दक्षिण पश्चिम मॉनसून ने केरल में दी दस्तक, मौसम विभाग ने दी जानकारी

न्‍यूज एजेंसी पीटीआई ने IMD के डायरेक्‍टर जनरल मृत्‍युंजय मोहापात्रा के हवाले से कहा, 'दक्षिण पश्चिम मॉनसून ने केरल के दक्षिणी हिस्‍से में दस्‍तक दे दी है.'

दक्षिण पश्चिम मॉनसून ने केरल में दी दस्तक, मौसम विभाग ने दी जानकारी

दक्षिण पश्चिम मॉनसून ने केरल में दस्‍तक दे दी है (प्रतीकात्‍मक फोटो)

खास बातें

  • देश में मॉनसून इस बार सामान्‍य रहने का है अनुमान
  • मध्‍य भारत में हो सकती है सामान्‍य से अधिक बारिश
  • पहले 31 मई को मॉनसून केरल पहुंचने का था अनुमान

दक्षिण पश्चिम मॉनसून ने केरल में दस्‍तक दे दी है. भारतीय मौसम विभाग (IMD) ने यह जानकारी दी है.मॉनसून, पूर्व के अनुमान से करीब दो दिन की देरी से केरल पहुंचा है. IMD ने पहले 31 मई को तय समय से पहले मॉनसून के केरल पहुंचने का अनुमान लगाया था, बाद में इस अनुमान में बदलाव करते हुए दो जून को मॉनसून के दस्‍तक देने की बात कही गई थी. न्‍यूज एजेंसी पीटीआई ने IMD के डायरेक्‍टर जनरल मृत्‍युंजय मोहापात्रा के हवाले से कहा, 'दक्षिण पश्चिम मॉनसून ने केरल के दक्षिणी हिस्‍से में दस्‍तक दे दी है.'


सामान्य रहेगा मानसून, जानें कहां होगी कितनी बारिश, आईएमडी ने जारी किया पूर्वानुमान

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इससे पहले, भारत मौसम विज्ञान विभाग ने बताया था कि दक्षिण-पश्चिम मॉनसून  के उत्तर और दक्षिण भारत में सामान्य, मध्य भारत में सामान्य से अधिक और पूर्व तथा पूर्वोत्तर भारत में सामान्य से कम रहने का अनुमान है. दक्षिण पश्चिम मॉनसून  2021 के लिए अपना दीर्घावधि पूर्वानुमान जारी करते हुए आईएमडी ने कहा था कि देश में इस साल मॉनसून  सामान्य रहने का पूर्वानुमान है. इसके सामान्य दीर्घावधि औसत (एलपीए) के 96 से 104 प्रतिशत होने की संभावना जताई गई थी. मोहापात्र ने कहा, ‘‘ दक्षिण-पश्चिम मानसनू (जून–सितंबर) की वर्षा सामान्य सामान्य दीर्घावधि औसत (एलपीए) के 96 से 104 प्रतिशत होने की संभावना है.''उन्होंने कहा, ‘‘ मात्रात्मक रूप से, देश में मॉनसून  की बारिश के एलपीए के 101 प्रतिशत होने की संभावना है।''वर्ष 1961-2010 मॉनसून  की बारिश का एलपीए 88 सेंटीमीटर था. (एजेंसी से भी इनपुट)