'Ghazipur violence' - 14 न्यूज़ रिजल्ट्स
  • India | Reported by: मुकेश सिंह सेंगर, Edited by: तूलिका कुशवाहा |मंगलवार फ़रवरी 9, 2021 02:10 PM IST
    किसानों के ट्रैक्टर रैली के दौरान दिल्ली में कई जगहों पर हुई हिंसा में आरोपी एक्टर दीप सिद्धू को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने मंगलवार को गिरफ्तार कर लिया है.
  • India | Reported by: हिमांशु शेखर मिश्र, Edited by: आरिफ खान मंसूरी |गुरुवार फ़रवरी 4, 2021 02:28 PM IST
    ग्रेटा थनबर्ग ने ट्वीट किया था, ‘हम भारत में किसानों के आंदोलन के प्रति एकजुट हैं.' इस पर भारत सरकार की ओर से कड़ी प्रतिक्रिया दी गई थीं.
  • India | Reported by: रवीश कुमार, Edited by: आरिफ खान मंसूरी |गुरुवार फ़रवरी 4, 2021 12:40 PM IST
    गणतंत्र दिवस पर किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान प्रदर्शनकारियों एवं पुलिस के बीच हिंसक झड़प के कुछ दिन बाद प्रदर्शन स्थलों पर सुरक्षा के उपाय कड़े किये गये हैं.
  • India | Reported by: भाषा |बुधवार फ़रवरी 3, 2021 07:50 AM IST
    इंटरनेशनल पॉप स्टार रिहाना (Rihanna) ने मंगलवार को किसान आंदोलन (Farmers Protest) को समर्थन देते हुए ट्वीट किया. इसके साथ ही उन्होंने प्रदर्शन स्थल पर इंटरनेट बंद करने की आलोचना की. रिहाना (32) विश्व स्तर की पहली स्टार हैं, जिन्होंने किसान आंदोलन को समर्थन दिया है. उन्होंने सीएनएन के एक लेख के साथ ट्वीट किया, ‘‘हम इसके बारे में बात क्यों नहीं कर रहे हैं? हैशटैग किसान आंदोलन.’’ रिहाना के ट्विटर पर 10 करोड़ फॉलोवर हैं और उनके इस ट्वीट को एक घंटे में हजारों लोगों ने रीट्वीट किया.
  • India | Reported by: मुकेश सिंह सेंगर, परिमल कुमार, Edited by: पवन पांडे |मंगलवार फ़रवरी 2, 2021 12:35 PM IST
    तीन नए कृषि कानूनों (Farm Laws) के विरोध में दिल्ली के अलग अलग बॉर्डर पर किसान अपनी मांगों को लेकर दो महीनों से ज़्यादा समय से बैठे हैं. 26 जनवरी को लाल किले की घटना (Red Fort violence) के बाद से ही हर बॉर्डर पर पुलिस बंदोबस्त बढ़ाया गया है. देश के अन्य हिस्सों से किसान तीनों प्रमुख प्रदर्शन स्थल पर पहुंच रहे हैं. किसान ट्रैक्टर या अन्य वाहन लेकर दिल्ली में दाखिल नहीं हो पाए इसके लिए कड़े सुरक्षा इंतजाम किए गए हैं. जवानों की तैनाती बढ़ाने के साथ बेरिकेड की संख्या बढ़ाई गई, रास्ता रोकने के लिए बसों से रोड को ब्लॉक किया गया है. किसानों को पैदल चलने से रोकने के लिए कटीले तार बिछाये गए हैं.  
  • India | Reported by: भाषा |शनिवार जनवरी 30, 2021 07:06 AM IST
    भारतीय किसान यूनियन के नेता युधिष्ठिर सिंह ने कहा कि हमें इन (भाजपा) लोगों से राष्ट्रीय ध्वज का सम्मान करने पर व्याख्यान की जरूरत नहीं है. यहां बैठे अधिकांश किसानों के अपने बच्चे सीमाओं पर देश के लिए लड़ रहे हैं.” उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा किसानों के आंदोलन को दबाने की कोशिश ने इसे और तेज कर दिया है क्योंकि कल रात की घटना के बाद से और अधिक लोग आंदोलन में शामिल हुए हैं.
  • India | Reported by: भाषा |शनिवार जनवरी 30, 2021 06:40 AM IST
