PM मोदी की भतीजी के साथ दिल्ली के VVIP इलाके में लूट, जब पुलिस को पता चला तो...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) की भतीजी के साथ दिल्ली के वीवीआईपी इलाके सिविल लाइन्स में लूट हुई. स्कूटी पर सवार 2 झपटमार उनका पर्स लूट ले गए.

PM मोदी की भतीजी के साथ दिल्ली के VVIP इलाके में लूट, जब पुलिस को पता चला तो...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) की भतीजी के साथ दिल्ली में लूट हुई.

खास बातें

  • दिल्ली में बेखौफ हैं लुटेरे
  • पीएम की भतीजी का पर्स छीना
  • दिल्ली के वीवीआईपी इलाके की घटना
नई दिल्ली :

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) की भतीजी के साथ दिल्ली के वीवीआईपी इलाके सिविल लाइन्स में लूट हुई. स्कूटी पर सवार 2 झपटमार उनका पर्स लूट ले गए. ये वारदात दिल्ली में कानून व्यवस्था पर सवाल खड़े करती है. पीड़ित दमयंती मोदी प्रहलाद भाई मोदी की बेटी हैं, जो नरेंद्र मोदी के भाई हैं. दमयंती ने थाने में केस दर्ज होते वक़्त नहीं बताया था कि वो प्रधानमंत्री की भतीजी हैं, लेकिन जब पुलिस को मीडिया के जरिये पता चला तो पुलिस सरगर्मी से आरोपियों की तलाश में जुट गई है.

opbfm778

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) की भतीजी दमयंती बेन मोदी

दरअसल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाई की बेटी दमयंती बेन मोदी आज सुबह अमृतसर से दिल्ली लौटीं. उनका कमरा सिविल लाइन इलाके के गुजराती समाज भवन में बुक था. लिहाज़ा पुरानी दिल्ली से ऑटो से वो अपने परिवार के साथ गुजराती समाज भवन पहुंचीं. अभी गेट पर पहुंच कर वे ऑटो से उतर ही रही थीं कि तभी स्कूटी सवार दो बदमाशों ने उनका पर्स छीन लिया. इससे पहले कि वो शोर मचातीं, बदमाश मौके से फरार हो गए. दमयंती बेन के मुताबिक पर्स में करीब 56 हज़ार रुपये, दो मोबाइल और तमाम अहम दस्तावेज थे.  


राजस्थान का जेम्स-बांड दिल्ली में गिरफ्तार, दबोचे जाने पर कहा- आज किस्मत दगा दे गई

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


उन्हें शाम की अहमदाबाद की फ्लाइट पकड़नी है, लेकिन उनके दस्तावेज गायब हो गए हैं. फिलहाल पुलिस मामले की तफ्तीश की बात कर रही है. सिविल लाइन इलाके की बात की जाए तो ये दिल्ली के वीवीआईपी इलाकों में से एक है. जिस जगह इस वारदात को अंजाम दिया गया वहां से चंद कदम की दूरी पर ही दिल्ली के लेफ्टिनेंट गवर्नर का घर है. दिल्ली के मुख्यमंत्री का आवास भी महज थोड़ी दूरी पर है, ऐसे में दिन के उजाले में इस तरह की वारदात कानून व्यवस्था पर गंभीर सवाल खड़े करती है.