Time पत्रिका की 100 ‘सबसे प्रभावशाली लोगों’ की सूची में PM मोदी, ममता बनर्जी और अदार पूनावाला भी

टाइम पत्रिका द्वारा जारी 2021 के 100 सबसे प्रभावशाली लोगों की सूची में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अदार पूनावाला शामिल हैं.

Time पत्रिका की 100 ‘सबसे प्रभावशाली लोगों’ की सूची में PM मोदी, ममता बनर्जी और अदार पूनावाला भी

Time पत्रिका की 100 ‘सबसे प्रभावशाली लोगों में PM मोदी, ममता बनर्जी और अदार पूनावाला भी शामिल. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

टाइम पत्रिका (Time Magazine) द्वारा जारी 2021 के 100 सबसे प्रभावशाली लोगों की सूची (Time Magazine 100 most influential people in 2021) में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi), पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) और सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अदार पूनावाला (Adar Poonawalla) शामिल हैं.

टाइम ने बुधवार को ‘2021 के 100 सबसे प्रभावशाली लोगों' की अपनी वार्षिक सूची का खुलासा किया. नेताओं की इस वैश्विक सूची में अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन, उपराष्ट्रपति कमला हैरिस, चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग, ड्यूक और डचेस ऑफ ससेक्स प्रिंस हैरी और मेगन और अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप शामिल हैं. इस सूची में तालिबान का सह-संस्थापक मुल्ला अब्दुल गनी बरादर भी शामिल है.

पीएम मोदी के टाइम प्रोफाइल में कहा गया है कि एक स्वतंत्र राष्ट्र के रूप में अपने 74 वर्षों में, भारत के तीन प्रमुख नेता रहे हैं - जवाहरलाल नेहरू, इंदिरा गांधी और पीएम मोदी. "नरेंद्र मोदी तीसरे हैं, जो देश की सत्ता पर काबिज हैं."

सीएनएन पत्रकार फरीद जकारिया द्वारा लिखे गए प्रोफाइल में आरोप लगाया गया है कि पीएम मोदी ने "देश को धर्मनिरपेक्षता से दूर हिंदू राष्ट्रवाद की ओर धकेल दिया है." फरीद जकारिया ने 69 वर्षीय नेता पर भारत के मुस्लिम अल्पसंख्यकों के "अधिकारों को खत्म करने" और पत्रकारों को कैद करने और डराने-धमकाने का भी आरोप लगाया.

66 वर्षीय ममता बनर्जी के लिए कहा गया है कि वे "भारतीय राजनीति में उग्रता का चेहरा बन गई हैं." ममता बनर्जी के बारे में कहा गया है कि वह अपनी पार्टी तृणमूल कांग्रेस का नेतृत्व नहीं करती हैं - वह खुद ही पार्टी हैं.

अदार पूनावाला के टाइम प्रोफाइल में कहा गया है कि COVID-19 महामारी की शुरुआत से दुनिया के सबसे बड़े वैक्सीन निर्माता कंपनी के 40 वर्षीय प्रमुख ने "इस पल को पूरा करने की मांग की."

"महामारी अभी खत्म नहीं हुई है, और पूनावाला अभी भी इसे समाप्त करने में मदद कर सकते हैं. वैक्सीन असमानता जरूर है और दुनिया के एक हिस्से में टीकाकरण में देरी के वैश्विक परिणाम हो सकते हैं-जिसमें अधिक खतरनाक रूपों के उभरने का जोखिम भी शामिल है.

इसमें तालिबान के सह-संस्थापक मुल्ला अब्दुल गनी बरादर को "शांत, गुप्त व्यक्ति के रूप में वर्णित कया गया है, जो शायद ही कभी सार्वजनिक बयान या साक्षात्कार देता है.


टाइम पत्रिका ने बरादर को लेकर आगे कहा है, ‘अब वह अफगानिस्तान के भविष्य के लिए एक आधार के रूप में खड़ा है. अंतरिम तालिबान सरकार में, उसे उप प्रधानमंत्री बनाया गया है, शीर्ष भूमिका एक अन्य नेता को दी गई है, जो तालिबानी कमांडरों की युवा और अधिक कट्टरपंथी पीढ़ी को ज्यादा स्वीकार्य है.' पत्रिका में कहा गया है, शांत और गप्त तरीके से रहने वाला बरादर तालिबान के एक उदारवादी चेहरे का प्रतिनिधित्व करता है, जो ‘पश्चिमी देशों का समर्थन हासिल करने और वित्तीय सहायता पाने के लिए सुर्खियों में रहेगा.'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


सूची में टेनिस खिलाड़ी नाओमी ओसाका, रूसी विपक्षी कार्यकर्ता एलेक्सी नवलनी, संगीत आइकन ब्रिटनी स्पीयर्स, एशियाई प्रशांत नीति और योजना परिषद के कार्यकारी निदेशक मंजूशा पी. कुलकर्णी, ऐप्पल सीईओ टिम कुक, अभिनेता केट विंसलेट और विश्व व्यापार संगठन का नेतृत्व करने वाली पहली अफ्रीकी महिला Ngozi Okonjo-Iweala  भी शामिल हैं.