"तुम झंडा नोचोगे हम बिल्ला..." समाजवादी नेता ने पुलिस अफसर को धमकाया; देखें Video

वीडियो में पुलिस थाने के अंदर अर्पित यादव समेत सपा समर्थकों और पुलिस अधिकारी को चेतावनी देते देखा जा सकता है. थाने में मौजूद अन्य पुलिसकर्मी और पार्टी के सदस्यों के हस्तक्षेप के बाद विवाद खत्म हो सका.

कानपुर:

उत्तर प्रदेश के कानपुर से समाजवादी पार्टी (सपा) के  नेता की दबंगई का एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है. वीडियो में सपा नेता अर्पित यादव पुलिस अधिकारी को धमकाते नजर आ रहे हैं. यह पहला वाकया नहीं है जब सपा नेता ने किसी पुलिसकर्मी को धमाकाया है. पहले भी ऐसे कई विवादित वाकये सामने आ चुके हैं.

सपा के पार्षद अर्पित यादव को एक पुलिस अधिकारी को धमकी भरे लहजे में यह कहते हुए देखा जा सकता है कि "तुम झंडा नोचोगे, हम बिल्ला नोचेंगे. सपा कार्यकर्ता भाजपा के कानपुर-बुंदेलखंड क्षेत्रीय पार्टी कार्यालय के उद्घाटन का विरोध कर रहे थे. इसके विरोध में अर्पित यादव और उनके साथ सपा समर्थकों ने सपा का बैनर वहां लगा दिया था. जिसे बर्रा थाने के निरीक्षक पवन मिश्रा ने कथित तौर पर फाड़ दिया था. 

जब कल्याण सिंह ने राजनाथ सिंह के CM बनने में अटका दिया था रोड़ा, PM वाजपेयी का नहीं उठाया था फोन...

सपा कार्यकर्ताओं का कहना है कि निर्माण के लिए नौबस्ता मौरंग मंडी से भूमि का अधिग्रहण किया गया था. राज्य के दक्षिणी हिस्से के लोगों की सेवा के लिए यहां एक अस्पताल का निर्माण होना था, लेकिन उस जगह भाजपा कार्यालय बना दिया गया.

वीडियो में पुलिस थाने के अंदर अर्पित यादव समेत सपा समर्थकों और पुलिस अधिकारी को चेतावनी देते देखा जा सकता है. थाने में मौजूद अन्य पुलिसकर्मी और पार्टी के सदस्यों के हस्तक्षेप के बाद विवाद खत्म हो सका. अर्पित यादव ने इस दौरान पुलिस से यह भी कहा कि "जाओ पता लगा लो कि मैं कौन हूं".


सियासी किस्सा - 3: मुलायम की मेहरबानी से राजा भैया ने पहली बार देखा था जुड़वा बेटों का मुंह, मायावती ने 10 महीने रखा था कैद

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ क्षेत्रीय कार्यालय का उद्घाटन करने वाले थे. समाजवादी युवजन सभा के कानपुर ग्रामीण जिलाध्यक्ष अर्पित यादव को हिरासत में लेकर उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गयी है. उन पर भारतीय दंड संहिता की धारा 147 (दंगा) और 332 (एक लोक सेवक को अपने कर्तव्य से रोकने के लिए चोट पहुंचाना) के तहत आरोप लगाया गया है.