UP: प्रयागराज में एक ही परिवार के 4 लोगों की हत्या, 16 साल की दलित बच्ची से गैंगरेप की भी आशंका

पुलिस ने कहा है कि उनके शरीर पर गंभीर चोट के निशान मिले हैं, इसलिए हो सकता है कि उन पर धारदार हथियार से हमला किया गया हो. बच्ची का शव घर के अंदर एक कमरे में मिला था, जबकि अन्य तीन शव आंगन में एक साथ मिले थे.

लखनऊ:

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के प्रयागराज (Pryagraj) में एक ही परिवार के चार लोगों की हत्या कर दी गई है. मृतकों में 16 साल की लड़की और 10 साल का उसका भाई भी शामिल है. बदमाशों ने गुरुवार की सुबह हत्या को अंजाम दिया है. पीड़ित परिवार के रिश्तेदारों, जो अनुसूचित जाति के हैं, ने दावा किया है कि लड़की की हत्या से पहले उसके साथ बलात्कार किया गया होगा.  उन्होंने एक पड़ोसी परिवार पर अपराध का आरोप लगाया है, जो तथाकथित "उच्च जाति" से ताल्लुक रखते हैं.

पुलिस ने 11 नामजद लोगों के खिलाफ सामूहिक दुष्कर्म और हत्या सहित अन्य आरोपों में प्राथमिकी दर्ज की है. प्रयागराज पुलिस प्रमुख ने मीडिया को बताया कि कुछ लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में भी लिया गया है.

कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा, जो राज्य की पार्टी प्रभारी हैं, दोपहर प्रयागराज पहुंचने वाली हैं. इस दौरान मारे गए लोगों के परिजनों से वाड्रा के मिलने की उम्मीद है. मृतकों में 50 वर्षीय व्यक्ति, उसकी 45 वर्षीय पत्नी और उनके दोनों बच्चों के शव उनके घर पर मिले थे.

पुलिस भर्ती परीक्षा देकर लौट रही युवती से सामूहिक बलात्कार, आरोपी से सोशल मीडिया पर हुई थी दोस्ती

पुलिस ने कहा है कि उनके शरीर पर गंभीर चोट के निशान मिले हैं, इसलिए हो सकता है कि उन पर धारदार हथियार से हमला किया गया हो. बच्ची का शव घर के अंदर एक कमरे में मिला था, जबकि अन्य तीन शव आंगन में एक साथ मिले थे.

पीड़ित परिवार के एक सदस्य ने मीडिया को बताया कि पड़ोस के "उच्च जाति" के एक परिवार से मृतक परिवार का भूमि विवाद 2019 से चल रहा था, और दावा किया कि पीड़ितों पर सितंबर में भी उस परिवार द्वारा हमला किया गया था. हालांकि, परिवार के सदस्यों ने आरोप लगाया कि पुलिस मामले में समझौता कराने की कोशिश कर रही थी.

परिवार के सदस्य ने मीडिया को बताया, "पुलिस हत्या के पीड़ित परिवार को समझौता करने के लिए मजबूर कर रही थी. सुशील कुमार (एक पुलिस कांस्टेबल) हमारे पास आते थे और हम पर समझौता करने के लिए दबाव डालते थे. पुलिस उनके (आरोपी) घरों में बैठती थी. स्थानीय पुलिस इन्स्पेक्टर ने हमें समझौता करने के लिए भी कहा था."

मृत घोष‍ित किए जाने के बाद मुर्दाघर के डीप फ्रीजर में रखा गया था शख्‍स का शव, अगले दिन मिला जिंदा...


परिवार के सदस्य ने आगे कहा, "21 सितंबर को परिवार को पीटा गया था, लेकिन एक सप्ताह के बाद प्राथमिकी दर्ज की जा सकी थी, और बाद में पीड़ित परिवार के खिलाफ भी काउंटर एफआईआर दर्ज की गई थी."

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इधर, प्रयागराज के पुलिस प्रमुख सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी ने एक वीडियो बयान में कहा, "ऐसा प्रतीत होता है कि चारों के सिर पर कुल्हाड़ी से वार किया गया था. शरीर पर गंभीर चोट के निशान हैं. प्रारंभिक जानकारी बताती है कि 2019 और 2021 में उन्होंने भूमि विवाद से संबंधित कुछ लोगों के खिलाफ एससी / एसटी अधिनियम के तहत मामला दर्ज कराया था. परिवार ने आरोप लगाया था कि उन मामलों में कोई प्रगति नहीं हुई थी. हम सख्त कार्रवाई करेंगे."