पंजाब के दो जिलों में दो दिन चलेगा कोरोना वैक्सीन का ड्राई रन: पंजाब के स्वास्थ्य मंत्री

मंत्री ने कहा कि टीकाकरण का ड्राई रन यूएनडीपी और डब्ल्यूएचओ जैसे साझेदारों के साथ चलाया जाएगा. उन्होंने कहा कि यह अभियान चार राज्यों आंध्र प्रदेश, असम, गुजरात और पंजाब में चलाया जाना प्रस्तावित है.

पंजाब के दो जिलों में दो दिन चलेगा कोरोना वैक्सीन का ड्राई रन: पंजाब के स्वास्थ्य मंत्री

केंद्र सरकार ने पंजाब के दो जिलों को 28 और 29 दिसंबर को COVID-19 वैक्सीन के ड्राई रन के लिए लिए चुना है.

खास बातें

  • पंजाब के दो जिलों में केंद्र की मदद से कोविड-19 वैक्सीन का ड्राई रन
  • 28 और 29 दिसंबर को चलेगा टीकाकरण का ट्रायल
  • राज्य के स्वास्थ्य मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू ने दी जानकारी
चंडीगढ़:

पंजाब (Punjab) के स्वास्थ्य मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू ने गुरुवार को कहा कि केंद्र सरकार ने पंजाब के दो जिलों को 28 और 29 दिसंबर को COVID-19वैक्सीन के ड्राई रन के लिए लिए चुना है. ये दोनों जिले लुधियाना और शहीद भगत सिंह नगर हैं. चंडीगढ़ में राज्य सरकार द्वारा जारी एक बयान में इसकी पुष्टि भी की गई है. सिद्धू ने कहा कि इस ड्राई रन का उद्देश्य मौजूदा स्वास्थ्य व्यवस्था ते तहत टीकाकरण को लागू करने के तरीकों का परीक्षण करना है.

मंत्री सिद्धू ने कहा, "ड्राई रन से स्वास्थ्य व्यवस्था की किसी भी खामी या अड़चनों का पता चल सकेगा ताकि COVID-19 टीकाकरण शुरू होने से पहले उसे दूर किया जा सके. ये ड्राई रन जिला कलेक्टर / मजिस्ट्रेट के पूर्ण नेतृत्व में एक या दो जिलों में संचालित किया जाएगा."

ब्रिटेन से लौटे दो यात्री कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद दिल्ली से भागे, पंजाब और आंध्र में मिले

मंत्री ने कहा कि टीकाकरण का ड्राई रन यूएनडीपी और डब्ल्यूएचओ जैसे साझेदारों के साथ चलाया जाएगा. उन्होंने कहा कि यह अभियान चार राज्यों आंध्र प्रदेश, असम, गुजरात और पंजाब में चलाया जाना प्रस्तावित है.


Coronavirus India Updates: कोविड-19: पंजाब में और 17 लोगों की मौत, 373 नए मामले

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इस बीच, इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च ने कहा है कि कोविड-19 के लिए भारत में बनाई गई वैक्सीन Covaxin ने पूरी दुनिया का ध्यान खींचा है. ICMR ने एक ट्वीट में कहा कि 'भारत की स्वदेश निर्मित ICMR-Bharat Biotech की सहभागिता से बनाई गई कोविड-19 वैक्सीन Covaxin ने एक और उपलब्धि हासिल की है. भारत में इसपर इकट्ठा किए गए डेटा इसकी सुरक्षा और प्रतिरोध बढ़ाने वाली क्षमता को साबित करते हैं और Lancet इसे पब्लिश करने में दिलचस्पी रखता है.'