गवर्नर कोश्‍यारी को सरकारी प्‍लेन न देने के मामले में शिवसेना की सफाई, 'पीएम भी कहते हैं VVIP संस्‍कृति नहीं होनी चाहिए'

प्रियंका चतुर्वेदी ने कहा, ' राज्‍यपाल कैसे बर्ताव करते हैं, इस पर हम कमेंट नहीं करेगे. वे संवैधानिक पद पर हैं लेकिन कोरोना के समय पर भी बीजेपी नेताओं से मिलते रहे.

गवर्नर कोश्‍यारी को सरकारी प्‍लेन न देने के मामले में शिवसेना की सफाई, 'पीएम भी कहते हैं VVIP संस्‍कृति नहीं होनी चाहिए'

शिवसेना प्रवक्‍ता प्रियंका चतुर्वेदी ने मामले में अपनी पार्टी का पक्ष रखा है

नई दिल्ली:

महाराष्‍ट्र के राज्‍यपाल भगत सिंह कोश्यारी (Governor Bhagat Singh Koshyari) को राज्‍य सरकार (Maharashtra Government) की ओर से सरकारी विमान (State plane) नहीं देने के मामला गरमाता जा रहा है. शिवसेना की प्रवक्‍ता और सांसद प्रियंका चतुर्वेदी (Priyanka Chaturvedi) ने इस मामले में अपनी पार्टी का पक्ष रखा है. उन्‍होंने कहा, प्रधानमंत्री कहते हैं कि VVIP संस्कृति नहीं होनी चाहिए. वे (राज्‍यपाल कोश्‍यारी) राज्य में कहीं भी जाने के लिए सरकारी विमान ले सकते हैं पर निजी यात्रा के लिए नहीं. उन्‍होंने कहा कि जो सरकारी विमान हैं, वे राज्‍य के विमान हैँ. आप उन्‍हें राज्‍य में कहीं भी ले जाए, कोई रोक नहीं है लेकिन पर्सनल यूज करें यह ठीक नहीं. हमारे यहां ऐसा कोई नहीं करता.


कंगना रनौत मुद्दे पर प्रियंका चतुर्वेदी का ट्वीट, 'बीजेपी के दिल में नफरत और गुस्‍सा होगा तभी..'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इस सवाल कि गवर्नर कोश्‍यारी की यह यात्रा पर्सनल नहीं थी. अपने राज्‍य उत्‍तराखंड में एवलांच त्रासदी से प्रभावित लोगो से मिलने के लिए वे अपने राज्‍य जाना चाहते थे, प्रियंका ने कहा कि ठीक है लेकिन राज्‍यपाल इस समय संवैधानिक पद पर हैं. महाराष्‍ट्र को लेकर भी उनकी जिम्‍मेदारी हैं. उन्‍हें जाने से नहीं रोक गया था, यह कहा गया था कि वे कमर्शियल फ्लाइट ले लें. इससे राज्‍य सरकारों पर सवाल उठा सकता है कि प्राइवेट यूज के लिए विमान का इस्‍तेमाल किया गया. उद्धव ठाकरे के नेतृत्‍व वाली महाराष्‍ट्र सरकार की राज्‍यपाल कोश्‍यारी से तनातनी के सवाल पर प्रियंका चतुर्वेदी ने कहा, ' राज्‍यपाल कैसे बर्ताव करते हैं, इस पर हम कमेंट नहीं करेगे. वे संवैधानिक पद पर हैं लेकिन कोरोना के समय पर भी बीजेपी नेताओं से मिलते रहे. जब एक सुसाइड हुई तो एक परिवार उनके मिलने के लिए समय मांगता रहा लेकिन वे इस परिवार से नहीं मिले. जो महाराष्‍ट्र को पाकिस्‍तान बताते थे, उनसे मिले.'