आंध्र प्रदेश और ओडिशा के तटीय इलाकों में पहुंचा चक्रवात गुलाब, दो मछुआरों की मौत

चक्रवात गुलाब का उत्तरी तटीय आंध्र प्रदेश और दक्षिण तटीय ओडिशा में लैंडफॉल शुरू हो गया है. मौसम विभाग ने रविवार को यह जानकारी दी. चक्रवात के प्रभाव से के दक्षिण एवं तटीय क्षेत्रों में रविवार से बारिश शुरू हो गयी है.

नई दिल्ली:

Cyclone Gulab Updates: आंध्र प्रदेश के श्रीकाकुलम जिले के रहने वाले दो मछुआरों की रविवार शाम को बंगाल की खाड़ी में उठे ‘गुलाब' तूफान की चपेट में आने से मौत हो गई जबकि एक अब भी लापता है. वहीं, तीन अन्य मछुआरे सुरक्षित तट पर आने में सफल रहे और उन्होंने अक्कुपल्ली गांव से राज्य के मत्स्यपालन मंत्री एस अप्पाला राजू को फोन कर स्वयं के सुरक्षित होने की जानकारी दी. इस बीच, भारत के मौसम विभाग (आईएमडी) ने सूचित किया कि  चक्रवात गुलाब का उत्तरी तटीय आंध्र प्रदेश और दक्षिण तटीय ओडिशा में लैंडफॉल (Cyclone gulab landfall) शुरू हो गया है. चक्रवात के प्रभाव से के दक्षिण एवं तटीय क्षेत्रों में रविवार से बारिश शुरू हो गयी है. भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने कहा कि चक्रवात अगले तीन घंटों में आंध्र प्रदेश के कलिंगपट्टनम और ओडिशा के गोपालपुर के बीच तटों को पार करेगा.

मौसम विभाग ने ट्वीट किया, 'आईएमडी ने एक बयान में कहा, ''नवीनतम मौसम संबंधी टिप्पणियों के अनुसार, बादल तटीय क्षेत्रों पर छा गए हैं और इस तरह उत्तरी तटीय आंध्र प्रदेश और इससे सटे दक्षिण तटीय ओडिशा में चक्रवात की प्रक्रिया शुरू हो गई है.'' चक्रवात अगले तीन घंटों के दौरान कलिंगपट्टनम और गोपालपुर के बीच, कलिंगपट्टनम के उत्तर में लगभग 25 किमी उत्तर में तटों को पार करेगा.'

विशेष राहत कमिश्नर प्रदीप कुमार जेना ने बताया, '"चक्रवाती तूफान गुलाब ने आंध्र प्रदेश के संथागुडा में दस्तक दी है. सिस्टम के प्रभाव में आज रात गजपति, रायगडा और कोरापुट जिलों में बारिश बढ़ सकती है. अब तक गंजम से 10000 सहित 39000 लोगों को निकाला जा चुका है."

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी से बात की और चक्रवाती तूफान ‘गुलाब' से उत्पन्न होने वाली किसी स्थिति से निपटने में केंद्र की ओर से मदद का भरोसा दिया.

मोदी ने ट्वीट किया, ‘‘ ओडिशा में तूफान की स्थिति पर मुख्यमंत्री नवीन पटनायक जी से चर्चा की. केंद्र आने वाली मुश्किल में पूरी मदद करने का भरोसा देता है.'' इसके साथ ही उन्होंने सभी की सुरक्षा और बेहतरी की प्रार्थना की.

प्रधानमंत्री ने एक अन्य ट्वीट में बताया, ‘‘आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी से बात की और चक्रवाती तूफान गुलाब से उत्पन्न होने वाली स्थिति का जायजा लिया. केंद्र से हर संभव मदद का भरोसा दिया. मैं सभी की सुरक्षा और बेहतरी की प्रार्थना करता हूं.''

ओडिशा में चक्रवात ‘गुलाब' के दस्तक देने से कुछ घंटे पहले मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने रविवार को राज्य के संवेदनशील जिलों में ‘‘किसी के भी हताहत न होने'' का लक्ष्य तय किया. भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने बताया कि मई में तबाही मचाने वाले ‘यास' तूफान के बाद चार महीनों में राज्य में आया यह दूसरा तूफान है. इसके आधी रात के करीब गोपालपुर और आंध्र प्रदेश में कलिंगपत्तनम के बीच दस्तक देने की संभावना है.


विभाग ने बताया कि यह तूफान गोपालपुर से करीब 125 किलोमीटर दक्षिणपूर्व और कलिंगपत्तनम से 160 किलोमीटर पूर्व में स्थित है. तूफान समुद्र में 18 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से बढ़ रहा है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


आईएमडी ने ‘रेड मैसेज' (बहुत अधिक वर्षा का संदेश) जारी करते हुए कहा, ‘‘आज रात इसके पश्चिम की ओर बढ़ने तथा उत्तरी आंध्रप्रदेश एवं दक्षिण ओड़िशा तट को पार करने की संभावना है. इस दौरान 75-85 किलोमीटर प्रति घंटे से लेकर 95 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार तक तूफान चल सकता है. रविवार देर शाम यह प्रक्रिया शुरू हो जाएगी.'' (इनपुट भाषा से)