दिल्ली पुलिस हेडक्वार्टर के बाहर पुलिसवालों ने लगाए नारे, 'हमारा कमिश्नर कैसा हो, किरण बेदी जैसा हो'

तीस हज़ारी कोर्ट में शनिवार को वकीलों और पुलिस के बीच हुए झड़प के दो दिन बाद मंगलवार को पुलिस हेडक्वार्टर (PHQ) के बाहर दिल्ली पुलिस ने विरोध प्रदर्शन किया.

दिल्ली पुलिस हेडक्वार्टर के बाहर पुलिसवालों ने लगाए नारे, 'हमारा कमिश्नर कैसा हो, किरण बेदी जैसा हो'

पुलिस के लोगों ने किरण बेदी की तस्वीर हाथ में लेकर नारे लगाए

खास बातें

  • वकीलों और पुलिस के झड़प का मामला
  • पीएचक्यू के बाहर दिल्ली पुलिस का विरोध प्रदर्शन
  • किरण बेदी की तस्वीर वाले पोस्टर भी दिखे
नई दिल्ली:

तीस हज़ारी कोर्ट में शनिवार को वकीलों और पुलिस के बीच हुए झड़प के दो दिन बाद मंगलवार को पुलिस हेडक्वार्टर (PHQ) के बाहर दिल्ली पुलिस ने विरोध प्रदर्शन किया. पुलिसवाले वर्दी में सड़कों पर उतर आए. इस दौरान आईटीओ स्थित दिल्ली पुलिस हेडक्वार्टर के बाहर कुछ पुलिस के लोगों ने किरण बेदी की तस्वीर हाथ में लेकर नारे लगा रहे थे, ''हमारा सीपी (कमिश्नर ऑफ पुलिस) कैसा हो, किरण बेदी जैसा हो.'' किरण बेदी के पोस्टर के साथ 'वी नीड यू' (हमें आपकी जरूरत है) का कैप्शन लिख रखा था.

तीस हजारी कोर्ट हिंसा: वर्दी में दिल्ली पुलिस का विरोध, पुलिस कमिश्नर बोले- ड्यूटी पर वापस जाएं, हमें अनुशासन रखना है

बताते चले कि तीस हज़ारी कोर्ट में शनिवार को वकीलों और पुलिस की झड़प का विवाद थमता नज़र नहीं आ रहा है. मंगलवार को दिल्ली पुलिस वर्दी में सड़कों पर उतर कर विरोध प्रदर्शन कर रही है. सोमवार को वकीलों ने कामकाज बंद रखा था और इस दौरान उनकी गुंडागर्दी भी सामने आई थी. दिल्ली की अलग-अलग अदालत परिसरों में पुलिस और मीडिया के अलावा आम लोगों के साथ मारपीट की गई थी. इधर बार काउंसिल ने वकीलों से जल्द से जल्द काम पर लौटने की अपील की है.

आईटीओ स्थित दिल्ली पुलिस हेडक्वार्टर के बाहर प्रदर्शन कर रहे पुलिसकर्मियों ने 'हमें न्याय चाहिए' के नारे लगाए और कहा कि हमें असुरक्षा का एहसास हो रहा है. प्रदर्शन कर रहे पुलिसकर्मियों से दिल्ली पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक ने मुलाकात की.


तीस हजारी कोर्ट हिंसा: पुलिस और वकीलों के बीच कैसे शुरू हुआ था विवाद, सामने आया उस दिन का CCTV फुटेज

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इस दौरान पुलिस कमिश्नर ने पुलिसकर्मियों से कहा, 'आप सभी शांति बनाए रखें. सरकार और जनता को हमसे उम्मीदें है. हमारे लिए परीक्षा, अपेक्षा और प्रतीक्षा की घड़ी है. आप सभी ड्यूटी पर वापस जाए. इस मसले पर न्यायिक जांच चल रही है. हमें अनुशासन बनाए रखना है. पहले से हालात बेहतर हो रहे हैं.'