बिहार : सीएम नीतीश कुमार ने कहा, जल्द ही लाखों नियुक्तियां की जाएंगी

सभी विभागों में कितनी बड़ी संख्या में नियुक्ति की प्रक्रिया शुरू हो गई, कैबिनेट की बैठकों में नियुक्तियों को मंजूरी दी जा रही

बिहार : सीएम नीतीश कुमार ने कहा, जल्द ही लाखों नियुक्तियां की जाएंगी

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार कहा है कि बिहार में सरकार लगातार नियुक्तियां कर रही है (फाइल फोटो).

पटना:

बिहार में जब से महगठबंधन की सरकार बनी हैं नौकरी और रोजगार पर हर दिन कोई ना कोई घोषणा होती है. मंगलवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने घोषणा कर डाली कि लाखों लोगों की अलग-अलग विभागों में नियुक्ति होगी. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने कहा है कि राज्य में लाखों नियुक्तियां की जाएंगी. उन्होंने कहा कि अभी कुछ पदों पर नियुक्तियां की गई हैं लेकिन बहुत सारी नियुक्तियां होने वाली हैं. मंत्रिमंडल की बैठकों में विभागों में नियुक्तियों को मंजूरी दी जा रही है.

नीतीश कुमार ने मंगलवार को पशु पालन विभाग में नवनियुक्त लोगों को नियुक्ति पत्र देने के बाद अपने भाषण में कहा कि , अभी तो कुछ लोगों की नियुक्ति हो गई है. बाकि और लोगों की नियुक्ति होनी है. वो बहुत जल्दी हो जानी चाहिए. हमारे उप मुख्यमंत्री ने बता दिया कि सभी विभागों में कितनी बड़ी संख्या में नियुक्ति की प्रक्रिया शुरू हो गई है. 

उन्होंने कहा कि, आप देख रहे हैं कि जब भी कैबिनेट की बैठक हो रही है, अलग-अलग विभागों की, उनमें जितनी नियुक्तियां होनी हैं वह हम लोग मंजूर करते जा रहे हैं. बहुत जल्दी ही, जहां जहां हम नियुक्ति कर सकते हैं करेंगे. देख लीजिए जल्दी ही लाखों लोगों की नियुक्ति होगी.

हालांकि इसके पूर्व अपने भाषण में उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने स्वास्थ्य विभाग में सात हज़ार से अधिक लोगों की नियुक्तियों के सम्बंध में घोषणा की और कहा कि जल्द अलग-अलग स्तर पर नियुक्ति की प्रक्रिया शुरू होगी. बिहार में महागठबंधन सरकार के बनने के बाद अब किसी विभाग में जब नियुक्ति पत्र बांटने का मौक़ा होता है तो उसे भी एक समारोह में पहली बार मुख्यमंत्री के हाथों से बंटवाया जा रहा है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

हालांकि जब एनडीए की सरकार थी तो तेजस्वी यादव विपक्ष के नेता के रूप में सरकार को घेरने के लिए नीतीश कुमार को लोगों को उन्नीस लाख लोगों को कब नौकरी या रोज़गार देंगे उसकी याद दिलाते थे. हालांकि विपक्ष में बैठी भाजपा का कहना है कि लोगों का चयन महीनों पहले हो गया था लेकिन नीतीश ने नियुक्ति की प्रक्रिया धीमी इसलिए कर दी थी कि वो भाजपा के साथ शासन काल में इस काम को पूरा नहीं करना चाहते थे.