यूक्रेन में फंसे 470 भारतीय स्‍टूडेंट रोमानिया पहुंचे, विशेष फ्लाइट से लौटेंगे भारत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को रूस के राष्ट्रपति व्लदिमीर पुतिन से बातचीत में भारतीयों की सुरक्षा को मुद्दा उठाया था. उन्होंने कहा कि यूक्रेन में फंसे भारतीयों को सुरक्षित निकलाना भारत की सर्वोच्च प्राथमिकता है.

यूक्रेन में फंसे 470 भारतीय स्‍टूडेंट रोमानिया पहुंचे, विशेष फ्लाइट से लौटेंगे भारत

यूक्रेन में फंसे 470 भारतीय स्‍टूडेंट शुक्रवार को रोमानिया पहुंच गए हैं

नई दिल्ली:

यूक्रेन पर रूस के हमले के बाद वहां फंसे भारतीय लोगों को निकालने की कोशिशें तेज कर दी गई हैं. इन लोगों में स्‍टूडेंट्स की अच्‍छी खासी तादाद है. युद्ध प्रभावित यूक्रेन से भारतीयों की सुरक्षित निकासी के इंतजाम करने की मांग के बीच सरकार ने शुक्रवार को ऐलान किया कि 470 से अधिक भारतीय स्‍टूडेंट्स को रोमानिया के रास्‍ते से यूक्रेन से निकाला जाएगा. ये स्‍टूडेंट रोमानिया पहुंच चुके हैं, इन्‍हें विशेष फ्लाइट से भारत लाया जाएगा. इन स्‍टूडेंट्स ने उनके लौटने की व्‍यवस्‍था के लिए भारत सरकार को धन्‍यवाद दिया यूक्रेन से भारतीयों की सुरक्षित वापसी के लिए प्लान तैयार कर लिया गया है. सूत्रों के मुताबिक, रोमानिया की राजधानी बुखारेस्ट के लिए आज दो उड़ानों को भेजे जाने के आसार हैं, जबकि एक उड़ान कल हंगरी की राजधानी बुडापेस्ट भेजी जाएगी. सूत्रों के अनुसार, विदेश मंत्रालय का कैंप ऑफिस, पश्चिमी यूक्रेन के लीव और चेर्निवत्‍सी में चालू हो गया है. इस कैंप ऑफिसों में रूसी भाषा बोलने वाले कुछ और अधिकारियों को भेजा जा रहा है. अधिकारी, इन शहरों में पहुंचने वाले भारतीय नागरिकों की मदद कर रहे हैं और यूक्रेन से सटी सीमा के जरिये उन्‍हें सुरक्षित बाहर निकालने में मदद करेंगे. 

इससे पहले, सूत्रों ने बताया था कि यूक्रेन में फंसे अपने नागरिकों को निकालने के लिए भारत उड़ानें भेजेगा, जिसका खर्चा सरकार वहन करेगी.रूस के हमले का आज दूसरा दिन है. हमले की वजह से हजारों की संख्या में भारतीय विशेषकर स्टूडेंट्स यूक्रेन में फंस गए हैं. सरकार के सामने सबसे बड़ी चुनौती इस मुल्‍क में फंसे भारतीयों को सुरक्षित निकालने की है, जिसके लिए तमाम प्रयास किए जा रहे हैं. भारत ने यूक्रेन में फंसे अपने नागरिकों को निकालने के लिए हंगरी और पोलैंड की सीमाओं के जरिए सरकारी दलों को भेजा है. भारत के विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने कहा, 'सुरक्षित मार्गों की पहचान कर ली गई है. सड़क मार्ग से, यदि आप कीव से जाते हैं, तो आप नौ घंटे में पोलैंड और लगभग 12 घंटे में रोमानिया पहुंच जाएंगे. सड़क का नक्शा तैयार कर लिया गया है.'

रूस की ओर से हमले का ऐलान करने और प्रमुख शहरों को निशाना बनाए जाने के बाद यूक्रेन ने अपना एयरस्‍पेस वाणिज्यिक उड़ान के लिए बंद कर दिया है. इस कारण यूक्रेन की राजधानी कीव के लिए रवाना हुई एयर इंडिया की फ्लाइट को भी कल वापस लौटना पड़ा था.प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को रूस के राष्ट्रपति व्लदिमीर पुतिन से बातचीत में भारतीयों की सुरक्षा को मुद्दा उठाया था. उन्होंने कहा कि यूक्रेन में फंसे भारतीयों को सुरक्षित निकलाना भारत की सर्वोच्च प्राथमिकता है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


वीडियो: यूक्रेन में फंसे भारतीयों को वापस लाएगी सरकार, उठाएगी सारा खर्च : सूत्र