Jammu Kashmir : किसान पुत्र ने प्रतिष्ठित IES परीक्षा में हासिल किया दूसरा रैंक, चला चुके हैं रिक्शा

खान ने कहा, “कोविड अवधि के दौरान, मैंने खुद को अपने कमरे की चार दीवारों तक सीमित कर लिया और एम.फिल करते हुए आईईएस परीक्षा की तैयारी शुरू कर दी. मैंने कभी भी कोविड को अपने अध्ययन के कार्यक्रम को प्रभावित नहीं होने दिया.”

Jammu Kashmir : किसान पुत्र ने प्रतिष्ठित IES परीक्षा में हासिल किया दूसरा रैंक, चला चुके हैं रिक्शा

खान का मानना ​​​​है कि जब कोई ध्यान केंद्रित करता है तो कड़ी मेहनत से सफलता अवश्य मिलती है.

श्रीनगर:

जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) के कुलगाम जिले के एक किसान के बेटे ने संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) द्वारा आयोजित प्रतिष्ठित भारतीय आर्थिक सेवा (Indian Economic Services-IES) परीक्षा में दूसरा रैंक हासिल कर केंद्र शासित प्रदेश का नाम रौशन किया है. अधिकारियों ने बताया कि श्रीनगर से करीब 80 किलोमीटर दूर सुदूर निगीनपोरा कुंड गांव के रहने वाले तनवीर अहमद खान ने प्राथमिक शिक्षा सरकारी प्राथमिक स्कूल कुंड से और बाद में सरकारी हाई स्कूल वाल्तेंगू से प्राप्त की है.

उन्होंने कहा कि खान ने गवर्नमेंट हायर सेकेंडरी स्कूल, रजलू कुंड से कक्षा 12 पास की और 2016 में गवर्नमेंट डिग्री कॉलेज अनंतनाग से बैचलर ऑफ आर्ट्स की डिग्री हासिल की.

अधिकारियों ने बताया कि तनवीर अहमद खान शुरू से ही मेधावी छात्र रहे हैं, उन्होंने कश्मीर विश्वविद्यालय प्रवेश परीक्षा में तीसरा स्थान हासिल किया था और अर्थशास्त्र में स्नातकोत्तर की डिग्री हासिल की थी. खान ने अपनी प्रतिभा को जारी रखते हुए, स्नातकोत्तर कार्यक्रम के अंतिम वर्ष के दौरान जूनियर रिसर्च फेलोशिप (जेआरएफ) हासिल करके एक और उपलब्धि हासिल की थी.

जम्मू कश्मीर विधानसभा चुनाव जब भी हों, उसमें सभी को हिस्सा लेना चाहिए : गुलाम नबी आजाद

जेआरएफ फेलो होने के बाद खान को कोलकाता स्थित इन्स्टीच्यूट ऑफ डेवलपमेंट स्टडीज से अप्रैल 2021 में एम.फिल की डिग्री प्रदान की गई थी. खान ने कोलकाता में सर्दियों में मौसमी रिक्शा चालक के रूप में भी काम किया है. खान का मानना ​​​​है कि जब कोई ध्यान केंद्रित करता है तो कड़ी मेहनत से सफलता अवश्य मिलती है और कुछ भी असंभव नहीं रह जाता.


खान ने कहा, “कोविड अवधि के दौरान, मैंने खुद को अपने कमरे की चार दीवारों तक सीमित कर लिया और एम.फिल करते हुए आईईएस परीक्षा की तैयारी शुरू कर दी. मैंने कभी भी कोविड को अपने अध्ययन के कार्यक्रम को प्रभावित नहीं होने दिया.” खान ने पहले ही प्रयास में ही यह उपलब्धि हासिल की है. उन्होंने कहा कि यह एक कठिन संघर्ष था, लेकिन उन्होंने कभी उम्मीद नहीं छोड़ी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने खान को आईईएस 2020 परीक्षा में दूसरा रैंक हासिल करने पर बधाई दी है.