV को मिली जानकारी के मुताबिक उसने कई लोगों को हथियारों को लाइसेंस दिलवा रखा था और इन लोगों को लगता है था कि वो कुछ भी कर गुजरेंगे 'विकास भैया' छुड़वा लेंगे. लिहाजा पुलिस विकास को गिरफ्तार करने से पहले उसके समर्थकों के हौसलों को तोड़ना चाह रही है. 

पुलिस ने सिर्फ विकास का घर ही नहीं तोड़ा है बल्कि उसे मामा के उस घर को भी जमींदोज कर दिया है जिसमें अपराधियों ने डीएसपी देवेंद्र मिश्रा की हत्या की थी. विकास ने पूरे इलाके को अपना अभेद किला बना रखा था. उसके घर पर तमाम तरह की अवैध गतिविधियां होती थीं. घर के नीचे बकंर बना रखे थे तथा घर से अवैध असलहों को भी जखीरा रखा था. यह मान लेना कि विकास दुबे के नाम पूरे इलाके में अवैध काम हो रहे हैं और प्रशासन को इसकी जानकारी तक नहीं थी, विश्वास करना मुश्किल है. 

r04qbm48

विकास खुद को सिर्फ गुनाहों की दुनिया तक सीमित नहीं रखना चाहता था बल्कि उसकी मंशा राजनीति में भी थी. लगभग सभी दलों के नेताओं के साथ उसका उठना बैठना था. यह बात खुद उसकी मां ने बताई. वह बताती हैं कि विकास 25 साल से राजनीतिक दलों का हिस्सा हैं. विकास 15 साल तक बीएसपी के साथ रहा, 5 साल भाजपा में और 5 साल से समाजवादी पार्टी में था. शायद इसलिए कोई भी दल विकास के खिलाफ खुल कर बोलने में संकोच कर रहा है.  

उत्तर प्रदेश के खुफिया सिस्टम का मुकाबला विकास दुबे की मुखबिरों की फौज से हो रहा है. दो दिन बीत जाने के बाद भी पुलिस के हाथ दुबे के गिरेबान से दूर हैं. पुलिस की दो दर्जन से ज्यादा टीमें 48 घंटों में 100 से ज्यादा जगह छापेमारी कर चुकी हैं लेकिन अब तक खाली हाथ हैं. सफलता के नाम उनके पास विकास दुबे का एक साथी दया शंकर अग्निहोत्री है. जिसे पुलिस ने कल्याणपुर से गिरफ्तार किया है. ऐसे में देखना होगा कि पुलिस और विकास के बीच आंख मिचोली का खेल कब तक चलता है. 


वीडियो: विकास दुबे के घर बुलडोजर चला, 40 थानों की पुलिस कर रही तलाश

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com