आंध्र प्रदेश में 'रहस्‍यमय बीमारी' की जांच के लिए पहुंचे दिल्‍ली से विशेषज्ञ

सोमवार को जारी रिपोर्ट में बताया गया है कि बीमारी के लक्षणों में तीन से पांच मिनट तक मिर्गी जैसी स्थिति, उल्‍टी, सिरदर्द और पीठ में दर्द शामिल है

आंध्र प्रदेश में 'रहस्‍यमय बीमारी' की जांच के लिए पहुंचे दिल्‍ली से विशेषज्ञ

प्रतीकात्‍मक फोटो

खास बातें

  • इस समय करीब 500 लोगों का चल रहा इलाज
  • 45 साल के शख्‍स की बीमारी से हुई है मौत
  • मिर्गी का दौरा, उलटी और शरीर में दर्द जैसे लक्षण
नई दिल्ली:

आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh) के एक कस्‍बे में सैकड़ों लोगों का एक 'रहस्‍यमय बीमारी' (Mystery Illness) के चलते अस्‍पताल में इलाज हो रहा है. इस बीमारी के कारण लोगों में जनता में डर की स्थिति (मास हिस्टीरिया)है. सरकार ने बीमारी की जांच के लिए मेडिकल विशेषज्ञों की टीम को आंध्र प्रदेश के एलरू भेजा है, जहां यह बीमारी सबसे पहले शनिवार को सामने आई, इसके कारण लोगों को दौरा पड़ने, घबराहट, मतली और शरीर में तेज दर्द महसूस होता है. 

आंध्र प्रदेश में रहस्यमय बीमारी से दहशत, 290 लोग बीमार एक की मौत


अधिकारियों के अनुसार, करीब 500 लोगों का इलाज चल रहा है, इसमें से ज्‍यादातर ठीक हो रही है लेकिन सप्‍ताह के अंत में 45 साल के एक शख्‍स की मौत का कारण इसी रहस्‍यमय बीमारी को माना गया. एलुरु के सरकारी अस्‍पताल के वरिष्‍ठ डॉक्‍टर एएस राम कहते हैं, 'कुछ लोग कह रहे हैं कि यह जनता में डर की मौजूदगी के कारण है, लेकिन ऐसा नहीं है.' उन्‍होंने कहा कि ज्‍यादातर मरीजों में वास्‍तविक लक्षण दिखे हैं लेकिन 'हम पता नहीं लगा पा रहे कि इसका कारण क्‍या है.' कुछ अन्‍य अधिकारी कीटनाशक में मौजूद कैमिकल को इस बीमारी के लिए जिम्‍मेदार मान रहे हैं जबकि लोगों के अनुसार, कचरे और जंगली सूअरों के कारण यह स्थिति बनी है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


सोमवार को जारी रिपोर्ट में बताया गया है कि बीमारी के लक्षणों में तीन से पांच मिनट तक मिर्गी जैसी स्थिति, उल्‍टी, सिरदर्द और पीठ में दर्द शामिल है बीमारी में लोग अचानक से चक्कर आने के बाद बेहोश भी हो रहे हैं.आंध्र प्रदेश के नेल्लोर जिले से ताल्लुक रखने वाले उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने सोमवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन से इस बारे में बातचीत की थी. एलुरु में बड़ी संख्या में बच्चों समेत अन्य लोगों को इस रहस्यमयी बीमारी का पता चलने के बाद अस्पतालों में भर्ती कराया गया था. 



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)