15 साल में इस दीपावली आग की घटनाओं संबंधी इमरजेंसी कॉल्‍स की संख्या र​ही सबसे कम 

दमकल सेवा को इस दीपावली पर 152 इमरजेंसी कॉल आए, जो पिछले साल से 25 प्रतिशत कम और पिछले 15 साल में सबसे कम हैं. अकसर दीपावली पर आग लगने की घटनाओं को लेकर आने वाले कॉल की संख्या बढ़ जाती है.

15 साल में इस दीपावली आग की घटनाओं संबंधी इमरजेंसी कॉल्‍स की संख्या र​ही सबसे कम 

इस साल ​दीवाली पर आग लगने संबंधी आपात कॉल में कमी आई है. फाइल फोटो

नई दिल्ली:

दिल्ली दमकल सेवा को इस दीपावली पर 152 इमरजेंसी कॉल आए, जो पिछले साल से 25 प्रतिशत कम और पिछले 15 साल में सबसे कम हैं. दिल्ली दमकल सेवा (डीएफएस) के निदेशक अतुल गर्ग ने शुक्रवार को बताया कि दीपावली पर आग लगने की कोई बड़ी घटना नहीं हुई, वहीं जो घटनाएं रिपोर्ट हुईं उनमें कोई हताहत नहीं हुआ. दमकल विभाग ने बताया कि अकसर दीपावली पर आग लगने की घटनाओं को लेकर आने वाले कॉल की संख्या बढ़ जाती है. आग लगने के मुख्य कारण पटाखे जलाना, दिए जलाते समय पर्याप्त सावधानियां नहीं बरतना और छोटे-छोटे बल्ब से सजावट करते समय ढीले तारों की जांच नहीं करना और शॉर्ट सर्किट होता है.

गर्ग ने कहा, ‘‘इस साल दीपावली पर आग लगने की घटनाओं संबंधी कॉल की संख्या में कमी आना सकारात्मक संकेत है. यह पहली बार है, जब दीपावली पर केवल 152 इमरजेंसी कॉल आए. यह इस त्योहार पर आए ऐसे कॉल्‍स की पिछले 15 साल में सबसे कम संख्या है.'' उन्होंने कहा, ‘‘इसका एक कारण लोगों के बीच जागरुकता है. इस बार पटाखे जलाने से आग लगने संबंधी कॉल की संख्या काफी कम रही और लोगों ने दीपावली मनाते समय सावधानी बरती.''दमकल विभाग के आंकड़ों के अनुसार, उसे दीपावली पर 152 इमरजेंसी कॉल किए गए, जिनमें से 117 कॉल आग लगने की घटनाओं से संबंधित थीं. इनके अलावा 10 कॉल जानवरों और 12 कॉल पक्षियों को बचाने के लिए सहायता मांगने के लिए थीं, एक फोन कॉल मकान ढहने के संबंध में था, सात अन्य कॉल बचाव संबंधी अभियानों के लिए और दो अन्य फोन कॉल में दो सड़क हादसों के बाद सहायता मांगी गई. गर्ग ने बताया कि इस बार आए फोन कॉल की संख्या पिछले साल की तुलना में 25 प्रतिशत कम रही.


दमकल विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि बाहरी दिल्ली के मंगोलपुरी इलाके में बृहस्पतिवार की रात आग लगने की घटना की सूचना दी गई. यह आग रात 10 बजकर 14 मिनट पर मंगोलपुरी की एक फैक्ट्री में लगी और घटनास्थल पर दमकल की आठ गाड़ियां भेजी गईं. उन्होंने बताया कि भूमिगत तल में रखी टाइल, पहली मंजिल पर रखे कृत्रिम फूल और दूसरी मंजिल पर रखी जूता निर्माण सामग्री में आग लग गई. उन्होंने बताया कि इस दौरान कोई हताहत नहीं हुआ. आग बुझाने की प्रक्रिया अपराह्न तीन बजे पूरी हुई और आग लगने के कारण का पता लगाया जा रहा है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इससे पहले बृहस्पतिवार को अपराह्न करीब एक बजे नीलोठी एक्सटेंशन में एक गोदाम के भूमिगत तल में भीषण आग लग गई और दमकल की आठ गाड़ियां मौके पर भेजी गईं. दमकल अधिकारियों ने बताया कि गोदाम के भूमिगत तल में रखे चीनी मिट्टी के सामान और डिस्पोजेबल (एक बार ही इस्तेमाल करने योग्य) बर्तनों में आग लग गई, लेकिन इस घटना में कोई हताहत नहीं हुआ. बृहस्पतिवार दोपहर साढ़े तीन बजे तक आग पर काबू पा लिया गया. सरकार द्वारा प्रतिबंध लगाए जाने के बावजूद शहर में कुछ लोगों ने पटाखे जलाए.अधिकारियों ने बताया कि दमकल विभाग के पास पिछले साल दीपावली में आग लगने की घटनाओं के संबंध 205 कॉल आए थे. दमकल अधिकारियों के अनुसार, पिछले दो दिन से लगभग 3,000 दमकल कर्मी ड्यूटी पर थे और किसी भी अप्रिय घटना से निपटने के लिए दिल्ली दमकल सेवा के दलों को राष्ट्रीय राजधानी में 30 से अधिक विशिष्ट स्थानों पर तैनात किया गया था.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)