गणतंत्र दिवस परेड पर इस बार नहीं होंगे कोई मुख्य अतिथि, विदेशी मेहमान को नया न्योता नहीं : सूत्र

मंगलवार को ब्रिटिन प्रशासन ने पीएम जॉनसन का दौरा रद्द होने की जानकारी देते हुए कहा कि प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने आज सुबह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात की और भारत नहीं जा पाने के लिए खेद व्यक्त किया है.

गणतंत्र दिवस परेड पर इस बार नहीं होंगे कोई मुख्य अतिथि, विदेशी मेहमान को नया न्योता नहीं : सूत्र

विदेशी मेहमान के साथ गणतंत्र दिवस परेड की झांकी देखते पीएम मोदी और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

गणतंत्र दिवस परेड (Republic Day Parade) पर इस बार कोई विदेशी मेहमान मुख्य अतिथि (Chief Guest) नहीं होगे. सरकार द्वारा किसी नए विदेशी मेहमान को अब इसके लिए फिर से निमंत्रण नहीं भेजा जाएगा. यह जानकारी सूत्रों ने दी है. इससे पहले गणतंत्र दिवस पर मुख्य अतिथि के तौर पर  ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन (Boris Johnson) आमंत्रित थे लेकिन उन्होंने ब्रिटेन में फैले कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन (UK Covid Strain) की वजह से भारत दौरा रद्द कर दिया है.

मंगलवार को ब्रिटिन प्रशासन ने पीएम जॉनसन का दौरा रद्द होने की जानकारी देते हुए कहा कि प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने आज सुबह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात की और भारत नहीं जा पाने के लिए खेद व्यक्त किया है. साल 1993 में ब्रिटिश प्रधानमंत्री जॉन मेजर गणतंत्र दिवस परेड पर मुख्य अतिथि थे. अगर बोरिस जॉनसन आते तो यह सम्मान पाने वाले वह दूसरे ब्रिटिश पीएम होते.

कोरोना वायरस संकट के चलते ब्रिटेन के PM बोरिस जॉनसन का भारत दौरा टला

पीएम मोदी से बातचीत के दौरान ब्रिटिश पीएम जॉनसन ने कहा कि जिस रफ्तार से ब्रिटेन में नया कोविड स्ट्रेन का प्रसार हो रहा है, उस लिहाज से मौजूदा दौर में उनका ब्रिटेन में रहना महत्वपूर्ण है, ताकि वह देश में वायरस संक्रमण की रोकथाम पर ध्यान केंद्रित कर सकें.

किसानों का केंद्र सरकार को दो टूक- 'मांगें मान लो, नहीं तो गणतंत्र दिवस पर निकालेंगे ट्रैक्टर परेड', गवर्नर हाउस को भी बनाएंगे निशाना


गौरतलब है कि ब्रिटेन में कोरोनावायरस का नया स्ट्रेन मिलने के बाद वहां लॉकडाउन (Lockdown) लगाया गया है ताकि संक्रमण को फैलने से रोका जा सके. माना जा रहा है कि वायरस का नया वैरिएंट तेजी से संक्रमण फैलाता है. नए वायरस के सामने आने के बाद कई देशों ने यात्रा संबंधी प्रतिबंध भी लगाए हैं. यात्रा पर अस्थायी बैन लगाने के बावजूद 30 से ज्यादा देशों में म्युटेंट वर्जन से संक्रमण के मामले पाए गए हैं. भारत में इस तरह के 58 मरीज मिले हैं. ये सभी मरीज या तो ब्रिटेन से आए हैं या फिर ब्रिटेन के यात्रियों के संपर्क में आए थे. 

वीडियो- 26 जनवरी को भारत नहीं आएंगे ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com