यह ख़बर 29 मई, 2012 को प्रकाशित हुई थी

मोदी के विरोध के बावजूद जमे रहेंगे जोशी!

मोदी के विरोध के बावजूद जमे रहेंगे जोशी!

खास बातें

  • नरेंद्र मोदी के दबाव से चाहे संजय जोशी ने बीजेपी कार्यकारिणी से इस्तीफा दे दिया हो लेकिन पार्टी में उनका कद और रसूख बरकरार है।
नई दिल्ली:

नरेंद्र मोदी के दबाव से चाहे संजय जोशी ने बीजेपी कार्यकारिणी से इस्तीफा दे दिया हो लेकिन पार्टी में उनका कद और रसूख बरकरार है।

जोशी पहले की तरह यूपी में बीजेपी का काम देखते रहेंगे। जोशी बुधवार को लखनऊ जाकर मेयर और नगरपालिका चुनाव के लिए उम्मीदवार चुनने की बैठक में हिस्सा लेंगे। स्थानीय निकाय के चुनाव के बाद वह लोकसभा चुनाव की तैयारी में भी जुटेंगे।

बीजेपी की मजबूरी है कि उसे जोशी भी चाहिए और मोदी भी... इसलिए फ़िलहाल तो यही फार्मूला है कि मोदी गुजरात में तो जोशी यूपी में काम करेंगे।

गुजरात चुनाव के बाद क्या होगा अभी पार्टी इस बारे में सोचना नहीं चाहती।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


गुजरात में मोदी के हाथ में सत्ता और संगठन दोनों हैं तो राष्ट्रीय स्तर पर संगठन में जोशी की पकड़ मज़बूत है। यही दोनों के बीच टकराव की भी वजह है। लेकिन यूपी की जिम्मेदारी जोशी को ही देकर पार्टी ने यह साफ किया है कि मोदी की हर बात मानना उसके लिए जरूरी नहीं है।