कमल हासन का बड़ा बयान: आज़ाद भारत का पहला अतिवादी हिन्दू ही था, नाम था नाथूराम गोडसे

लोकसभा चुनाव 2019 के आखिरी चरण के सरगर्मियों के बीच अभिनेता नेता बने कमल हासन का एक ऐसा बयान आया है, जिस पर विवाद होने की आशंका है.

कमल हासन का बड़ा बयान: आज़ाद भारत का पहला अतिवादी हिन्दू ही था, नाम था नाथूराम गोडसे

कमल हासन (फाइल फोटो)

तमिलनाडु:

लोकसभा चुनाव 2019 के आखिरी चरण का चुनाव प्रचार जोरों पर है. चुनावी सरगर्मियों के बीच अभिनेता नेता बने कमल हासन का एक ऐसा बयान आया है, जिस पर विवाद होने की आशंका है. कमल हासन ने तमिलनाडु में चुनावी प्रचार के दौरान कहा कि भारत का पहला अतिवादी हिंदू ही था. उन्होंने कहा कि स्वतंत्र भारत का पहला अतिवादी हिंदू था, जिसका नाम है नाथूराम गोडसे. बता दें कि नाथूराम गोडसे ने महात्मा गांधी की हत्या कर दी थी. बता दें कि कमल हासन ने तमिल भाषा में यह बयान दिया है, जिसका मतलब अतिवादी होता है. मगर समाचार एजेंसी एएनआई ने उसे आतंकवादी लिखा है. 

तमिलनाडु के अरावाकुरुची विधानसभा क्षेत्र में चुनाव प्रचार के दौरान कमल हासन ने कहा कि 'मैं यह इसलिए नहीं बोल रहा हूं क्योंकि यहां काफी मुस्लिम हैं. मैं यहां महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने कह रहा हूं. स्वतंत्र भारत का पहला आतंकवादी हिंदू है और उसका नाम है नाथूराम गोडसे.' बता दें कि कमल हासन ने राजनीति में कदम रखा है और उन्होंने पिछले साल ही मक्कल निधि मैय्यम पार्टी की स्थापना की थी. 

कमल हासन बोले, मेरी पार्टी बीजेपी की 'बी टीम' नहीं बल्कि हम तमिलनाडु की 'ए टीम' हैं


करीब एक साल पहले लॉन्च किए गए कमल हासन की पार्रीट एमएनएम का मतलब ग्रामीण तमिलनाडु के विकास और भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई पर ध्यान केंद्रित करना है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इससे पहले साउथ फिल्मों के सुपरस्टार रहे कमल हासन ने कहा था कि वह आगामी लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे. मक्कल नीधि मय्यम यानी एमएनएम का घोषणा पत्र और उम्मीदवारों की दूसरी सूची जारी करते हुए कमल हासन ने कहा था कि सभी उम्मीदवार मेरे चेहरे हैं. मुझे रथ खींचने वाला बनने से बेहतर रथ बनने में गर्व होगा. घोषणा पत्र जारी करते हुए 64-वर्षीय कमल हासन भी वादों की एक बड़ी सूची के साथ आए, जिसमें नौकरियों, महिलाओं के लिए समान वेतन और आरक्षण और किसानों के लिए 100 प्रतिशत लाभ आदि का जिक्र है. उन्होंने कहा कि वह 50 लाख नौकरियां पैदा करेंगे और महिलाओं को 50 फीसदी आरक्षण देंगे. उन्होंने कहा कि महिलाओं को भी उतना ही वेतन मिलेगा, जितना पुरुषों को. अन्य लुभावने वादे में यह भी सुनिश्चित कर रहे थे कि राज्यों के राज्यपाल अपने विधायकों द्वारा चुने जाएं. हासन ने सार्वजनिक वितरण प्रणाली के राशन की होम डिलीवरी, मुफ्त वाईफाई, राजमार्गों पर कोई टोल न लगे इसका वादा किया.