रजनी पाटिल सहित पांच सदस्यों ने ली राज्यसभा की सदस्यता की शपथ

रजनी ने मराठी में शपथ ली. वह 2013-18 के दौरान भी राज्यसभा की सदस्य रह चुकी हैं. महाराष्ट्र में परंपरा रही है कि वर्तमान सांसद का निधन होने पर रिक्त हुई सीट के लिए चुनाव निर्विरोध होता है.

रजनी पाटिल सहित पांच सदस्यों ने ली राज्यसभा की सदस्यता की शपथ

राज्यसभा में रजनी पाटिल ने मराठी में शपथ ली. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्ली:

संसद का शीतकालीन सत्र शुरू होने पर सोमवार को राज्यसभा में रजनी अशोक राव पाटिल तथा चार अन्य नवनिर्वाचित सदस्यों को उच्च सदन की सदस्यता की शपथ दिलाई गई. राज्यसभा की बैठक शुरू होने पर इन सदस्यों ने शपथ ली. कांग्रेस की रजनी पाटिल ने सबसे पहले शपथ ली. वह उच्च सदन में महाराष्ट्र का प्रतिनिधित्व करेंगी. रजनी (63) अपने भाई और सदन के सदस्य राजीव सातव (कांग्रेस) का मई में कोरोना वायरस के संक्रमण के बाद उत्पन्न जटिलताओं से निधन होने की वजह से रिक्त हुई सीट पर महाराष्ट्र से उच्च सदन के लिए निर्वाचित हुई हैं.

रजनी ने मराठी में शपथ ली. वह 2013-18 के दौरान भी राज्यसभा की सदस्य रह चुकी हैं. महाराष्ट्र में परंपरा रही है कि वर्तमान सांसद का निधन होने पर रिक्त हुई सीट के लिए चुनाव निर्विरोध होता है. इसे देखते हुए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने अपने सदस्य संजय उपाध्याय का नाम वापस ले लिया और रजनी उच्च सदन के लिए निर्विरोध निर्वाचित हुईं. रजनी के बाद द्रविड़ मुनेत्र कषगम (डीएमके) के तमिलनाडु से नवनिर्वाचित सदस्य कनिमोझी एन.वी.एन सोमू, के.आर.एन. राजेश कुमार और एम.एम.अब्दुल्ला ने भी शपथ ली.


इन तीनों सदस्यों ने तमिल में शपथ ली. तीनों के शपथ लेने के बाद राज्यसभा में अब द्रमुक के सदस्यों की संख्या दस हो गई है. कनिमोझी एन.वी.एन. सोमू पूर्व केंद्रीय मंत्री एन.वी.एन. सोमू की पुत्री हैं. तृणमूल कांग्रेस के लुइजिन्हो फालेयरो ने कोंकणी में शपथ ली. फालेयरो उच्च सदन में पश्चिम बंगाल का प्रतिनिधित्व करेंगे. इससे पहले सभापति ने बैठक शुरू होने पर राज्यसभा के नए महासचिव पी सी मोदी का सदस्यों से परिचय कराया.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) के पूर्व अध्यक्ष प्रमोद चंद्र मोदी ने 12 नवंबर को राज्यसभा के नए महासचिव का पदभार ग्रहण किया. राज्यसभा के महासचिव, सचिवालय के प्रशासनिक प्रमुख तथा सभापति की ओर से और उनके नाम से संचालित सभी प्रशासनिक और अधिशासी कार्यों के समग्र प्रभारी होते हैं.



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)