किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा में 300 से ज़्यादा पुलिसकर्मी घायल : दिल्ली पुलिस

Tractor Rally Violence: लोकनायक अस्पताल के मेडिकल अफसर डॉ. सुरेश कुमार ने बताया था कि कल ट्रैक्टर परेड में घायल कुल 86 लोगों को अस्पताल लाया गया था. इनमें इसमें 74 पुलिसकर्मी और 12 प्रदर्शनकारी थे.  86 लोगों में से अकेले 22 लोक नायक अस्पताल में जबकि 64 सुश्रुत ट्रॉमा सेंटर में इलाज के लिए लाए गए थे. सुरेश कुमार ने बताया कि बुधवार को फिलहाल 5 एडमिट हैं. बाकी को प्राथमिक उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई है. फिलहाल भर्ती पांच में से तीन पुलिस वालों को हेड इंजुरी और फ्रैक्चर की समस्या है.

किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा में 300 से ज़्यादा पुलिसकर्मी घायल : दिल्ली पुलिस

Farmer's Rally Violence: गणतंत्र दिवस पर राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा में 300 से ज़्यादा पुलिसकर्मी घायल हुए हैं.

खास बातें

  • ट्रैक्टर रैली में उपद्रव की वजह से 300 पुलिसकर्मी घायल
  • अब तक दिल्ली पुलिस ने दर्ज की है 22 FIR
  • तीन पुलिस वालों को हेड इंजुरी और फ्रैक्चर की समस्या

गणतंत्र दिवस (Republic Day) पर राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली (Delhi) में किसानों की ट्रैक्टर परेड (Farmers Tractor Parade) के दौरान हुई हिंसा में 300 से ज़्यादा पुलिसकर्मी घायल हुए हैं. दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने बुधवार को इसकी जानकारी दी है. बुधवार सुबह तक पुलिस ने उपद्रव के मामलों में कुल 22 FIR दर्ज की हैं.

लोकनायक अस्पताल के मेडिकल अफसर डॉ. सुरेश कुमार ने बताया था कि कल ट्रैक्टर परेड में घायल कुल 86 लोगों को अस्पताल लाया गया था. इनमें इसमें 74 पुलिसकर्मी और 12 प्रदर्शनकारी थे.  86 लोगों में से अकेले 22 लोक नायक अस्पताल में जबकि 64 सुश्रुत ट्रॉमा सेंटर में इलाज के लिए लाए गए थे. सुरेश कुमार ने बताया कि बुधवार को फिलहाल 5 एडमिट हैं. बाकी को प्राथमिक उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई है. फिलहाल भर्ती पांच में से तीन पुलिस वालों को हेड इंजुरी और फ्रैक्चर की समस्या है.

"हां, मैने कहा था लाठी लेकर आओ, बिना डंडे का कोई झंडा होता है क्या?" : किसान नेता राकेश टिकैत

दिल्ली पुलिस ने बताया कि ज्यादातर पुलिसकर्मी मुकरबा चौक, गाज़ीपुर, आईटीओ, सीमापुरी, नांगलोई टी पॉइंट, टिकरी बॉर्डर और लाल किले पर हुई हिंसा में घायल हुए हैं. पुलिस सूत्रों के मुताबिक उपद्रवियों ने डीटीसी की आठ बसों सहित 17 निजी गाड़ियों को नुकसान पहुंचाया है. गाज़ीपुर, सिंघु और टिकरी बॉर्डर पर प्रदर्शनकारियों ने पुलिस बैरिकेड्स भी तोड़े थे.

बता दें कि दिल्ली पुलिस ने किसानों को राजपथ पर आधिकारिक गणतंत्र दिवस परेड समाप्त होने के बाद निर्धारित मार्गों पर ट्रैक्टर परेड की इजाजत दी थी, लेकिन उस समय अफरातफरी की स्थिति पैदा हो गई थी, जब किसान मध्य दिल्ली की ओर जाने पर अड़ गए. किसानों ने तय समय से पहले ही परेड शुरू कर दी और मध्य दिल्ली के ITO पहुंच गए और लुटियन दिल्ली में दाखिल होने की कोशिश करने लगे.

जब किसानों से बचने के लिए दीवार कूदने को मजबूर हुए पुलिस वाले, देखें VIDEO


प्रदर्शनकारी हाथों में डंडे लिए हुए थे और आईटीओ पर वे पुलिस के साथ भिड़ गए. ट्रैक्टर रैली को लेकर सेंट्रल दिल्ली में घुस चुके किसान लाल किले तक पहुंच गए थे और यहां पर कुछ प्रदर्शनकारियों को दूसरा झंडा फहराते हुए देखा गया था. 

वीडियो- दीप सिद्धू सरकार का आदमी है, उसे क्यों नहीं रोका गया: सतनाम सिंह पन्नू

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com