विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Feb 27, 2023

त्रिपुरा में फिर बीजेपी सरकार बनने के संकेत, पढ़ें क्या कहते हैं Exit poll के नतीजे?

Tripura Assembly Elections 2023 Exit Poll: अगर प्रतिशत के हिसाब से देखें तो, त्रिपुरा चुनाव में बीजेपी को 45 प्रतिशत वोट मिल सकते हैं. लेफ्ट-कांग्रेस के गठबंधन का 32 प्रतिशत वोट शेयर रह सकता है. टीएमपी की बात करें तो उसका वोट शेयर 20 फीसदी रह सकता है.

Read Time: 3 mins

बीजेपी ने चुनाव के कुछ महीने पहले ही बिप्लब कुमार देब को सीएम पद से हटाकर मणिक साहा को नया सीएम बनाया था.

नई दिल्ली:

मेघालय-नगालैंड और त्रिपुरा विधानसभा चुनाव के एक्जिट पोल के नतीजे आने शुरू हो गए हैं. त्रिपुरा में बीजेपी की फिर से सरकार बनती दिख रही है. एक्जिट पोल के नतीजों में त्रिपुरा में बीजेपी को 45 प्रतिशत वोट मिल सकते हैं. इंडिया टुडे-एक्सिस माय इंडिया के एक्जिट पोल के अनुसार राज्य में एक बार फिर से बीजेपी की वापसी का अनुमान है. एक्जिट पोल में बीजेपी को 36-45 सीटें मिल रही हैं. जबकि टीएमपी (टिपरा मोथा) को 9-16 सीटें मिलने का अनुमान है. लेफ्ट+ को 6-11 सीटें मिल सकती हैं. अन्य के खाते में 0 सीटें जाती दिख रही हैं. 

अगर प्रतिशत के हिसाब से देखें तो, त्रिपुरा चुनाव में बीजेपी को 45 प्रतिशत वोट मिल सकते हैं. लेफ्ट-कांग्रेस के गठबंधन का 32 प्रतिशत वोट शेयर रह सकता है. टीएमपी की बात करें तो उसका वोट शेयर 20 फीसदी रह सकता है.

60 सीटों वाली विधानसभा में बहुमत का आंकड़ा 31 है. त्रिपुरा में 16 फरवरी को मतदान हुआ था.वहीं, लेफ्ट-कांग्रेस के गठबंधन का 32 प्रतिशत वोट शेयर रह सकता है. त्रिपुरा चुनाव में टीएमपी लेफ्ट से भी बेहतर प्रदर्शन करती दिख रही है. एक्जिट पोल के मुताबिक इस चुनाव में टीएमपी को 9 से 16 सीटें मिल सकती हैं. 

वहीं, Zee News-Matrize ने भविष्यवाणी की है कि बीजेपी-एनडीपीपी गठबंधन नगालैंड की 60 सीटों में से 35-43 सीटें जीतेगा. जबकि मेघालय में कोनराड संगमा की NPP के सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरने की संभावना है. 

हालांकि, एक्जिट पोल के अनुमान कई बार गलत भी साबित हुए हैं. चुनाव के नतीजे 2 मार्च को आएंगे.

पहली बार कांग्रेस-लेफ्ट का गठबंधन
त्रिपुरा में बीजेपी को सत्ता से हटाने के लिए कांग्रेस और लेफ्ट में गठबंधन हो गया. पिछले पांच दशक के राजनीतिक इतिहास में यहां कांग्रेस और सीपीएम हमेशा से एक-दूसरे के धुर विरोधी रहे हैं. 2018 में बीजेपी ने पहली बार सत्ता हासिल कर ली थी. वहीं, टिपोरा मोथा के प्रमुख और त्रिपुरा राजपरिवार के वंशज प्रद्योत बिक्रम माणिक्य देबबर्मन मुकाबले ने तिपुरा मोथा दल के साथ चुनाव में उतरकर मुकाबले को दिलचस्प बना दिया था.

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
शादी में मछली और मांस खाने को नहीं मिला तो दूल्हा मंडप से भागा, जमकर हुई मारपीट; देखें वीडियो
त्रिपुरा में फिर बीजेपी सरकार बनने के संकेत, पढ़ें क्या कहते हैं Exit poll के नतीजे?
हाथरस हादसे में भोले बाबा पर कार्रवाई के बजाय क्लीन चिट, मायावती ने SIT रिपोर्ट पर उठाए सवाल
Next Article
हाथरस हादसे में भोले बाबा पर कार्रवाई के बजाय क्लीन चिट, मायावती ने SIT रिपोर्ट पर उठाए सवाल
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;