महाराष्ट्र : गृहमंत्री देशमुख पर लगे आरोपों पर महाविकास अघाड़ी में दिखा मतभेद, एक्शन पर नहीं बन रही बात?

अनिल देशमुख पर लग रहे आरोपों के बीच जहां गठबंधन के एक नेता ने कहा कि उन्हें पद छोड़ना पड़ा सकता है, वहीं एक दूसरे नेता का कहना है कि अनिल देशमुख के जाने का सवाल ही नहीं उठता है. 

महाराष्ट्र : गृहमंत्री देशमुख पर लगे आरोपों पर महाविकास अघाड़ी में दिखा मतभेद, एक्शन पर नहीं बन रही बात?

अनिल देशमुख के खिलाफ एक्शन को लेकर अलग-अलग आ रहे बयान. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों के बीच उनके खिलाफ जरूरी एक्शन लेने को लेकर महाराष्ट्र के महाविकास अघाड़ी गठबंधन के बीच मतभेद पैदा होते दिख रहे हैं. जहां गठबंधन के एक नेता ने NDTV से कहा कि अनिल देशमुख को पद छोड़ना पड़ा सकता है, वहीं एक दूसरे नेता का कहना है कि अनिल देशमुख के जाने का सवाल ही नहीं उठता है. 

गठबंधन के एक वरिष्ठ नेता ने NDTV से कहा कि 'चूंकि अनिल देशमुख पर लगे आरोप काफी गंभीर हैं, ऐसे में उन्हें पद से जाना होगा.' उन्होंने यह भी कहा कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे का भी ऐसा ही विचार है. 

हालांकि, गठबंधन की सहयोगी नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी के नेता और प्रदेश ईकाई के अध्यक्ष जयंत पाटिल ने इसके उलट बयान दिया है. अनिल देशमुख एनसीपी के ही नेता हैं. पाटिल ने NDTV से कहा कि 'परमबीर सिंह की चिट्ठी जो उन्होंने मुख्यमंत्री को लिखी है, वो इसलिए लिखी गई क्योंकि सीएम और गृहमंत्री ने अंबानी सिक्योरिटी केस में उनके खिलाफ सख्ती दिखाने का फैसला किया था. ऐसे में गृहमंत्री को हटाने का सवाल ही नहीं है.'

ऐसे में इसपर सवाल उठ रहा है कि देशमुख पर गठबंधन का रुख क्या रहता है. इस संबंध में रविवार शाम को दिल्ली में एक मीटिंग हो सकती है. गठबंधन के नेता ने बताया कि इस मीटिंग में शिवसेना के नेता और एनसीपी चीफ शरद पवार शामिल हो सकते हैं. शरद पवार और सुप्रिया सुले रविवार दोपहर तक दिल्ली पहुंच चुके हैं.

यह भी पढ़ें : महाराष्ट्र: गृहमंत्री की हो सकती है छुट्टी, शरद पवार के घर बैठक, उद्धव भी करेंगे मीटिंग- 10 बड़ी बातें

बता दें कि मुंबई पुलिस के कमिश्नर पद से हटाए जा चुके परमबीर सिंह ने शनिवार को अनिल देशमुख पर भ्रष्टाचार और पुलिस के काम में दखलंदाजी करने के आरोप लगाए थे. सिंह को मुकेश अंबानी धमकी केस में 'माफ न करने योग्य गलतियां' करने के आरोप में पद से हटाकर होमगार्ड विभाग का कमांडर बना दिया गया था, जिसके बाद उनकी तरफ से ये आरोप लगाए गए.


अनिल देशमुख ने इन आरोपों से इनकार किया है और कहा है कि वो सिंह के खिलाफ मानहानि का केस करेंगे. एक तरफ गठबंधन की तीसरी सदस्य कांग्रेस ने जहां इस पूरे घटनाक्रम को बीजेपी की साजिश बताया है, वहीं बीजेपी देशमुख को पद से हटाए जाने की मांग कर रही है.

महाराष्ट्र : गृह मंत्री अनिल देशमुख के खिलाफ प्रदर्शन

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com