विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Jun 16, 2020

लद्दाख : चीनी सेना के साथ हुई हिंसक झड़प में कर्नल समेत 3 भारतीय जवानों ने गंवाई जान, दोनों पक्षों को हुआ नुकसान

India China border row: लद्दाख में चीन (China) की सेना के साथ हुई झड़प में भारतीय सेना के कर्नल समेत तीन जवानों की जान चली गई. लद्दाख इलाके में 1962 के बाद पहला ऐसा मौका है जब सैनिकों ने जान गंवाई है.

Read Time: 3 mins

India China war:: लद्दाख में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच हिंसक झड़प. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

लद्दाख में चीन (China) की सेना के साथ हुई झड़प में भारतीय सेना के कर्नल समेत तीन जवानों की जान चली गई. लद्दाख इलाके में 1962 के बाद पहला ऐसा मौका है जब सैनिकों ने जान गंवाई है. सेना से जुड़े सूत्रों का कहना है कि चीनी सेना को भी काफी नुकसान हुआ है.  बताया जा रहा है कि दोनों सेनाओं की ओर से रात में पीछे हटने की प्रक्रिया जारी थी लेकिन अब अचानक चीनी सैनिकों की ओर से हरकत की गई है जिसमें भारतीय सैनिकों की जान चली गई. वहीं चीन के विदेश मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि भारत अगर एकतरफा कदम उठाएगा तो इस तरह की दिक्कतें सामने आएंगी. चीन का आरोप है कि भारतीय सैनिक उसकी सेना में घुस आए थे. चीन की ओर से की गई इस हरकत के बाद अब विश्वास बहाली बड़ा मुद्दा हो गया है. वहीं दोनों सेनाओं की ओर से इस सीमा पर तोपें और अन्य साजो-सामान भी इकट्ठा कर रही है और सैनिकों की संख्या भी बढ़ाई जा रही है. वहीं मिल रही है जानकारी के बाद इस घटना के बाद दोनों देशों के सैन्य अधिकारियों के बीच उच्च स्तरीय बैठक जारी है.

आपको बता दें कि भारत-चीन के बीच सीमाओं को लेकर विवाद है. दोनों देशों के बीच लाइन ऑफ कंट्रोल पर अधिकारिक बंटवारा नहीं हुआ है. लद्दाख में भारतीय सेना की ओर से निर्माण कार्य किया जा रहा है जिसको लेकर चीन ने आपत्ति जताई है. चीन का दावा है कि भारत उसके इलाके में निर्माण कर रहा है. 

आपको बता दें कि पेंगॉन्ग सो में हिंसक झड़प के बाद पांच मई से ही भारत और चीन की सेना के बीच गतिरोध चल रहा है . पेंगॉन्ग सो झील के पास फिंगर इलाके में भारत द्वारा महत्वपूर्ण सड़क बनाने पर चीन ने कड़ा ऐतराज किया था. इसके अलावा गलवान घाटी में दरबुक-शायोक-दौलत बेग ओल्डी रोड को जोड़ने वाली सड़क पर भी चीन ने आपत्ति जतायी थी. इसके बाद से ही दोनों देशों की सेनाएं आमने-सामने हैं . छह जून को सैन्य स्तरीय वार्ता के दौरान भारत और चीन 2018 में वुहान शिखर बैठक में दोनों देशों के शीर्ष नेताओं के बीच बनी सहमति के आधार पर फैसला करने पर सहमत हुए थे .छह जून को लेह की 14 वीं कोर के जनरल ऑफिसर कमांडिंग लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह और तिब्बती सैन्य जिले के कमांडर मेजर जनरल लिउ लिन के बीच समग्र बैठक हुई थी .

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
46 साल बाद आज खुलेंगा 12वीं सदी का ‘रत्न भंडार’, क्‍या खजाने की निगरानी कर रहा सांप
लद्दाख : चीनी सेना के साथ हुई हिंसक झड़प में कर्नल समेत 3 भारतीय जवानों ने गंवाई जान, दोनों पक्षों को हुआ नुकसान
चीख-पुकार...मंजर देख कांप जाएगी रूह, उन्नाव हादसे के चश्मदीद ने बताया आंखों देखा हाल
Next Article
चीख-पुकार...मंजर देख कांप जाएगी रूह, उन्नाव हादसे के चश्मदीद ने बताया आंखों देखा हाल
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;