भारत को रूस ने दिया कोरोना वैक्‍सीन Sputnik-V के उत्‍पादन-ट्रायल का ऑफर: नीति आयोग सदस्‍य

नीति आयोग के सदस्‍य डॉ. वीके पॉल ने कहा, ट्रायल के लिए उनकी (रूस की) रिक्वेस्ट है, वो हमारे दोस्त हैं .हमने इस बारे में कंपनियों को से बात की है. 3-4 कंपनियों ने इस बारे में 'रिस्‍पांस' किया है.

भारत को रूस ने दिया कोरोना वैक्‍सीन Sputnik-V के उत्‍पादन-ट्रायल का ऑफर: नीति आयोग सदस्‍य

रूस ने पिछले माह कोरोना वैक्‍सीन विकसित करने की घोषणा की थी (प्रतीकात्‍मक फोटो)

खास बातें

  • नीति आयोग सदस्‍य वीके पॉल ने दी जानकारी
  • नीति आयोग सदस्‍य वीके पॉल ने दी जानकारी
  • रूस ने पिछले माह कोरोना वैक्‍सीन विकसित करने का किया था ऐलान
नई दिल्ली:

Coronavirus vaccine: कोरोना वैक्‍सीन के मामले में भारत के लिहाज से अच्‍छी खबर हैं. रूस ने अपनी वैक्‍सीन स्‍पूतनिक-V (COVID-19 vaccine Sputnik-V)के बड़े पैमाने पर उत्‍पादन (Manufacturing) और ट्रायल (Trial) के लिए भारत से अप्रोच किया है. यह जानकारी नीति आयोग के सदस्‍य डॉ. वीके पॉल (VK Paul)ने मंगलवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में दी. उन्‍होंने कहा, ट्रायल के लिए उनकी (रूस की) रिक्वेस्ट है, वो हमारे दोस्त हैं हमने इस बारे में कंपनियों को से बात की है. 3-4 कंपनियों ने इस बारे में 'रिस्‍पांस' किया है. दोनों मामले में प्रगति हुई है. ये सबके लिए 'विन-विन' सिचुएशन है.

देश के 14 राज्यों-UT में COVID-19 के 5,000 से कम केस, इन 5 राज्यों से हैं 62% एक्टिव केस 

गौरतलब है कि रूस ने पिछले माह कोरोना वायरस के वैक्‍सीन को विकसित करने की घोषणा की थी. रूस केराष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin)  ने इसका ऐलान करते हुए कहा था कि उनके देश ने कोरोना वायरस की पहली वैक्सीन बना ली है. उन्होंने यह भी बताया था कि उनकी बेटी को भी यह टीका लगाया गया है और वह अच्छा महसूस कर रही है. रूस ने इस वैक्सीन का नाम स्पुतनिक-5 (Sputnik V) रखा है कि जो उसके एक उपग्रह का भी नाम है. दावा है कि इस वैक्‍‍‍‍‍सीन से कोविड-19 के खिलाफ स्‍थायी इम्यूनिटी विकसित की जा सकती है. सितंबर के पहले हफ्ते में लेंसेट में प्रकाशित एक रिसर्च में कहा गया था कि रूस की ओर से विकसित की गई कोरोना वायरस वैक्‍सीन का जिन मरीजों पर शुरुआती टेस्‍ट किया गया, उनमें 'बिना किसी विपरीत असर' (No serious adverse events) के एंटीबॉडीज विकसित हो गए थे. 

भारत में कोरोना वैक्सीन को लेकर डॉ. पॉल ने कहा कि सीरम इंस्टीटूट की वैक्सीन का फेज 3 ट्रायल 1600 लोगों पर होगा. यह ट्रायल 17 जगहों पर अगले हफ्ते से होगा. भारत बायोटेक की वैक्सीन का दूसरे स्टेज शुरू हो रहा है, इसी तरह Zydus कैडिला का फेज 2 चल रहा है. प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में स्वास्थ्य सचिव ने बताया कि देश में कोरोना के 5 करोड़ टेस्ट हो गए और अब हमसे ज्यादा टेस्ट करने वाला बस एक ही देश है. 10 लाख से ज़्यादा टेस्ट पिछले एक हफ्ते में रोज़ाना हुए. उन्‍होंने बताया कि कोरोना के 33 लाख से ज़्यादा मरीज़ ठीक हो चुके हैं. 23 मई तक 50 हज़ार लोग ठीक हुए थे, अब 33 लाख ठीक हो चुके हैं. देश में एक्टिव मामले कम हो रहे हैं. प्रति मिलियन मौत का आंकड़ा 53 है, दुनिया में यह 115 है. डेथ रेट अगस्त के 2.15% से 1.70 प्रतिशत पर आ गई है.  


क्या इतनी जल्दी खत्म हो जाता है कोरोना एंटीबॉडी का असर?

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com