केंद्र ने दिल्ली सरकार को 750 कोविड आईसीयू बेड देने का वादा किया, अमित शाह और केजरीवाल की हुई बैठक

Delhi coronavirus cases: राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण के हालात पर चर्चा करने के लिए गृह मंत्री अमित शाह और अरविंद केजरीवाल पिछले कुछ महीनों में दो बार मिले

नई दिल्ली:

केंद्र सरकार (Central Government) ने वादा किया है कि वह दिल्ली (Delhi) में कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमितों के इलाज के लिए 750 इन्टेंसिव केयर यूनिट (ICU) बेड उपलब्ध कराएगी. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने रविवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) के साथ बैठक करने के बाद यह बात कही. दिल्ली में कोरोना वायरस का संक्रमण काफी बढ़ने पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने आज शाम को आपात बैठक बुलाई. इसमें मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल सहित कई संबंधित लोग मौजूद थे. यह बैठक गृह मंत्री के नॉर्थ ब्लॉक में स्थित आफिस में शाम को पांच बजे हुई.  

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में कोरोनावायरस (Coronavirus) के मामलों में तेजी आने के बीच आज गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने आपात बैठक (Urgent Meeting) बुलाई. इस बैठक में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal), दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन और दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल भी मौजूद रहे. यह बैठक गृह मंत्री के नार्थ ब्लॉक स्थित कार्यालय में हुई. बताया जा रहा है कि गृह मंत्री दिल्ली में कोरोना के मामलों में आई तेजी को लेकर चिंतित हैं. 

दिल्ली में कोविड से हो रही मौतें, बढ़ता पॉजिटिविटी रेट और अस्पतालों में बेडों की कमी सबसे बड़े मुद्दे थे. दिल्ली सरकार ने केंद्र को बताया कि अगले कुछ दिनों में दिल्ली में ICU बेड की क़िल्लत बढ़ सकती है क्योंकि दिल्ली में हर रोज़ कोविड के मामलों की संख्या बढ़ती जा रही है. रविवार को दिल्ली में एक्टिव केसों की संख्या 44000 से अधिक थी. केंद्र ने भरोसा दिलाया है कि 750 बेड DRDO कॉम्प्लेक्स में दिल्ली सरकार को दिए जाएंगे.

दिल्ली सरकार यह भी कह रही है कि ज़्यादा आंकड़े इसीलिए हैं क्योंकि टेस्टिंग ज़्यादा हो रही है. आने वाले दिनों में यह आंकड़ा सवा लाख से ऊपर हो जाएगा. दिल्ली सरकार का कहना है इस मीटिंग में प्रदूषण पर कोई चर्चा नहीं हुई.

दिल्ली में कोरोना वायरस की स्थिति को लेकर हुई बैठक की अध्यक्षता करने के बाद अमित शाह ने कहा कि कुछ एमसीडी अस्पतालों को समर्पित कोविड अस्पतालों में परिवर्तित किया जाएगा. ऑक्सीजन की सुविधा के साथ बिस्तरों की संख्या बढ़ाने के लिए, दस हजार बिस्तरों वाले छतरपुर कोविड देखभाल केन्द्र को मजबूत किया जाएगा. चिकित्सकों, अर्धसैनिक बलों के अर्द्धचिकित्सकों को उनकी कमी से निपटने के लिए दिल्ली में तैनाती के लिए तुरंत हवाई मार्ग से लाया जाएगा.

अमित शाह ने कहा कि आरटीपीसीआर जांच को दोगुना किया जाएगा, डीआरडीओ केन्द्र में 300 और आईसीयू बिस्तरों की व्यवस्था की जाएगी. अधिक लोगों की जान बचाने के लिए केन्द्र दिल्ली को ऑक्सीजन, उच्च प्रवाह नाक नलिका और अन्य स्वास्थ्य उपकरण प्रदान करेगा. 

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में कोरोनावायरस की स्थिति को लेकर पिछले कुछ महीनों में गृह मंत्री अमित शाह और सीएम केजरीवाल कम से दो बार मुलाकात कर चुके हैं. दिल्ली में 12 दिन पहले से एक बार फिर COVID-19 के रोजाना आने वाले मामलों में तेजी देखी गई है. इस दौरान, रोजाना वायरस से होने वाली मौतों का आंकड़ा भी बढ़ा है. इसे कोरोना की तीसरी लहर भी कहा जाने लगा है. 

राजधानी दिल्ली में शनिवार को पिछले 24 घंटों में 7340 नए कोरोना मामले सामने आए थे. वहीं पिछले 24 घंटों में 7117 मरीज ठीक हुए और 96 मरीजों की मौत हुई थी. दिल्ली के पॉजिटिविटी रेट की बात करें तो यह करीब 15 फ़ीसदी है. वहीं एक्टिव मरीजों की संख्या नई ऊंचाई पर पहुंच गई है. दिल्ली में कोरोना के एक्टिव मामले 44 हजार 456 है जो कि अब तक के सबसे ज़्यादा एक्टिव केस हैं.


दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दीवाली से एक दिन पहले डिजिटल प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा था कि राष्ट्रीय राजधानी में कोरोनावायरस के बढ़ते मामलों की एक बड़ी वजह प्रदूषण है. सीएम ने कहा, "कोरोना के बढ़ते मामलों को लेकर उनकी सरकार चिंतित है और जो भी जरूरी कदम उठाने की आवश्यकता है, उसे उठाया जा रहा है. केजरीवाल ने कहा कि अगले हफ्ते सरकार बहुत सारे कदम उठाएगी, जिसकी चर्चा जारी है. उन्होंने कहा कि दिल्ली में अगले 10 दिनों के अंदर फिर से कोरोना काबू में आ जाना चाहिए."

वीडियो: दिल्ली में पिछले 24 घंटे में सामने आए 7340 नए मामले

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com