NIA ने कश्मीर में मीरवाइज सहित कई अलगाववादियों के घरों पर छापे मारे

जेकेएलएफ के नेता यासिन मलिक, शब्बीर शाह, जफर भट और मसर्रत आलम के आवास पर भी छापे मारे गए

NIA ने कश्मीर में मीरवाइज सहित कई अलगाववादियों के घरों पर छापे मारे

अलगाववादी नेता मीरवाइज उमर फारूक (फाइल फोटो).

खास बातें

  • मीरवाइज के घर से उच्च तकनीकी इंटरनेट संचार प्रणाली जब्त
  • लैपटॉप, ई टैबलेट, मोबाइल फोन, पेन ड्राइव सहित कई संचार उपकरण मिले
  • कश्मीर के सभी अलगाववादी नेता कुछ समय से जेल में बंद
श्रीनगर:

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने जम्मू-कश्मीर में आतंकी और अलगाववादी संगठनों को वित्त पोषण के मामले में मीरवाइज उमर फारूक और अन्य अलगाववादियों के परिसरों सहित सात स्थानों पर मंगलवार को छापे मारे. एजेंसी ने कहा कि उसने मीरवाइज के घर से उच्च तकनीकी इंटरनेट संचार प्रणाली जब्त की.

एजेंसी ने कई स्थानों से पाकिस्तान के शैक्षणिक संस्थानों में प्रवेश के लिए वीजा सिफारिश वाले पत्र और आतंकवादी संगठनों के लेटरहेड भी जब्त करने का दावा किया. अधिकारियों ने बताया कि एनआईए के अधिकारियों ने स्थानीय पुलिस और सीआरपीएफ के जवानों के साथ मिलकर मीरवाइज, पाकिस्तान समर्थक अलगाववादी सैयद अली शाह गिलानी के बेटे नसीम गिलानी और तहरीक ए हुर्रियत के प्रमुख अशरफ सेहराई सहित अलगाववादी नेताओं के घरों की तलाशी ली.

अलगाववादी नेता यासीन मलिक ने कहा, कभी सुरक्षा मिली ही नहीं तो क्या वापस ले रही सरकार!

एनआईए प्रवक्ता ने कहा कि छापेमारी के दौरान, एनआईए टीमों ने संपत्ति के कागजात, वित्तीय लेनदेन पर्चियां और बैंक खातों का ब्यौरा सहित अपराध से जुड़ी सामग्री जब्त की. छापेमारी में लैपटॉप, ई टैबलेट, मोबाइल फोन, पेन ड्राइव, संचार प्रणाली और डीवीआर सहित इलेक्ट्रानिक उपकरण भी जब्त किए गए.

अलगाववादी नेता यासीन मलिक गिरफ्तार, सुप्रीम कोर्ट में 35-A की सुनवाई से पहले हुई कार्रवाई

इनके अलावा, जेकेएलएफ नेता यासिन मलिक, शब्बीर शाह, जफर भट और मसर्रत आलम के आवास पर भी छापे मारे गए. मीरवाइज और सेहराई के अलावा अन्य सभी नेता कुछ समय से जेल में बंद हैं. एनआईए ने पिछले साल मीरवाइज के दो मामा मौलवी मंजूर और मौलवी शाफत तथा उनके दो करीबियों से पूछताछ की थी. ये दोनों सेवानिवृत्त वरिष्ठ सरकारी अधिकारी हैं.

VIDEO : अलगाववादियों के खिलाफ सख्त कदम


Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


एनआईए जांच का उद्देश्य सुरक्षाबलों पर पथराव, स्कूल जलाने और सरकारी प्रतिष्ठानों को नुकसान पहुंचाने सहित अन्य आतंकी गतिविधियों को धन मुहैया कराने के लिए जिम्मेदार लोगों का पता लगाना है. इस मामले में लश्कर-ए-तैयबा के मुखौटा संगठन जमात-उद-दावा के प्रमुख हाफिज सईद को भी नामजद किया गया है.
(इनपुट भाषा से)