VIDEO :'आज तक अमित शाह को देखा भी नहीं, फिर भी की मेरी मदद', दिग्विजय सिंह ने बताया वाकया

सिंह ने कहा,  "अधिकारी ने बताया कि हमें अमित शाह जी का निर्देश है कि दिग्विजय सिंह जी की नर्मदा परिक्रमा के दौरान हर प्रकार की व्यवस्था की जाए. उन्हें कोई तकलीफ न हो. इसी प्रकार नर्मदा परिक्रमा के पड़ाव के दौरान राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ताओं ने भी हमारा सहयोग किया."

नई दिल्ली:

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) ने केंद्रीय गृह मंत्री और बीजेपी के नेता अमित शाह (Amit Shah) की तारीफ की है और कहा है कि वो उनसे कभी मिले भी नहीं बावजूद इसके उन्होंने उनकी मदद की थी. एक सभा में दिग्विजय सिंह ने अपनी नर्मदा परिक्रमा का वाकया साझा करते हुए ये बातें कहीं.

अपने अनुभवों पर आधारित एक पुस्तक के विमोचन के मौके पर दिग्विजय सिंह ने कहा, "नर्मदा यात्रा के दौरान एक बार हम रात 10:30 बजे गुजरात पहुंचे. वह वन क्षेत्र था और वहां से आगे कोई रास्ता नहीं था और रात भर ठहरने की कोई सुविधा भी नहीं थी. इसी बीच एक फॉरेस्ट अफसर आया और आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि उसने मुझे बताया कि अमित शाह ने उसे हमारे साथ पूरा सहयोग करने का निर्देश दिया था."

'जोधाबाई, अकबर में कोई 'आई लव यू' नहीं था, सत्ता के लिए बेटी को...', बीजेपी MLA के बयान पर बवाल

 सिंह ने कहा,  "अधिकारी ने बताया कि हमें अमित शाह जी का निर्देश है कि दिग्विजय सिंह जी की नर्मदा परिक्रमा के दौरान हर प्रकार की व्यवस्था की जाए. उन्हें कोई तकलीफ न हो. इसी प्रकार नर्मदा परिक्रमा के पड़ाव के दौरान राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ताओं ने भी हमारा सहयोग किया. वैसे मैं हमेशा से संघ का आलोचक रहा हूं, फिर भी उन्होंने हमारी मदद की."

कांग्रेस नेता ने कहा कि उस वक्त वहां गुजरात में चुनाव चल रहा था. दिग्विजय सिंह उनका सबसे बड़ा आलोचक है. फिर भी उन्होंने हमारी मदद की. उन्होंने कहा, "अधिकारियों ने पहाड़ों का रास्ता काटा. हमारे सभी साथियों के लिए भोजन की व्यवस्था की." 

'..तो 2028 में बराबर हो जाएगी हिन्दू-मुस्लिम आबादी', दिग्विजय सिंह ने समझाया गणित, देखें- VIDEO

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


सिंह ने कहा कि आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि आजतक अमित शाह जी से मेरी वन-टू वन भेंट नहीं हुई है. बावजूद इसके उन्होंने हमारी मदद की.  उन्होंने कहा कि यही राजनीतिक शूचिता, समन्वय, सामंजस्य और मित्रता का एक प्रमाण है, जिसे हमलोग कभी-कभी भूल जाते हैं.