काबुल से गुरु ग्रंथ साहिब लेकर भारत पहुंचे 100 से ज्यादा अफगान सिख और हिंदू

काबुल से हिंदू और सिख समुदायों के अफगान नागरिकों का करीब 110 लोगों का एक जत्था शुक्रवार को दिल्ली पहुंचा. केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी और बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने इनकी अगवानी की.

नई दिल्ली:

अफगानिस्तान की राजधानी काबुल (Kabul) से हिंदू और सिखों का करीब 110 लोगों का एक जत्था शुक्रवार को दिल्ली पहुंचा. केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी और बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने इनकी अगवानी की. बीजेपी नेता मनजिंदर सिंह सिरसा भी मौजूद थे. नमें करीब 102 अफगान हिंदू, सिख और करीब 14 भारतीय शामिल हैं. काबुल से एयरलिफ्ट कर लाए गए यह लोग अपने साथ पवित्र गुरु ग्रंथ साहित भी लेकर आए थे.इजिस विमान से इन लोगों को लाया गया है, वापसी में यह विमान दिल्ली से करीब 90 अफगान नागरिकों और दवा जैसी कुछ मानवीय जरूरत की चीज लेकर जाएगा. गौरतलब है कि अफगानिस्तान में तालिबान लड़ाकों के कब्जे के बाद वहां से लोगों ने भागना शुरू कर दिया था. अब तक भारत ने वहां से 565 फंसे हुए लोगों को निकालने का काम किया है.

Koo App
‘सभना जिया का एक दाता',सो मैं विसर नई जाई' काबुल से दिल्ली आए पवित्र गुरु ग्रंथ साहिब के दो स्वरुपों को शिरोधार्य किए चल रहे हैं भाजपा के माननीय राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री जगतप्रकाश नड्डा जी एवं केन्द्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी जी। यह दिखावा नहीं लगाव है। यह गुरु नानक देव जी के बताए पथ का अनुसरण है। धर्म, कर्म, सेवा और देशभक्ति हमें एक और नेक बनाते हैं। - Gajendra Singh Shekhawat (@gssjodhpur) 10 Dec 2021

अफगान सिखों-हिन्दुओं समेत 100 से ज़्यादा लोगों को काबुल से किया गया एयरलिफ्ट


केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने इन लोगों के भारत पहुंचने का एक वीडियो पोस्ट करते हुए ट्विटर पर लिखा, काबुल से श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी के दो पवित्र सरूप लेकर भारत पहुंची सिख संगत और हिंदू समुदाय के लोगों का स्वागत करने के लिए अध्‍यक्ष @JPNadda  जी, @adeshguptabjp व अन्यों का साथ पाकर बेहद खुश हूं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इंडिया वर्ल्ड फोरम के अनुसार वहां फंसे भारतीय नागरिकों और हिंदू व सिख समुदाय के परेशान अफगानी नागरिकों को भारत लाया जा रहा है. इसके अलावा अफगानिस्तान में ऐतिहासिक गुरुद्वारों से तीन श्री गुरु ग्रंथ साहिब और 5वीं शताब्दी के असमाई मंदिर, काबुल से रामायण, महाभारत और भगवद्गीता सहित हिंदू धार्मिक ग्रंथों को भारत लाया जा रहा है. इन लोगों का सोबती फाउंडेशन पुनर्वास करेगा.