ज्ञानवापी मामले में फेसबुक पोस्ट को लेकर हिंदू कॉलेज के प्रोफेसर गिरफ्तार, केस दर्ज

दिल्ली विश्वविद्यालय के प्रोफेसर डॉ रतनलाल के खिलाफ दिल्ली पुलिस में शिकायत दर्ज हुई थी. ये शिकायत सुप्रीम कोर्ट के वकील विनीत जिंदल ने दर्ज कराई थी. डॉ रतनलाल के खिलाफ धर्मिक भावनाओं को आहत करने की शिकायत दर्ज हुई थी. इस मामले में प्रोफेसर रतन लाल को गिरफ्तार कर लिया गया है.

नई दिल्ली:

दिल्ली यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर रतन लाल को ज्ञानवापी मस्जिद केस को लेकर सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने के मामले में गिरफ्तार कर लिया गया है. एक जानकारी के मुताबिक दिल्ली पुलिस प्रोफेसर रतन लाल को कल कोर्ट में पेश कर सकती है. दिल्ली विश्वविद्यालय के प्रोफेसर डॉ रतनलाल के खिलाफ दिल्ली पुलिस में शिकायत दर्ज हुई थी. ये शिकायत सुप्रीम कोर्ट के वकील विनीत जिंदल ने दर्ज कराई थी. डॉ रतनलाल के खिलाफ धर्मिक भावनाओं को आहत करने की शिकायत दर्ज हुई थी.

दिल्ली पुलिस ने भी दिल्ली यूनिवर्सिटी प्रोफेसर रतन लाल की गिरफ्तारी की पुष्टि की है. दिल्ली पुलिस ने जानकारी देते हुए बताया कि डीयू के हिंदू कॉलेज के एसोसिएट प्रोफेसर रतन लाल को वाराणसी के ज्ञानवापी मस्जिद परिसर में शिवलिंग पाए जाने के दावों पर सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक पोस्ट करने के आरोप में शुक्रवार रात को गिरफ्तार कर लिया गया.

पुलिस के मुताबिक एसोसिएट प्रोफेसर रतन लाल को भारतीय दंड संहिता की धारा 153ए (धर्म, जाति, जन्मस्थान, निवास, भाषा आदि के आधार पर विभिन्न समूहों के बीच वैमनस्य फैलाने) और 295ए ( धर्म का अपमान कर किसी वर्ग की धार्मिक भावना को जानबूझकर आहत करना) के तहत साइबर पुलिस ने गिरफ्तार किया. वकील विनीत जिंदल ने अपनी शिकायत में कहा कि रतन लाल ने हाल ही में ‘शिवलिंग' पर एक अपमानजनक और उकसाने वाला ट्वीट किया था.

hi3pfts8

सोशल मीडिया पर की गई टिप्पणी का बचाव करते हुए, प्रोफेसर रतना लाल ने पहले कहा था, "भारत में, यदि आप कुछ भी बोलते हैं, तो किसी न किसी की भावना आहत होगी. इसलिए यह कोई नई बात नहीं है, मैं एक इतिहासकार हूं और मैंने कई टिप्पणियां की हैं, जैसा कि मैंने उन्हें लिखा था. मैंने अपनी पोस्ट में बहुत सुरक्षित भाषा का इस्तेमाल किया है और अब भी मैं अपना बचाव करूंगा."

डीयू प्रोफेसर रतन लाल की दिग्गज कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने निंदा की है. कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने अपने ट्विटर हैंडल से ट्वीट करते हुए लिखा, "मैं डीयू प्रोफेसर रत्न लाल की गिरफ्तारी की कड़ी निंदा करता हूं, क्योंकि उनके पास विचार और अभिव्यक्ति का संवैधानिक अधिकार है."

ये भी पढ़ें: छत्तीसगढ़: चित्रकोट जलप्रपात से महिला ने लगाई छलांग, वीडियो वायरल
भारत में महज 10 फीसदी लोग कमाते हैं ₹25 हजार महीना : रिपोर्ट
'सरकार हाथ पर हाथ धरे बैठी है', यूपी में बढ़ते बाल अपराध को लेकर अखिलेश ने सरकार पर बोला हमला

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


Video : सुप्रीम कोर्ट ने कहा- पहले देखा जाए कि ज्ञानवापी मामला 1991 के पूजा स्थल कानून का उल्लंघन तो नहीं?