महबूबा मुफ्ती ने अफगानिस्तान से की जम्मू-कश्मीर राज्य के दर्जे की तुलना, छिड़ा विवाद

महबूबा की टिप्पणी पर बीजेपी ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है, जिसमें उन पर केंद्र शासित प्रदेश में सियासी जमीन खोने के बाद "घृणा की राजनीति" में लिप्त होने का आरोप लगाया और कहा कि जो कोई भी भारत के खिलाफ साजिश करेगा उसे नष्ट कर दिया जाएगा.

महबूबा मुफ्ती ने अफगानिस्तान से की जम्मू-कश्मीर राज्य के दर्जे की तुलना, छिड़ा विवाद

महबूबा ने अफगानिस्तान का उदाहरण देते हुए कहा कि मुद्दों को बंदूकों या पत्थरों से हल नहीं किया जा सकता है.

श्रीनगर:

जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती (Mehbooba Mufti) ने केंद्र सरकार को अफगानिस्तान से सबक लेने को कहा है, जहां तालिबान ने सत्ता पर कब्जा कर लिया और अमेरिकी सेना वहां से वापस हो गई है. उन्होंने केंद्र से जम्मू-कश्मीर के मुद्दे पर बातचीत करने और 2019 में रद्द किए गए राज्य के विशेष दर्जे को पुनर्बहाल करने का आग्रह किया है.

महबूबा की टिप्पणी पर बीजेपी ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है, जिसमें उन पर केंद्र शासित प्रदेश में सियासी जमीन खोने के बाद "घृणा की राजनीति" में लिप्त होने का आरोप लगाया और कहा कि जो कोई भी भारत के खिलाफ साजिश करेगा उसे नष्ट कर दिया जाएगा.

अफगानिस्तान में तालिबान द्वारा सत्ता पर कब्जा करने का उल्लेख करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री ने केंद्र को चेतावनी दी कि वो हमारी परीक्षा न ले और केंद्र सरकार से "अपने तरीके सुधारने, स्थिति को समझने और अपने पड़ोस में क्या हो रहा है" देखने को कहा है.

अपने ही पाले में गोल कर रहे हैं : महबूबा मुफ्ती ने मोदी सरकार को एक बार फिर चेताया

महबूबा ने 5 अगस्त, 2019 के फैसलों का जिक्र करते हुए कहा, "अमेरिका, एक महाशक्ति, को अपना बोरिया बिस्तर समेट कर भागना पड़ा. आपके (केंद्र) पास अभी भी जम्मू-कश्मीर पर एक संवाद प्रक्रिया शुरू करने का अवसर है, जैसे (पूर्व पीएम) वाजपेयी के पास था, और जम्मू-कश्मीर की पहचान को असंवैधानिक और अवैध रूप से छीनने और जम्मू-कश्मीर के विभाजन की अपनी गलती को सुधारने का मौका है, अन्यथा बहुत देर हो जाएगी.”

दक्षिण कश्मीर के कुलगाम जिले में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए महबूबा ने युवाओं से हथियार नहीं उठाने की अपील करते हुए कहा कि इस मुद्दे को बंदूक या पत्थरों से हल नहीं किया जा सकता है. उन्होंने कहा, "भारत सरकार को वह लौटाना चाहिए जो उसने हमसे छीना है और कश्मीर मुद्दे को जम्मू-कश्मीर के लोगों की इच्छाओं और आकांक्षाओं के अनुसार सुलझाना चाहिए."

जब तक अनुच्छेद 370 बहाल नहीं होता, नहीं लड़ूंगी चुनाव, पार्टी जीती तो भी नहीं बनूंगी CM: महबूबा मुफ्ती


महबूबा ने अफगानिस्तान का उदाहरण देते हुए कहा कि मुद्दों को बंदूकों या पत्थरों से हल नहीं किया जा सकता है. उन्होंने कहा, "तालिबान अब अफगानिस्तान को नियंत्रित कर रहे हैं और उन्होंने अमेरिका को भागने के लिए मजबूर कर दिया. लेकिन, अभी वे कह रहे हैं कि बंदूक से काम नहीं चलेगा. पूरी दुनिया उन्हें देख रही है कि वे कैसा व्यवहार करेंगे, क्या वे वही सख्ती करेंगे या लोगों के साथ अच्छा व्यवहार करेंगे."

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


जम्मू-कश्मीर बीजेपी के अध्यक्ष रविंदर रैना ने महबूबा की टिप्पणी के लिए उनकी आलोचना की है और कहा कि वह "कुछ गलत धारणाओं में हैं. भारत एक शक्तिशाली देश है और हमारे प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी (अमेरिकी राष्ट्रपति) जो बाइडेन के विपरीत हैं, जो अफगानिस्तान से हट गए हैं. उन्होंने कहा कि चाहे  तालिबान हो या अल-कायदा, लश्कर, जेईएम या हिजबुल... जो कोई भी भारत के खिलाफ साजिश रचेगा, उसे नष्ट कर दिया जाएगा."