    इस कदम से (बीकेयू नेता) राकेश टिकैत व्यथित हैं. उनकी गिरफ्तारी और वहां विरोध समाप्त होने के बारे में घोषणा की गई थी, लेकिन विधायक ने वहां माहौल को बिगाड़ दिया और टिकैत रो पड़े.” उन्होंने कहा, ''बीकेयू (लोक शक्ति) दमन की किसी भी नीति को बर्दाश्त नहीं करेगा. सरकार या प्रशासन कोई भी कार्रवाई कर सकता है लेकिन कोई विधायक या जनप्रतिनिधि किसानों के साथ क्रूरता से व्यवहार नहीं कर सकता और बीकेयू (लोक शक्ति) यह बर्दाश्त नहीं करेगा.’
  • India | Reported by: भाषा |शनिवार जनवरी 30, 2021 06:21 AM IST
    पुलिस उपाधीक्षक (इंदिरापुरम) अंशु जैन ने पीटीआई-भाषा को बताया कि सुरक्षा बलों के करीब तीन हजार जवानों को तैनात किया गया है. इसमें राज्य सशस्त्र बल के अलावा रैपिड एक्शन फोर्स एवं सिविल पुलिस के जवान शामिल हैं. इन जवानों को गाजीपुर के आस पास तैनात किया गया है. इस बीच उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू, आरएलडी नेता जयंत चौधरी एवं भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद ने टिकैत से मुलाकात की. समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव एवं बसपा प्रमुख मायावती ने भी किसान आंदोलन को अपनी पार्टी का समर्थन दिया है.
  • India | Edited by: राहुल सिंह |शुक्रवार जनवरी 29, 2021 08:54 AM IST
    प्रशासन की सख्ती के बाद वहां पर तीन कंपनी CAPF, 6 कंपनी PAC और 1000 पुलिसकर्मियों को तैनात किया था. भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) अपनी मांग पर अड़े रहे और उन्होंने भावुक होकर दो टूक कहा कि वह आत्महत्या कर लेंगे लेकिन आंदोलन समाप्त नहीं करेंगे. उनके इंटरव्यू के दौरान रोने का वीडियो भी सामने आया है. देखते ही देखते यह वीडियो पश्चिमी उत्तर प्रदेश समेत कई जिलों के गांवों में तेजी से फैलने लगा और किसानों ने उनका समर्थन करने का फैसला किया. देर रात में ही यूपी के कई जिलों के किसान गाजीपुर बॉर्डर पर पहुंच गए. देश के अन्य राज्यों से भी किसानों के पहुंचने की संभावना है. किसानों की बढ़ती संख्या को देखते हुए रात में ही सुरक्षाबल वहां से जाने लगे. कई जवानों ने शिफ्ट खत्म होने का हवाला दिया. पुलिस-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी भी रात में ही वहां से चले गए थे.
  • India | Reported by: मुकेश सिंह सेंगर, रवीश रंजन शुक्ला, Edited by: वंदना |गुरुवार जनवरी 28, 2021 09:31 PM IST
    Kisan Rally Violence: गाजीपुर (Ghazipur) में दिल्‍ली-यूपी बॉर्डर (Delhi-Uttar Pradesh border )पर उस समय तनावपूर्ण स्थिति पैदा हो गई जब कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन के लिए डटे किसानों से विरोध प्रदर्शन खत्‍म करने और रास्‍ता खाली करने को कहा गया. सूत्रों के अनुसार, आदेश देने वाले गाजियाबाद प्रशासन की योजना गुरुवार रात तक रास्‍ते को खाली करने की है. उधर किसानों ने इससे इनकार कर दिया, किसान नेता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) ने ऐलान किया वे गोलियां का सामना करने के लिए तैयार हैं.
और पढ़ें »
'Ghazipur violence' - 42 वीडियो रिजल्ट्स
और देखें »

Ghazipur violence वीडियो

Ghazipur violence से जुड़े अन्य वीडियो »

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com