लुटियंस दिल्ली के अपने घर में बत्ती गुल होने पर बोले शशि थरूर, "एक दिन भी ऐसा नहीं..."

दिल्ली के इस हिस्से में पिछली बार बिजली कटौती 2011 में हुई थी, जब तकनीकी खराबी के कारण गैस टर्बाइन (जीटी) स्टेशन से बिजली प्रदान करने वाले सभी चार फीडर केबलों की आपूर्ति बाधित हो गई थी.

लुटियंस दिल्ली के अपने घर में बत्ती गुल होने पर बोले शशि थरूर,

शशि थरूर ने कहा कि हेल्पलाइन नंबर पर फोन करने पर स्वीच ऑफ आता है (फाइल फोटो)

बिजली गुल पूर्व केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता शशि थरूर ने आज लुटियंस दिल्ली में बिजली गुल होने को लेकर अपनी नाराजगी जाहिर की. आपको बता दें कि लुटियंस दिल्ली में प्रधानमंत्री कार्यालय, केंद्रीय मंत्रालय, सरकारी बंगलों और देश के कई अहम मंत्रालयों को दफ्तर हैं. इस इलाके में बत्ती गुल होने को लेकर थरूर ने यह भी कहा कि यहां कोई हेल्पलाइन काम नहीं कर रही है और भारत के सबसे संभ्रांत इलाके में ये सब कुछ होना असामान्य हैं. 

थरूर ने अपने ट्वीट में लिखा, "मैंने एक बार ऊर्जा मंत्री को एक बार बताया था कि लुटियंस' दिल्ली में अपने 11 वर्षों में मैंने एक भी दिन बिना बिजली कटौती के नहीं देखा है. उन्होंने आत्मविश्वास से जवाब दिया कि भविष्य में ऐसा नहीं होगा. खैर, आज सुबह से 5 बार बत्ती गुल हो चुकी है. और निश्चित रूप से, कंप्लेंट नंबर स्वीच ऑफ है.
 

लुटियन दिल्ली जहां रहने वाले सत्ता के केंद्र में रहते हैं. इसे ब्रिटिश वास्तुकार एडविन लुटियन ने डिजाइन किया था. आमतौर पर यहां बिजली की सप्लाई निर्बाध ही होती है.नई दिल्ली नगरपालिका परिषद (NDMC) इस क्षेत्र में बिजली आपूर्ति का प्रभारी है.

यह भी पढ़ें- कांग्रेस नेता शशि थरूर ने कहा- मेरे संसदीय क्षेत्र में लॉकडाउन से कोरोना के संक्रमण में कमी नहीं आयी थी


दिल्ली के इस हिस्से में पिछली बार बिजली कटौती 2011 में हुई थी, जब तकनीकी खराबी के कारण गैस टर्बाइन (जीटी) स्टेशन से बिजली प्रदान करने वाले सभी चार फीडर केबलों की आपूर्ति बाधित हो गई थी. शशि थरूर ने दिसंबर 2017 में इसी तरह का एक ट्वीट पोस्ट किया था, जिसमें कहा गया था कि एक दिन में "औसत 5" बिजली कटौती होती है. 

गोगोई को राज्यसभा जाने से मना कर देना चाहिए था: थरूर

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com