मुंबई में PMC बैंक के खाताधारकों ने RBI दफ्तर के बाहर थाली पीटकर किया प्रदर्शन

शुक्रवार को मुम्बई के RBI दफ्तर के बाहर PMC बैंक के खाताधारकों ने थाली पीटकर विरोध प्रदर्शन किया. पैसे नहीं मिलने से उन्हें घर चलाने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है.

मुंबई में PMC बैंक के खाताधारकों ने RBI दफ्तर के बाहर थाली पीटकर किया प्रदर्शन

पीएमसी बैंक के खाताधारकों ने किया प्रदर्शन

मुंबई:

पीएमसी बैंक के खाताधारक लगातार परेशान हैं.11 महीनो से ज़्यादा समय बीतने के बावजूद उन्हें उनके पैसे वापस नहीं मिले हैं.अबतक कुल 62 खाताधारकों (Account holders) की मौत भी हो गयी है. खाताधारक लगातार RBI के दफ्तर के बाहर प्रदर्शन कर कोई उपाय निकालने की मांग कर रहे हैं. शुक्रवार को मुम्बई के RBI दफ्तर के बाहर PMC बैंक के खाताधारकों ने थाली पीटकर विरोध प्रदर्शन किया. पैसे नहीं मिलने से उन्हें घर चलाने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. पीएमसी बैंक में कई ऐसे खाताधारक हैं जिनकी पूरी जिंदगी की कमाई ही बैंक में फस गयी है. 

लोगों के घरों में साफसफाई का काम करने वाली प्रमिला शर्मा बताती है कि पूरे जीवन की जमापूंजी को उन्होंने इस बैंक में रखा था. पैसे अब नहीं मिल रहे हैं, इनका बेटा दिव्यांग है, 2 बेटियां हैं, उनकी शादी कैसे करें?  यह पता नहीं. प्रमिला शर्मा ने कहा, "मेरे बेटे को फ़ीट आ रहा है, उसका इलाज कैसे करवाऊं पता नहीं, मेरी बेटी की तबीयत भी खराब है, मैं इन्हें कहा ले जाऊं..कोई हमें 1000-500 ही देगा.. हमारे पैसे वापस करो".

57 साल के गुरविंदर सिंह देख नहीं सकते हैं बैंक में उनके करीब 65 लाख रुपये थे. उसके ब्याज से घर चलता था.. अब अपनी और अपने घरवालों की दवाई के लिए पैसे नहीं है इस कारण उन्होंने इलाज बंद करवा दिया है. इस तरह के और भी कई खाताधारक हैं जिनकी परेशानी बहुत बढ़ गई है.. लॉकडाउन में कई लोगों ने अपना रोज़गार खोया है.. पैसे पूरी तरह खत्म हो चुके हैं.

रिजर्व बैंक ने पीएमसी बैंक के जमाकर्ताओं के लिए निकासी सीमा बढ़ाकर एक लाख रुपये की


 ए एस मेहता नामक खाताधारक ने NDTV को बताया कि मैं कोरोना का शुक्रगुजार हूं क्योंकि कोरोना के वजह से हमें गुरुद्वारा से राशन मिला, हमने वहां से राशन खाया.. अब वो बंद हो गया है और अब हमें खाने के लाले पड़े हैं. चार दिन से हम खिचड़ी खा रहे हैं. वो भी हम कितना दिन खाएंगे? जवाहर गुप्ता नाम के एक अन्य खाताधारक ने कहा कि मुझे मेरी बेटी के 50 हज़ार फीस भरनी है, वो मैं कैसे भरूंगा? मेरे स्किन में मुझे कई इंफेक्शन हो रहे हैं उसका इलाज नहीं करवा पा रहा हूं.  खाने के पैसे नहीं हैं.. कभी चप्पल टूट जाती हैं, कभी कपड़े फट जाते हैं, हम पैसे कहां से लाएं?

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बताते चले कि पिछले कई महीनों से खाताधारक RBI से मिलकर अपनी बात रखने की कोशिश कर रहे हैं. हर बार इन्हें जल्द राहत देने की आश्वासन दी जाती है पर अब तक उनके लिए कोई कदम नहीं उठाया गया है.