लद्दाख स्टैंडऑफ प्वॉइंट पर चीन ने बनाया था बहुत बड़ा बेस, थी लड़ाई की पूरी तैयारी, सैटेलाइट इमेज से हुआ खुलासा

इस साल 17 जुलाई को कोर कमांडर रैंक के दोनों पक्षों के सैन्य अधिकारियों के बीच 16वें दौर की बातचीत के बाद भारतीय और चीनी सेना के बीच गोगरा का विघटन हुआ.

नई दिल्ली:

NDTV द्वारा एक्सेस की गई नई सैटेलाइट इमेज इस बात की पुष्टि करती हैं कि चीनी सैनिक पूर्वी लद्दाख में गोगरा-हॉट स्प्रिंग्स में लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल के पार अपने कब्जे वाले स्थान से 3 किलोमीटर पीछे हट गए हैं. ये वापसी पारस्परिक विघटन प्रक्रिया का हिस्सा है, जिसने चीनी सेना को उस क्षेत्र से वापस आने को प्रेरित किया, जहां भारतीय सेना 2020 में गश्त करती थी. 

सैटेलाइट इमेजरी विशेषज्ञ मैक्सार द्वारा NDTV के लिए उपलब्ध पहले और बाद के इमेज केवल चीनी स्थितियों पर ध्यान केंद्रित करती हैं और समझौते के हिस्से के रूप में दोनों पक्षों की सेनाओं के बीच बनाए गए बफर-ज़ोन, या नो-मैन्स लैंड की सीमा नहीं दिखाती हैं. इस क्षेत्र में विश्वास-निर्माण के उपाय के रूप में किसी को भी गश्त लगाने की अनुमति नहीं है.

12 अगस्त, 2022 की पूर्व-विघटन छवि से पता चलता है कि चीनी सेना ने लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल के पार एक क्षेत्र के पास एक बड़ी इमारत का निर्माण किया था, जहं एलएसी के पार 2020 में चीनी घुसपैठ से पहले भारतीय सेना गश्त करती थी. खाइयों से घिरा हुआ था. 

15 सितंबर की एक तस्वीर इशारा करती है कि चीनियों ने इस इमारत को गिरा दिया है और निर्माण के मलबे को इस साइट से उत्तर में एक अस्थायी स्थिति में ले जाया गया है. एक और इमेज से पता चलता है कि चीन द्वारा खाली की गई साइट पर लैंडफॉर्म को दोनों पक्षों द्वारा घोषित विघटन समझौते की तर्ज पर बहाल कर दिया गया है. 

hkmetldg

Relocated Chinese post after disengagement in Gogra-Hot Springs area. high res

लद्दाख में स्थानीय पार्षदों ने कहा है कि समझौते के हिस्से में भारतीय सेना को भारतीय क्षेत्र के भीतर अपने स्वयं के बेसों को अच्छी तरह से हटाना शामिल था. हालांकि इसकी पुष्टि नई दिल्ली में सेना के अधिकारियों ने नहीं की है. 

चुशुल के पार्षद कोंचोक स्टेनज़िन ने कहा, '' हमारे सैनिक न केवल पैट्रोल पॉइंट 15 (पीपी-15) से बल्कि पैट्रोल पॉइंट 16 (पीपी-16) से भी वापस चले गए हैं, जो हमारे पास पिछले 50 सालों से था. यह एक बड़ा झटका था. हमारे चरागाह अब एक बफर जोन बन गए हैं. यह मुख्य शीतकालीन चरागाह था.''

इस साल 17 जुलाई को कोर कमांडर रैंक के दोनों पक्षों के सैन्य अधिकारियों के बीच 16वें दौर की बातचीत के बाद भारतीय और चीनी सेना के बीच गोगरा का विघटन हुआ. विदेश मंत्रालय के अनुसार, ''इस बात पर सहमति बनी है कि दोनों पक्षों द्वारा क्षेत्र में बनाए गए सभी अस्थायी ढांचे और अन्य संबद्ध बुनियादी ढांचे को तोड़ा जाएगा और पारस्परिक रूप से सत्यापित किया जाएगा. क्षेत्र में भू-आकृतियों को दोनों पक्षों द्वारा पूर्व-गतिरोध अवधि में बहाल किया जाएगा."  नई उपग्रह छवियां पुष्टि करती हैं कि ऐसा हुआ है.

2s6eke6

Relocated Chinese post lies 3 kms northeast of dismantled post. high res

गोगरा में विघटन, जो शुरू होने के चार दिन बाद 12 सितंबर को पूरा हुआ था, ने पिछले दो दिनों में उज्बेकिस्तान के समरकंद में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के बीच बातचीत की संभावना की अटकलों को जन्म दिया है. जबकि दोनों नेताओं ने शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की बैठक में मंच साझा किया. 5 मई, 2020 के गालवान संघर्ष के बाद ये उनकी पहली मुलाकात थी. इससे पहले उन्होंने कभी हाथ नहीं मिलाया और न ही कोई औपचारिक या अनौपचारिक बातचीत की.

आपसी अलगाव और बफर जोन का निर्माण चीन को वास्तविक नियंत्रण रेखा के पार वापस लाने का एकमात्र तरीका साबित हुआ है. जबकि इसका मतलब यह हुआ कि 4 क्षेत्रों में गतिरोध टूट गया है, जहां चीनी पार हो गए हैं. यह भी स्पष्ट है कि ये बफर जोन भारतीय क्षेत्र के भीतर बनाए गए हैं, जहां भारतीय सेना या भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) अब गश्त नहीं कर सकते हैं. 

ऐसा माना जाता है कि चीनी सेना गोगरा के उत्तर में देपसांग मैदानों में भारतीय गश्ती चौकियों को अवरुद्ध करना जारी रखती है. विघटन वार्ता ने अब तक यहां प्रगति नहीं की है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

(यहां कोई भी चित्र वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) की स्थिति नहीं दिखाता है क्योंकि इसका सार्वजनिक रूप से खुलासा नहीं किया गया है.)