विज्ञापन
Story ProgressBack

सक्सेस की गारंटी माने जाने वाले IIT कॉलेज में नौकरी की किल्लत, 38% छात्रों को नहीं मिला प्लेसमेंट; AI बना राह का रोड़ा

आईआईटी कॉलेज में प्लेसमेंट की हालत कितनी खराब हो चुकी है. इसका अंदाजा इस बात से लगा लीजिए कि 8,000 छात्रों को अभी तक नौकरी नहीं मिली. इतने छात्रों को प्लेसमेंट ने मिलना इस संकट को उजागर कर रहा है.

Read Time: 3 mins
सक्सेस की गारंटी माने जाने वाले IIT कॉलेज में नौकरी की किल्लत, 38% छात्रों को नहीं मिला प्लेसमेंट; AI बना राह का रोड़ा
खराब प्लेसमेंट से तनाव में 30% इंजीनियरिंग छात्र

प्लेसमेंट के मामले में इन दिनों देश के आईआईटी कॉलेज की हालत बेहद खराब नजर आ रही है. एक वक्त आईआईटी कॉलेज में पढ़ना ही सुनहरे भविष्य की गारंटी माना जाता था. लेकिन अब हालात ये है कि IIT में पढ़ाई करके भी 38% छात्र बेरोज़गार रह जा रहे हैं. ये बात किसी से छिपी नहीं है कि आईआईटी कॉलेज में एडमिशन के लिए कितनी मशक्कत करनी पड़ती है. तब जाकर आईआईटी कॉलेज में पढ़ने का सपना साकार हो पाता है. लेकिन फिलहाल आईआईटी कॉलेज में प्लेसमेंट की जो हालात है, उसे देख युवा निराश ही होंगे.

आईआईटी कॉलेज में प्लेसमेंट का संकट

आईआईटी कॉलेज में प्लेसमेंट की हालत कितनी खराब हो चुकी है. इसका अंदाजा इस बात से लगा लीजिए कि 8,000 छात्रों को अभी तक नौकरी नहीं मिली. इतने छात्रों को प्लेसमेंट ने मिलना इस संकट को उजागर कर रहा है. देश में बेरोजगारी एक बड़ी और जटिल समस्या बनी हुई है लेकिन हैरानी और बेहद परेशानी की बात ये है कि बेहद प्रतिष्ठित, उच्च और कठिन शिक्षा IIT पास स्टूडेंट्स भी बेरोजगारी का सामना कर रहे हैं. RTI से पता चला है कि, देश के सभी 23 IIT संस्थानों में इस साल 2023-24 बैच में क़रीब 8000 छात्रों यानी 38% आईआईटीयन को नौकरी नहीं मिल सकी है. लगातार तीन सालों से प्लेसमेंट में गिरावट देखी गई है. 

  • देश के आईआईटी कॉलेज में प्लेसमेंट का बड़ा संकट
  • 23 IIT में 2023-24 बैच में क़रीब 8000 छात्रों को नहीं मिली जॉब
  • 38% आईआईटीयन के सामने खड़ा हुआ नौकरी का संकट

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस भी नौकरी में बना अडंगा

1971 में IIT बॉम्बे से मेटलर्जिकल इंजीनियरिंग से ग्रेजुएट और चार कंपनियों के अध्यक्ष, राज नायर आईआईटी बॉम्बे के छात्रों की प्लेसमेंट में बड़ा रोल प्ले कर रहे हैं. एनडीटीवी से ख़ास बातचीत में बताते हैं कि प्लेसमेंट कम हुईं हैं, कंपनियों में नीचले स्तर पर हायरिंग लगभग रुक गई है. उन्होंने बताया कि वैश्विक परिस्थितियों के बीच किस तरह से भारत का जॉब मार्केट चरमराया है साथ ही आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस का भी बड़ा रोल नौकरियों के आड़े आ रहा है.

दुनियाभर में पिछले कुछ वक्त से आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का अधिक इस्तेमाल हो रहा है. एक तरफ जहां एआई तकनीक के क्षेत्र में नया बदलाव ला रहा है. वहीं एआई अब इंजीनियरिंग छात्रों की राह में भी रोड़ा बन रहा है.

खराब प्लेसमेंट से तनाव में 30% इंजीनियरिंग छात्र

IIT करके भी 38% छात्र बेरोज़गार रह जा रहे हैं. वैश्विक परिस्थितियों के बीच भारत का जॉब मार्केट बुरी स्थिति में है. जिसका असर प्लेसमेंट पर भी पड़ रहा है.

IIT के सभी 23 कैंपस में 38% को नौकरी नहीं मिली. कई IITs पूर्व छात्रों की मदद से नौकरियां तलाश रही है. कम्पनीज़ में बहुत कन्फ़्यूशन हो रहा है और,हायरिंग रुकी हुई है. इंजीनियर्स का सप्लाई बड़ी हो चुकी है जबकि डिमांड बेहद कम रह गई है. अब कोर इंजीनियरिंग में स्किल डेवलपमेंट पर ध्यान देना होगा. सैलरी पैटर्न भी बदला चुका है, इससे भी छात्रों में तनाव बढ़ने लगा है. क़रीब 30% इंजीनियरिंग छात्र तनाव में हैं.

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
अब भी पूछेंगे युवा क्यों छोड़ते हैं देश... : NEET-PG एग्जाम पोस्टपोन होने पर छलका छात्रा का दर्द, बयां की आपबीती
सक्सेस की गारंटी माने जाने वाले IIT कॉलेज में नौकरी की किल्लत, 38% छात्रों को नहीं मिला प्लेसमेंट; AI बना राह का रोड़ा
CSIR-UGC-NET की परीक्षा भी हुई स्थगित, NTA ने संसाधनों की कमी का दिया हवाला
Next Article
CSIR-UGC-NET की परीक्षा भी हुई स्थगित, NTA ने संसाधनों की कमी का दिया हवाला
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;