मुंबई : बच्चों के भविष्य पर आर्थिक संकट का असर, नहीं भरी फीस तो स्कूलों ने रोकी पढ़ाई

कोरोना संक्रमण (Coronavirus) और लॉकडाउन (Lockdown) का असर जहां लोगों की जेब पर पड़ा है, तो वहीं ऐसे कई स्कूल मौजूद हैं, जिन्होंने बच्चों की पढ़ाई इसलिए रोक दी है, क्योंकि वो फीस नहीं भर पाए.

मुंबई : बच्चों के भविष्य पर आर्थिक संकट का असर, नहीं भरी फीस तो स्कूलों ने रोकी पढ़ाई

कई अभिभावक बच्चों को स्कूल से निकालने के लिए मजबूर हुए. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

खास बातें

  • बच्चों की पढ़ाई पर भी कोरोना का असर
  • फीस नहीं भरने पर स्कूलों ने रोकी पढ़ाई
  • बच्चों को स्कूल से निकालने की मजबूरी
मुंबई:

कोरोना संक्रमण (Coronavirus) और लॉकडाउन (Lockdown) का असर जहां लोगों की जेब पर पड़ा है, तो वहीं ऐसे कई स्कूल मौजूद हैं, जिन्होंने बच्चों की पढ़ाई इसलिए रोक दी है, क्योंकि वो फीस नहीं भर पाए. मुंबई के चारकोप इलाके के एक निजी स्कूल के बाहर रोजाना इसी तरह बड़े पैमाने पर अभिभावक खड़े दिख जाएंगे. सभी की कोशिश होती है कि किसी तरह प्रिंसिपल को मना लिया जाए और उनके बच्चों की पढ़ाई दोबारा शुरू हो जाए. सोमवार से ही मुंबई के स्कूल खुल चुके हैं, लेकिन ऐसे बच्चों को अब तक ऑनलाइन क्लास में नहीं जोड़ा गया है, जो फीस नहीं भर पाए हैं.

ट्रांसपोर्ट कारोबार से जुड़े दीपक सालवी का बेटा इसी स्कूल में पढ़ता है. अब तक यह स्कूल की शुरुआत में ही सालभर की फीस भर दिया करते थे, लेकिन डेढ़ साल से कारोबार ठप है, जिसका असर इनकी जेब पर पड़ा है. बामुश्किल घर चला पा रहे हैं. फीस भरना फिलहाल मुमकिन नहीं है. उदय अहिरे की कहानी भी ऐसी ही है. यह ड्राइवर का काम करते हैं और कड़ी मेहनत कर अपने बच्चों को अच्छे स्कूल में पढ़ाना चाहते हैं. अब तक सबकुछ ठीक चल रहा था, लेकिन 
कोरोना का असर इनकी जेब के साथ ही बच्चों के भविष्य पर पड़ा है. इनकी तरह ही कई और भी हैं.

भारत मे कोरोना के टीके ने बचाई हजारों की जान, एक स्टडी में हुआ खुलासा : डॉ. वीके पॉल

दीपक सालवी ने कहा, 'हम लोग फीस भरने के लिए मना नहीं कर रहे हैं, हम भरेंगे लेकिन फिलहाल हम सब परेशान हैं. हमारी नौकरियां गई हैं, हमारे पास जॉब नहीं है. बच्चों की पढ़ाई रोक कर आप फीस भरने कह रहे हैं, यह बहुत गलत बात है.'

उदय अहिरे ने इस बारे में कहा, 'हम लोगों की परिस्थिति बहुत खराब है. मेरी मां का एक साल से कैंसर का इलाज चल रहा था. 9 तारीख को उनका देहांत हो गया. इसकी वजह से मुझे बहुत दिक्कत हो गई. मैंने उनको बहुत रिक्वेस्ट किया, लेकिन वो बोले कि हमारे हाथ बंधे हुए हैं, हमें ऊपर से आर्डर आता है, दादर से. वो जो कहते हैं, वही हम करते हैं.'

रीना प्रजापति कहती हैं, 'आज का बच्चा कल का भविष्य है. इनको यह नहीं दिख रहा, इन्हें केवल अपना तिजोरी भरनी है.' मुंबई के मालवणी इलाके के इस छोटे से घर में रहने वाली सारा सय्यद के दो बच्चे अंग्रेजी स्कूल में पढ़ते थे. सारा शादियों में जाकर मेहंदी लगाने का काम करती थीं, लेकिन डेढ़ साल से काम न के बराबर है. लोगों से राशन मांगकर घर चला रही हैं. जिस स्कूल में इनके बच्चे पढ़ते थे, वहां पिछले साल यह फीस नहीं भर पाई. इन्होंने स्कूल से थोड़े दिन की मोहलत मांगी, लेकिन हुआ कुछ नहीं. अपनी आर्थिक परिस्थितियों के कारण इन्होंने अपने बच्चों को स्कूल से निकाल दिया.

कोरोना काल में स्टाफ की नौकरी बचाने को स्कूल की अनोखी पहल, कैंपस में शुरू की 'ऑर्गेनिक खेती'

उन्होंने कहा, 'मेरे बच्चे अच्छे मार्क्स लेकर आते थे. दोनों के लिए कहते थे कि बच्चे पढ़ाई में अच्छे हैं, कोई शिकायत नहीं. राशन तक हम दूसरों से लेकर खा रहे हैं. परसों बाजू वाले के राशन कार्ड पर जो मुफ्त गेहूं होता है, वो मंगवाकर घर संभाल रहे हैं.' मुंबई के मानखुर्द इलाके में रहने वालीं लक्ष्मी कांबले अपने घर में इकलौती कमाने वाली हैं. वो सब्जी बेचकर अपना घर चला रही थीं, फीस नहीं भर पाईं तो इनकी बेटी को कक्षा 6 से कक्षा 7 में नहीं भेजा गया. बेटी अब बिना पढ़ाई के घर पर रहने को मजबूर है.


लक्ष्मी कांबले ने कहा, 'मेरे पास बिल्कुल पैसे नहीं थे तो मैं कहां से भरूं. अभी लॉकडाउन में हर कोई परेशान है तो मैं किससे पैसे मांगूं? इसलिए अब मैं चुपचाप घर पर ही हूं, क्या बोलूँ मैं उनको.' राज्य की शिक्षा मंत्री वर्षा गायकवाड़ ने ट्वीट कर यह जरूर कहा कि किसी के भी बच्चे की पढ़ाई रोके जाने पर कार्रवाई की जाएगी, लेकिन इसका जमीन पर कोई असर नहीं दिख रहा है. साथ ही बढ़ी फीस के खिलाफ बॉम्बे हाईकोर्ट में अब एक PIL भी दाखिल की गई है, जिसकी अगली सुनवाई 22 जून को होगी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: अफवाह बनाम हकीकत : कई राज्यों में कोरोना से मौत के आंकड़ों पर सवाल