यदि कोरोना वैक्सीन की मिश्रित डोज लग जाए तो 'विपरीत' असर नहीं होता, केंद्र ने कही यह बात

उत्तर प्रदेश के सिद्धार्थनगर ज़िले में कुछ लोगों को वैक्सीन की दोनों अलग अलग डोज देने का मामला सामने आया था. जिले के 20 लोगों को पहली डोज तो कोविशील्ड की लगी लेकिन दूसरी डोज उन्हें कोवैक्सीन की लगा दी गई.

यदि कोरोना वैक्सीन की मिश्रित डोज लग जाए तो 'विपरीत' असर नहीं होता, केंद्र ने कही यह बात

प्रतीकात्मक तस्वीर.

नई दिल्ली:

सिद्धार्थनगर जिले के एक सरकारी अस्पताल में उत्तर प्रदेश के ग्रामीणों के एक समूह को कोरोना के टीकों की मिश्रित खुराक दिए जाने पर विवाद के जवाब में, केंद्र ने गुरुवार दोपहर कहा, यदि किसी व्यक्ति की दूसरी कोविड वैक्सीन की खुराक पहले से अलग है, तो उसपर कोई खास प्रतिकूल प्रभाव पड़ने की संभावना नहीं है. गुरुवार को स्वास्थ्य मंत्रालय की प्रेस कॉन्फ्रेंस में नीति आयोग के सदस्य डॉक्टर वीके पॉल ने कहा, 'प्रोटोकॉल क्लियर है. पहली वाली का ही दूसरी डोज लगना चाहिए. इस मामले में जांच होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि अगर दोनों अलग अलग वैक्सीन की डोज अगर लग जाए तो विपरीत असर नहीं होता. इस साइंटिफिक ओपिनियन को देखना होगा. अपील यही है कि जिसका पहला डोज उसी का दूसरा डोज लगाया जाए.'

दिल्ली में कोरोना पॉजिटिविटी रेट गिरकर करीब डेढ़ फ़ीसदी हुआ, पिछले 24 घंटों में 1072 नए मामले

बता दें कि उत्तर प्रदेश के सिद्धार्थनगर ज़िले में कुछ लोगों को वैक्सीन की दोनों अलग अलग डोज देने का मामला सामने आया था. जिले के 20 लोगों को पहली डोज तो कोविशील्ड की लगी लेकिन दूसरी डोज उन्हें कोवैक्सीन की लगा दी गई. वैक्सीन के इस कॉकटेल के कारण लोगों में दहशत का माहौल है. ज़िले के CMO ने माना था कि यह गलती हुई है. दोषियों को पहचान लिया गया है, जल्द ही उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

कोरोना काल में AMU करेगा UG-PG कोर्सेज की परीक्षा आयोजन, इस तारीख को होंगे पेपर

सिद्धार्थनगर के औदहीकलां गांव के एक ग्रामीण ने बताया था कि उन्हें और उनके साथियों को ज़िले के बढ़नी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर एक अप्रैल को कोविशील्ड लगाई गई थी. 14 मई को उन लोगों को टीके की दूसरी डोज लगाई गई. उनके टीका लगवाने के बाद जब ANM ने और टीका मंगवाया तब टीका जारी करने वाले डॉक्टर ने बताया कि उन लोगों को गलत टीका लग गया है. ग़लत टीका लगवाने वाले ग्रामीण अब किसी अनहोनी से डरे हुए हैं.

मॉनक्लोनल एंटीबॉडी का भारत में इस्तेमाल शुरू, 60000 की सिंगल डोज़ से कोविड का इलाज

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com