चॉपर हादसे के एकमात्र सर्वाइवर ग्रुप कैप्टन लाइफ सपोर्ट पर, बचाने की पूरी कोशिश : रक्षामंत्री

रक्षा मंत्री ने बताया कि दुर्घटनास्‍थल से लोगों को सर्वाइव करने का प्रयास किया गया जितने लोगों को निकाला जा सकता था उन्‍हें अस्‍पताल पहुंचाया गया.

नई दिल्‍ली :

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने तमिलनाडु (Tamilnadu) के नीलगिरि में हुई हेलीकाप्‍टर दुर्घटना (Chopper Crash) के बारे में आज लोकसभा में जानकारी दी. उन्‍होंने बताया कि MI हेलीकॉप्‍टर में सीडीएस जनरल बिपिन रावत (CDS General Bipin Rawat)  और अन्‍य 13 लोग सवार थे. जनरल रावत अपने शेड्यूट विजिट पर थे और इनके हेलीकॉप्‍टर को 12:15 बजे वेलिंगटन लैंड करना था लेकिन इससे पहले ही यह दुर्घटनाग्रस्‍त हो गया. जंगल में स्‍थानीय लोगों ने आग लगी देखी, जिसके बारे में सूचित किया गया. सूचना मिलने पर जल्‍द से जल्‍द बचाव दल पहुंच गया. रक्षा मंत्री ने बताया कि दुर्घटनास्‍थल से लोगों को सर्वाइव करने का प्रयास किया गया  जितने लोगों को निकाला जा सकता था उन्‍हें अस्‍पताल पहुंचाया गया. हादसे में 14 में से 13 लोगों की मौत हुई, इसके सीडीएस और उनकी पत्‍नी शामिल थे.

VIDEO: जनरल बिपिन रावत का चॉपर क्रैश होने से कुछ ही क्षण पहले कैमरे में हुआ कैद

राजनाथ सिंह ने बताया कि सभी पार्थिव शरीर को IAF के प्‍लेन से आज दिल्‍ली लाया जाएगा. हादसे में केवल ग्रुप कैप्‍टन वरुण सिंह की जान बची है. वे लाइफ सपोर्ट पर हैं. उनकी हालत क्रिटिकल लेकिन स्थिर है, उन्‍हें बचाने के हरसंभव प्रयास किए जा रहे हैं. हादसे के कारणों का पता लगाने के लिए एक जांच टीम का गठन कर दिया गया है और इसने अपना काम भी शुरू कर दियाा है.  सीडीएस जनरल बिपिन रावत का अंतिम संस्‍कार पूरे मिलिट्री सम्‍मान के साथ किया जाएगा. हादसे में मारे गए अन्‍य लोगों को अंतिम संस्‍कार भी यथोचित सम्‍मान के साथ किया जाएगा जनरल रावत और उनकी पत्नी का अंतिम संस्कार शुक्रवार को दिल्ली छावनी में किया जाएगा.इसके बाद सदन ने देश के पहले सीडीएस और अन्‍य लोगों के हेलीकॉप्‍टर हादसे में मारे गए लोगों को भावभीनी श्रद्धांजलि दी. हादसे में दिवंगत लोगों के सम्‍मान में मौन रखा गया. 


पूरी नहीं हो पाई जनरल रावत की ये ख्वाहिश, चाचा ने बताया- पैतृक गांव को लेकर क्या चाहते थे CDS

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


गौरतलब है कि तमिलनाडु के नीलगिरि में हुई हेलीकॉप्‍टर दुर्घटना में बुधवार को चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावतऔर उनकी पत्नी सहित कुल 13 लोगों का निधन हो गया था. वायु सेना के Mi-17V5 हेलीकॉप्टर में चालक दल के चार सदस्य और सीडीएस सहित कुल 14 लोग सवार थे. तमिलनाडु के कोयंबटूर के निकट सुलूर में वायुसेना अड्डे से कल सुबह उड़ान भरने के करीब 15 मिनट बाद यह हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त हो गया. यह वेलिंगटन जा रहा था. जहां रक्षा सेवा स्टॉफ कॉलेज है. यह कोयंबटूर और सुलूर के बीच कुन्नूर में दुर्घटनाग्रस्त हो गया. 63 वर्षीय जनरल रावत को 2019 के आखिर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार ने देश के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) के रूप में नियुक्त किया था.